Breaking News

रशिया के संभाव्य आक्रमण को जवाब देने के लिए स्वीडन से टोटल मोबिलाइजेशन प्लान की तैयारी

बर्न: रशिया के संभाव्य आक्रमण को जवाब देने के लिए नाटो एवं अमरिका से गतिमान कदम उठाए जा रहे हैं। उसके लिए नाटो के सदस्य होने वाले यूरोपीय देशों ने अपना रक्षा सामर्थ्य एवं बचाव सक्षम करने के लिए गतिविधियां शुरू की है और स्वीडन में टोटल डिफेंस और टोटल मोबिलाइजेशन योजना को कार्यान्वित करने के संकेत दिए हैं। इसके अंतर्गत स्वीडन के रक्षादल की क्षमता बढ़ाने पर देश का प्रत्येक नागरिक एवं यंत्रणा संभाव्य आक्रमण को जवाब देने के लिए सज्ज रहेगा। इसके लिए तैयारी शुरू की है।

सन २०१७ में स्वीडन में टोटल डिफेंस की योजना को कार्यान्वित करने के लिए विशेष आयोग की स्थापना की गई थी। इस पर स्वीडन के रक्षा दल के साथ संपूर्ण जनता को विदेशी खतरों से सुरक्षा कैसे की जायेगी, इस संबंध में उपाय योजना और अन्य बातों पर ध्यान रखने की जिम्मेदारी दी गई थी। इस पृष्ठभूमि पर पिछले महीने में स्वीडन के लष्कर ने संसद के विशेष रिपोर्ट प्रस्तुत किया था। इस रिपोर्ट में स्वीडन का रक्षाखर्च आनेवाले १५ वर्षों में १४ अरब डॉलर पर ले जाने की सिफारिश की गई थी।

सन २०१८ से २०२० इन ३ वर्षों के में स्वीडन का रक्षा खर्च प्रति वर्ष ५ करोड़ डॉलर्स तक बढ़ाया जाने वाला है। इसमें केवल नए रक्षा सामग्री एवं स्वस्थ राष्ट्रयंत्रणा का समावेश न होकर, साइबर सुरक्षा, आपातकालीन ऊर्जा यंत्रणा, आरोग्य सेवा, सुरक्षित आश्रय स्थल एवं लष्करी डेपो का समावेश है। स्वीडन के रक्षा आयोग के प्रमुख सचिव टॉमी ऐकेसन ने इस बारे में जानकारी दी है।

स्वीडन पूर्ण देश को एकत्रित होकर तैयार करने की योजना पर काम कर रहा है। जब नागरी रक्षा का उल्लेख होता है, तब उसमें देश के सभी क्षेत्र का समावेश होता है। उसमें आरोग्य सेवा, आश्रम स्थान इनके साथ निजी कंपनियों का समावेश होने वाला है। अत्यंत बुरे परिस्थिति में स्वीडन पर लष्करी हमला हुआ, तो संपूर्ण देश एवं जनता उसे कैसे जवाब देगी और उनकी तैयारी कैसे होगी, यह निश्चित किया गया है, ऐसे शब्दों में एक ऐकेसन ने टोटल मोबिलाइजेशन की योजना के बारे में जानकारी दी है।

शीतयुद्ध के समय में स्वीडन में टोटल डिफेंस इस संकल्पना पर आधारित योजना तैयार की थी। इसके अंतर्गत देशभर में विभिन्न जगह पर भूमिगत बंकर निर्माण किए गए थे। टोटल मोबिलाइजेशन प्लान के अनुसार पुराने बंकर को फिर से बनाकर उसे सक्रिय किया जाने वाला है।

अमरिका के विदेश विभाग ने हालही में स्वीडन को पेट्रीयौट क्षेपणास्त्र यंत्रणा प्रदान करने की मंजूरी दी है। इसके अनुसार स्वीडन को चार पेट्रीयौट एंड मिसाइल डिफेंस सिस्टम प्रदान होने वाली है। यह करार लगभग ३.२ अरब डॉलर का होकर इसमें ३०० मिसाइल के साथ रडार, कंट्रोल्स स्टेशन, लॉन्चिंग स्टेशन का समावेश है। यह यंत्रणा छोटे तथा मध्य मंतर के बैलिस्टिक मिसाइल सायन्स को आसानी से छेद सकता है ऐसा कहा जा रहा है।

कई दिनों पहले रशिया के प्रगत पनडुब्बी स्वीडन के पास होने वाले सागरी सीमा में घूमते हुए दिखाई दी थी। उसके बाद पिछले वर्ष रशिया के लड़ाकू विमानों ने स्वीडन के गश्ती विमानों के पास खतरनाक तरीके से उड़ान करने की घटनाएं सामने आई थी। रशिया के इस आक्रामकता का अहसास रखते हुए इस स्वीडन ने टोटल मोबिलाइजेशन की रचना करने की बात कही जा रही है।

(Courtesy: www.newscast-pratyaksha.com)

leave a reply