Breaking News

चीन के विमान वाहक युद्धपोत का तैवान की खाड़ी के करीब युद्धाभ्यास – अमरिकी विमान वाहक युद्धपोत साउथ चायना सी में दाखिल

बीजिंग/वॉशिंग्टन – ‘ईस्ट और साउथ चायना सी’ क्षेत्र में बीते चौबीस घंटों में काफी तनाव निर्माण हुआ है। चीन के ‘लिओनिंग’ विमान वाहक युद्धपोत ने जापान के मियाको की खाड़ी से यात्रा करके तैवान की खाड़ी के करीब युद्धाभ्यास शुरू किया है। चीन के युद्धपोत का यह युद्धाभ्यास जापान और तैवान के लिए इशारा होने का दावा किया जा रहा है। इसी बीच अमरिकी विमान वाहक युद्धपोत ‘यूएसएस थिओडोर रुज़वेल्ट’ अपने काफिले के साथ ‘साउथ चायना सी’ में दाखिल हुई है। एक वर्ष बाद अमरीका और चीन के विमान वाहक युद्धपोत एक-दूसरे के आमने-सामने होंगे, ऐसा ड़र माध्यम व्यक्त कर रहे हैं।

जापान के रक्षा मंत्रालय ने जारी की हुई जानकारी के अनुसार चीन के ‘लिओनिंग’ विमान वाहक युद्धपोत ने अपने पांच विध्वंसकों के काफिले के साथ आक्रामक समुद्री गतिविधियाँ कीं। इन युद्धपोतों ने जापान के ओकिनावा द्विपों की समुद्री सीमा के करीब से मियाको की खाड़ी से यात्रा की। चीन के युद्धपोतों ने जापान के समुद्री क्षेत्र का उल्लंघन नहीं किया है, ऐसा जापान के रक्षा मंत्रालय ने कहा है। लेकिन, चीनी युद्धपोतों की गतिविधियों पर नज़र रखने के लिए जापान ने अपने विध्वंसक और गश्‍त पोत रवाना किए हैं।

बीते वर्ष अप्रैल में भी चीन के युद्धपोत ने जापान के ओकिनावा द्विपों के करीबी क्षेत्र से पैसिफिक महासागर में यात्रा की थी। इसी के साथ चीनी युद्धपोतों ने जापान के विध्वंसकों की दिशा में खतरानाक तरीके से यात्रा करने की आलोचना भी हुई थी। लेकिन, इस दौरान मियाको की खाड़ी से आगे निकलने के बाद चीन के विध्वंसक ‘यू टर्न’ लेकर सोमवार के दिन तैवान की खाड़ी के करीब पहुँचे। चीनी युद्धपोतों ने तैवान की खाड़ी के करीब युद्धाभ्यास शुरू किया।

चीन के विमान वाहक युद्धपोत की बीते २४ घंटों की गतिविधियाँ जापान और तैवान के लिए इशारा होने का दावा इन दोनों देशों के माध्यम कर रहे हैं। बीते कुछ हफ्तों में जापान ने इंडो-पैसिफिक क्षेत्र के भारत, ऑस्ट्रेलिया, इंडोनेशिया से सहयोग बढ़ाया है। इसी बीच जापान और अमरीका की ‘टू प्लस टू’ बातचीत हुई है और जापान के प्रधानमंत्री अगले हफ्ते अमरीका की यात्रा कर रहे हैं। इससे पहले चीन ने जापान को धमकाया होने का दावा जापान के माध्यम कर रहे हैं।

ऐसे में बीते कुछ हफ्तों के दौरान तैवान ने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर राजनीतिक गतिविधियाँ बढ़ाई हैं। बीते हफ्ते तैवान के विशेषदूत ने अमरीका के पूर्व विदेशमंत्री माईक पोम्पिओ से मुलाकात की। इस पृष्ठभूमि पर वर्णित युद्धाभ्यास के ज़रिये चीन तैवान को इशारा दे रहा है, ऐसी आलोचना स्थानीय माध्यम कर रही हैं। ईस्ट चायना सी क्षेत्र में चीन की गतिविधियों में बढ़ोतरी होते हुए अमरीका की विशाल विमान वाहक युद्धपोत ‘रुज़वेल्ट’ अपने काफिले के साथ साउथ चायना सी में दाखिल हुई है।

फिलिपाईन्स के समुद्री क्षेत्र में चीन के दो सौ से अधिक मिलिशिया जहाज़ों ने घुसपैठ की है। इस घुसपैठ के खिलाफ फिलिपाईन्स ने आक्रामक भूमिका अपनाई है। ऐसे में अमरिकी विमान वाहक युद्धपोत का इस क्षेत्र में दाखिल होना चीन के लिए चुनौती बनती दिख रही है।

मराठी

इस समाचार के प्रति अपने विचार एवं अभिप्राय व्यक्त करने के लिए नीचे क्लिक करें:

https://twitter.com/WW3Info
https://www.facebook.com/WW3Info