Breaking News

ध्वनि से दस गुना तेज मिसाइल का परीक्षण करके रशियन राष्ट्राध्यक्ष ने तीसरे विश्वयुद्ध की तैयारी दर्शाई- ब्रिटेन

मॉस्को: ध्वनि से दस गुना तेज ‘किंझाल’ (डॅगर) इस नए हाइपरसोनिक मिसाइल का परीक्षण करके रशिया ने फिर एक बार दुनिया में खलबली मचादी है| रशिया के राष्ट्राध्यक्ष व्लादिमिर पुतिन के विस्फोटक विधानों की पृष्ठभूमि पर रशिया ने किया हुआ यह परीक्षण ध्यान आकर्षित करने वाला है| ‘किंझाल’ मिसाइल का परीक्षण करके रशियन राष्ट्राध्यक्ष ने वह तीसरा विश्वयुद्ध छेड़ सकते हैं, यह पूरी दुनिया को दिखा दिया है, ऐसा दावा ब्रिटन के एक दैनिक ने किया है|

रविवार को रशिया ने ‘किंझाल’ (डॅगर) इस नए हाइपरसोनिक मिसाइल का परीक्षण करने की जानकारी रक्षा मंत्रालय ने दी| ‘मिग-३१’ इस ‘सुपरसोनिक इंटरसेप्टर’ लड़ाकू विमान से ‘किंझाल’ का परीक्षण किया गया है और उसकी गति ध्वनि से लगभग १० गुना होने का दावा किया जा रहा है|

‘रशिया के साउथ डिस्ट्रिक्ट से मिग-३१ लड़ाकू विमान से हाई प्रिसिजन किंझाल मिसाइल यंत्रणा का परीक्षण किया| योजना के अनुसार परीक्षण पूरा हुआ और लक्ष्य को सटीक भेदने में मिसाइल सफल हुआ है| किंझाल मिसाइल यंत्रणा ने सभी निकष पूरे किए हैं’, इन शब्दों में राशियन रक्षा मंत्रालय ने हाइपरसोनिक मिसाइल परीक्षण की जानकरी दी है| ‘किंझाल हाइपरसोनिक मिसाइल’ की गति प्रति घंटा १२ हजार ३९० किलोमीटर से अधिक है और मिसाइल ने दो हजार किलोमीटर से अधिक दूरी के लक्ष्य को भेदने का दावा किया गया है|

‘किंझाल’ मिसाइल परीक्षण का विडियो प्रदर्शित किया गया है और उसमें पायलट ‘मिग-३१’ में चढने की और मिसाइल दागने के दृश्य हैं्| रविवार को परीक्षण करने से पहले ‘मिग-३१’ ने ‘किंझाल’ मिसाइल के साथ लग लगभग २५० बार उड़ान भरने की जानकारी भी रशियन रक्षा मंत्रालय ने दी है| परीक्षण लेने से पहले ही सदर मिसाइल रशिया के ‘साउथ मिलिट्री डिस्ट्रिक्ट’ में तैनात ‘मिग-३१’ पथक में शामिल किया गया है| ‘किंझाल हाइपरसोनिक मिसाइल’ ‘मिसाइलभेदी यंत्रणाओं’ को गुमराह करके जमीन और समुद्री क्षेत्र के लक्षों को भेद सकता है, ऐसा दावा भी रशिया ने किया है|

अपने पहले के भाषण में ‘किंझाल’ मिसाइल के बारे में बोलते समय राष्ट्राध्यक्ष पुतिन ने यह सर्वोत्तम हथियार होने का दावा किया था| साथ ही यह मिसाइल रशिया की दक्षिण में तैनात किया गया है, ऐसा भी पुतिन ने कहा था| ‘रशिया ने आज तक उपस्थित किए मुद्दों को और आक्षेप को पश्चिमियों ने पूरी तरह से नजरअंदाज किया है| लेकिन अब उनको रशिया की सुननी ही पड़ेगी’, ऐसा कहकर राष्ट्राध्यक्ष पुतिन ने रशिया के अतिप्रगत मिसाइलों की क्षमता पर भरोसा जताया है|

दौरान, ‘किंझाल’ का परीक्षण करके रशियन राष्ट्राध्यक्ष ने तीसरा विश्वयुद्ध छेड़ने का ‘संदेश’ पूरे विश्व को देने का दावा ‘डेली मेल’ नाम के ब्रिटन के दैनिक ने किया है|

 

(Courtesy: www.newscast-pratyaksha.com)

leave a reply