Breaking News

फ्रान्स के ‘डिजिटल टैक्स’ के विरोध में अमरिका ने दिया व्यापारयुद्ध का इशारा

वॉशिंगटन – माहिती एवं तकनीकी क्षेत्र की बडी कंपनियों से प्राप्त किए जा रही बडी आय पर कर लगाने का निर्णय फ्रान्स ने किया है| गुरूवार के दिन फ्रेंच संसद ने अमरिका की ‘गुगल’, ‘एमेझॉन’, ‘एपल’, ‘फेसबुक’ और ‘माइक्रोसॉफ्ट’ समेत अन्य कंपनियों पर तीन प्रतिशत कर लगाने के लिए जरूरी विधेयक मंजूर किया| फ्रेंच संसद के इस विधेयक पर अमरिका ने पहले ही नाराजगी व्यक्त की है और इसके विरोध में कर लगाने का इशारा दिया है| अमरिका की इस चेतावनी के साथ ही अमरिका और फ्रान्स के बीच व्यापारयुद्ध शुरू होने के संकेत प्राप्त हो रहे है|

पीछले कुछ वर्षों से दुनियाभर में माहिती एवं तकनीकी क्षेत्र की बडी कंपनियों से प्राप्त हो रही आय, उनका मुनाफा और कर चोरी करने के मुद्दे लगातार चर्चा में है| यूरोपिय महासंघ ने इस पर आग्रही भूमिका अपनाई है, फिर भी सदस्य देशों में बने मतभेदों की वजह से इन कंपनियों पर कर लगाने के प्रस्ताव पर अभी निर्णय नही हो सका है| ऐसे में दुसरी ओर ‘बिग टेक’ के तौर पर जाने जा रही माहिती एवं तकनीकी क्षेत्र की प्रमुख कंपनिया बाजार में एकाधिकार स्थापित करने की कोशिश में होने की बात पर आलोचना भी हो रही है|

फ्रेच संसद ने मंजूर किए विधेयक के नुसार जागतिक स्तर पर ७५ करोड यूरो से अधिक आय होनेवाली और फ्रान्स में कम से कम ढाई करोड यूरो महसूल प्राप्त कर रही माहिती एवं तकनीकी क्षेत्र की कंपनियों पर तीन प्रतिशत कर लगाया जाएगा| इस कर वसुली पर वर्तमान वर्ष के शुरू से अमल होगा| इस कर वसुली से सरकार को हर वर्ष ५० करोड यूरो की आय होगी, यह दावा संसद में मंजूर किए गए विधेयक में किया गया है|

फ्रेंच सरकार के इस कर वसुली पर अमरिका ने पहले ही नाराजगी व्यक्त की है और कार्रवाई का इशारा भी दिया है| अमरिका के व्यापार प्रतिनिधी रॉबर्ट लाइथायझर ने फ्रान्स से अमरिकी कंपनियों पर लगाए जा रहे करों की जांच होगी, यह इशारा दिया है| फ्रान्स सरकार ने अमरिकी कंपनियों को लक्ष्य करने के लिए ही यह कर लगाने का प्रावधान किया है, यह आरोप भी अमरिकी प्रतिनिधियों ने किया है| अमरिकी संविधान के ‘सेक्शन ३०१’ के नुसार फ्रान्स ने लगाए करों की एवं उसके असर की जांच की जाएगी| यह कर गलत व्यापारी रवैये का हिस्सा होने की बात स्पष्ट हुई तो फ्रान्स के विरोध में कर लगाया जा सकता है, यह संकेत भी लाइथायझर ने दिए है|

फ्रान्स ने लगाए करों की वजह से अमरिका और यूरोप में शुरू व्यापारयुद्ध और भी तीव्र होने के संकेत प्राप्त हुए है| जागतिक व्यापार संगठन के एक मामले पर अमरिका ने यूरोपिय कंपनियों पर करीबन १० अरब डॉलर्स से भी?अधिक कर लगाया है| इससे पहले यूरोप से आयात हो रहे पोलाद और अन्य उत्पाद पर भी कर लगाया गया है| यूरोपिय गाडियों पर भी ऐसी ही कार्रवाई करने की धमकी राष्ट्राध्यक्ष ट्रम्प ने दी थी|

फ्रान्स की इस कार्रवाई पर अमरिका कडी नाराजगी व्यक्त कर रही है, फिर भी अमरिका ने भी माहिती एवं तकनीकी क्षेत्र की बडी कंपनियों की जांच शुरू की है| जून महीने में अमरिकी संसद की ‘हाउस ज्युडिशिअरी कमिटी’ ने स्वतंत्र निवेदन जारी करके माहिती एवं तकनीकी क्षेत्र की बडी कंपनियों की कडी जांच करने का निर्णय घोषित किया था| इससे पहले अमरिका के न्याय विभाग ने ‘गुगल’ और ‘फेडरल ट्रेड कमिशन’ ने ‘फेसबुक’ की जांच करने के संकेत दिए थए|

English मराठी

इस समाचार के प्रति अपने विचार एवं अभिप्राय व्यक्त करने के लिए नीचे क्लिक करें:

https://twitter.com/WW3Info
https://www.facebook.com/WW3Info