Breaking News

इस्राइली प्रधानमंत्री के दौरे के बाद रशिया ने सीरिया को ‘एस-३००’ की आपूर्ति करने वाले निर्णय पर रोक लगादी है

मॉस्को – सीरिया को प्रगत एस-३०० हवाई सुरक्षा यंत्रणा प्रदान करने के बारे में किसी भी प्रकार की चर्चा शुरू नही है, ऐसी प्रतिक्रिया रशियन राष्ट्राध्यक्ष के लष्करी सहायक व्लादिमीर कोझिन ने दी है। रशियन दैनिक से बोलते हुए कोझिन ने सीरिया को एस-३०० प्रदान करने का निर्णय स्थगित करने की बात स्पष्ट की है । इस्राइली प्रधानमंत्री के रशिया दौरे के बाद रशिया ने किया यह निर्णय सीरिया और इराक को झटका देने वाला है।

रशिया और सीरिया में एस-३०० की खरीदारी के विषय में व्यवहार हुआ था । आने वाले कई महीनों में यह सुरक्षा यंत्रणा सीरिया के अस्साद सल्तनत को प्रदान होगी, ऐसे संकेत भी रशियन नेता ने दिए थे । पर रशिया की यह हवाई यंत्रणा इस्राइल के सुरक्षा के लिए खतरा होने की बात इस्राइल ने कही थी।

बुधवार को रशिया के दौरे के दौरान प्रधानमंत्री बेंजामिन नेत्यान्याहू ने रशियन राष्ट्राध्यक्ष व्लादिमीर पुतिन के साथ भेंट करते हुए अपनी भूमिका रखी।

इस्राइली प्रधानमंत्री के साथ हुई भेंट के बारे में रशियन सरकार ने अधिक जानकारी घोषित नहीं की है। पर नेत्यान्याहू और पुतिन के इस भेंट को कुछ ही घंटे हो रहे थे कि, रशिया ने एस-३०० यंत्रणा सीरिया को प्रदान करने के बारे में अथवा इस विषय के व्यवहार के बारे में कोई भी निर्णय नहीं लिया है, ऐसा पुतिन के सहायक कोझिन ने स्पष्ट किया है। सीरिया में अस्साद सल्तनत के पास रशिया ने इससे पहले प्रदान कि हुई यंत्रणा है, और फिलहाल अस्साद सल्तनत को नई हवाई सुरक्षा यंत्रणा की आवश्यकता नही है, यह बात कोझिनने कही है। रशिया के इस निर्णय की वजह से सीरिया के अस्साद सल्तनत को झटका लगा है।

नेत्यान्याहू इन के रशिया दौरे में आतंकवादी हमले का षड्यंत्र उधेडा

– रशियन विदेश मंत्रालय का दावा

२ दिनों पहले रशियन राजधानी मॉस्को में आयोजित किए विक्ट्री डे के संचालन में बड़ा आत्मघाती आतंकवादी हमला करने का षड्यंत्र उधेड़ने की जानकारी रशिया के उपविदेश मंत्री ओलेग सिरोमोलोतेव्ह ने दी है। रशिया की गुप्तचर यंत्रणा ने इस बारे में लगभग २० आतंकवादियों को कब्जे में लिया है। इस परेड में रशियन राष्ट्राध्यक्ष व्लादिमीर पुतिन और इस्राइल के प्रधानमंत्री नेत्यान्याहू उपस्थित थे। इस की वजह से भयंकर षडयंत्र उतरने का दावा रशियन और इस्राइली माध्यम कर रहे हैं।

दूसरे महायुद्ध में सोवियत रशिया के रेड आर्मी ने नाजी जर्मनी के सैनिकों पर प्राप्त किया विजय की याद के तौर पर रशिया में ९ मई के रोज विक्ट्री डे मनाया जाता है। इस निमित्त से भव्य लष्करी संचलन का आयोजन किया जाता है। तथा रशिया के मित्र देशों के नेताओं को इन लष्करी संचालन के लिए आमंत्रित किया जाता है। उस समय रशिया की ने इस्राइल के प्रधानमंत्री नेत्यान्याहू को इसके लिए आमंत्रित किया था।

इस कार्यक्रम में बड़ा रक्तपात करने का भयंकर षडयंत्र आतंकवादियों ने रचा था, पर सही समय पर कार्रवाई करके बड़ा षड्यंत्र उधेड़ने का दावा रशिया नियंत्रण कर रही है। पर इस षड्यंत्र की जानकारी रशियन यंत्रणा ने उजागर नहीं की है।

 

इस समाचार के प्रति अपने विचार एवं अभिप्राय व्यक्त करने के लिए नीचे क्लिक करें:

https://twitter.com/WW3Info/status/995391163526930432
https://www.facebook.com/WW3Info/posts/393171004424723