Breaking News

खाडी क्षेत्र की आतंकी कार्रवाईयों के लिए हिजबुल्लाह से व्हेनेजुएला में सोने का खनन

मियामी – अमरिका ने आर्थिक प्रतिबंध लगाकर ईरान और हिजबुल्लाह की नसें दबाई है। लेकिन इन मुश्किलों से बाहर निकलने के लिए हिजबुल्लाह लैटिन अमरिका के व्हेनेजुएला में सोने का खनन कर रहा है। वहां की कुछ सोने की खदानों पर हिजबुल्लाह ने वर्चस्व बनाया है और इस आतंकी संगठन से इन खदानों में अवैध तरीके से सोने का खनन शुरू होने का आरोप व्हेनेजुएला के एक बडे नेताने रखे है। व्हेनेजुएला के राष्ट्राध्यक्ष निकोलस मदूरो इनके भी हिजबुल्लाह की इस तस्करी को समर्थन है, यह कहकर इस नेताने खलबली मचाई है।

हिजबुल्लाह, सोने का खनन, निकोलस मदूरो, आतंकी संगठन, आरोप, ww3, व्हेनेजुएला, बोलिव्हर

व्हेनेजुएला के विपक्ष नेता ‘अमरिको दी ग्राझिया’ इन्होंने एक समाचार पत्र से बात करते समय मदूरो सरकार पर जमकर आरोप किए। कुछ दिनों पहले राष्ट्राध्यक्ष मदूरो इनकी ‘ओरीनोको मायनिंग आर्क’ इस कंपनी ने ‘बोलिव्हर’ राज्य के खदानों में खनन करने के लिए बडे प्रोजेक्ट शुरू किए है। व्हेनेजुएला की लगभग १२ प्रतिशत खनिजों का खनन करने का कंत्राट मदूरो इनकी कंपनी ने प्राप्त किया है। मदूरो इनके इस कंत्राट पर प्रश्‍न उपस्थित किए जा रहे है, तभी विपक्ष नेता ग्राझिया इन्होंने व्हेनेजुएला के राष्ट्राध्यक्षों के व्यवहार पर भी सवाल किया है।

ईरान का समर्थन प्राप्त ‘हिजबुल्लाह’ यह संगठन और ‘नैशनल लिबरेशन आर्मी’ इस कोलंबिया की आतंकी संगठन को भी मदूरो सरकार ने वहा खदानों में खनन करने के हक प्रदान किए है, यह आरोप गाझिया इन्होंने किया है। वहां सोने की दो खदानों का मालिकाना हक हिजबुल्लाह के पास होने का दावा ग्राझिया कर रहे है। हिजबुल्लाह के बनाए इस सहयोग की वजह से व्हेनेजुएला की सरकार को बडा आर्थिक लाभ होगा, यह दावा मदूरो सरकार कर रही है। लेकिन, बोलिव्हर राज्य के खनिजों से भरी खदानों का मालिकाना हक हिजबुल्लाह को प्रदान करके मदूरो सरकार ने इस आतंकी संगठन की सहायता की है, यह आरोप ग्राझिया इन्होंने ने किया है।

विश्‍व में सबसे अधिक सोने के भंडार उपलब्ध होने वाले कुछ गिने चुने देशों में व्हेनेजुएला का समावेश होता है। सोने के साथ ही हिरा, कोल्टन, बोक्साइट और ऐसी अन्य दुर्लभ खनिजों का बडा भंडार व्हेनेजुएला में है। केवल बोलिव्हर में सात हजार टन इतनी खनिज संपत्ती मौजुद होने का दावा होता है।

लेकिन, राष्ट्राध्यक्ष मदूरो अपनी कंपनी के आडे विदेशी कंपनीयों के साथ समझौते करके इस खनिजों की लूट कर रहे है, यह आरोप विपक्ष कर रहे है। देश की अर्थव्यवस्था का सुधार करने के बजाए मदूरो खुदकी तिजोरी भरने के लिए विदेशी कंपनीयों को खनिजों का खनन करने का कंत्राट बहाल कर रहे है, यह विपक्षी नेताओं का कहना है। ऐसी ही एक कंत्राट के लिए व्हेनेजुएला के वरिष्ठ मंत्री ने तुर्की की यात्रा करके सोने का खनन करने के संबंधी समझौता किया है।

इस दौरान, अमरिका और अंतरराष्ट्रीय समुदाय ने हिजबुल्लाह कोो आतंकी संगठन घोषित करके पहले ही आर्थिक प्रतिबंध लगाए है। वही, अमरिका ने भी ईरान पर कडे आर्थिक प्रतिबंध लगा कर हिजबुलाह को प्राप्त हो रही आर्थिक सहायता की नसें दबाई थी। अमरिका के प्रतिबंधों की वजह से ईरान की अर्थव्यवस्था पर बना भार बढने के बाद हिजबुल्लाह को प्राप्त हो रही आर्थिक सहायता में कटौती होगी, ऐसा कहा जा रहा था। लेकिन ईरान का सहयोगी देश बने?व्हेनेजुएला ने हिजबुल्लाह को सोने की खदानों का मालिकाना हक प्रदान करके ईरान की परेशानियां दूर करने की कोशिश की है, यह आरोप करना मदूरो इनके विरोधीयों ने शुरू किया है।

 English   मराठी

इस समाचार के प्रति अपने विचार एवं अभिप्राय व्यक्त करने के लिए नीचे क्लिक करें:

https://twitter.com/WW3Info
https://www.facebook.com/WW3Info