Breaking News

पारंपरिक युद्ध में भारत को हराना नामुमकिन होने का शत्रु को एहसास – भारतीय वायु सेना प्रमुख की पाकिस्तान को फटकार

पोखरण – ‘पारंपरिक युद्ध में हम भारत को पराभूत नही कर सकते, इसका शत्रु को एहसास है। क्यों की शत्रु को सबक सिखाने की, उनके सरहद में घुंसकर कार्रवाई करने की हमारी क्षमता हमने दिखाई है’, ऐसा भारतीय वायु सेना प्रमुख एअरचीफ मार्शल बी.एस.धनोआ इन्होंने कहा है। राजस्थान के पोखरण क्षेत्र में भारतीय वायु सेना ‘वायु शक्ति-२०१९’ युद्धाभ्यास कर रही है। इस दौरान भारतीय वायु सेना प्रमुख ने पाकिस्तान को अप्रत्यक्ष फटकार लगाई है। साथ ही वायु सेना किसी भी चुनौती के लिए तैयार है, ऐसा वायु सेना प्रमुख धनोआ ने कहा है।

पोखरण में शुरू हुए ‘वायु शक्ति-२०१९’ युद्धाभ्यास में वायु सेना ने लडाकू जॅग्वार, सुखोई, मिराज-२०००, ‘एएन-३२’, ‘सी-१३०’ विमान उतारे है। भारतीय वायु सेना के १३७ लडाकू विमानों के साथ ‘एमआई-१७’ और ‘एमआई-३५’ हेलिकाप्टर्स भी इस युद्धाभ्यास में शामिल किए गए थे। ‘वायु शक्ति-२०१९’ के साथ पहली बार ‘मिग-२९’ लडाकू विमान युद्धाभ्यास में शामिल किए थे।

पाकिस्तान की सीमा के नजदीक शुरू यह युद्धाभ्यास पुलवामा में हुए आतंकी हमले की पृष्ठभूमि पर होने से अहम साबित हो रहा है। इस दौरान वायु सेना के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित रहे।

इस अवसर पर बोलते समय भारतीय वायु सेना प्रमुखने पाकिस्तान को लक्ष्य किया। ‘सियासी नेतृत्व जो जिम्मेदारी देगा, उसके नुसार जिम्मेदारी निभाने के लिए वायु सेना हर समय तैयार है और दी हुई जिम्मेदारी को अंजाम देने के लिए वायु सेना हमेशा तैयारी रहेगी’, ऐसा वायु सेना प्रमुख धनोआ ने कहा है।

भारतीय वायु सेना ने अपनी क्षमता समय समय पर सिद्ध की है। दिन हो या रात, प्रतिकूल परिस्थिति में भी हमला करने की क्षमता वायु सेना रखती है, ऐसा कहकर उन्होंने पाकिस्तान को परिणामों का एहसास कराया।

पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इन्होंने जवाबी कार्रवाई करने के लिए भारतीय सुरक्षा बलों को पूरी आजादी देने का ऐलान किया था। इस पृष्ठभूमि पर भारतीय वायु सेना ने किए इस वक्तव्य की अहमियत है।

English  मराठी

 

इस समाचार के प्रति अपने विचार एवं अभिप्राय व्यक्त करने के लिए नीचे क्लिक करें:

https://twitter.com/WW3Info
https://www.facebook.com/WW3Info