Breaking News

लैटिन अमरिका में फिर से लोकतंत्र स्थापित करने के लिए अमरिका-ब्राजील का मिलाप-विदेश मंत्री माईक पोम्पिओ

रिओ दि जानिरो – लैटिन अमरिका के व्हेनेजुएला, क्युबा और निकरागुआ जैसे देशों में फिर से लोकतंत्र स्थापित करने के लिए एक होकर कोशिश करने पर अमरिका और ब्राजील में सहमती बनी है। अमरिकी विदेश मंत्री माईक पोम्पिओ इन्होंने ब्राजील के नए राष्ट्राध्यक्ष ‘झैर बोल्सोनारो’ और विदेश मंत्री ‘अर्नेस्टो अराऊजो’ इनके साथ हुई बातचीत के दौरान इस मुद्दे पर चर्चा होने की जानकारी अमरिकी विदेश मंत्री ने दी। ब्राजील के राष्ट्राध्यक्ष बोल्सोनारो, लैटिन अमरिका में ‘ट्रॉपिकल ट्रम्प’ इस उपाधी नाम से प्रसिद्ध है और उनकी भूमिका अमरिकी राष्ट्राध्यक्ष डोनाल्ड ट्रम्प इनके साथ मेल करती है, यह माना जाता है।

ब्राजील के नए राष्ट्राध्यक्ष ‘झैर बोल्सोनारो’ इनके शपथ ग्रहण समारोह का आयोजन मंगलवार के दिन हुआ। इस समारोह के लिए अमरिका, इस्रायल के साथ अन्य देशों के प्रतिनिधि उपस्थित रहे। इसके पहले लगभग एक दशक से भी ज्यादा समय ब्राजील में लेफ्टीस्ट विचाराधारा का पक्ष सत्ता में रहा। इस सियासत के साथ अमरिका के संबंध हमेशा तनाव भरे रहे थे। लेकिन बोल्सोनारो इनका चुनाव अमरिका के लिए अहम साबित हुआ है। अंतर्गत सुरक्षा, अर्थ, विदेश, रक्षा, हवामान बदल जैसे कई मुद्दोंपर ब्राजील के नए राष्ट्राध्यक्ष बोल्सोनारो और अमरिकी राष्ट्राध्यक्ष ट्रम्प इनकी भूमिका समान दिखाई देती है। इसी वजह से उन्हें ‘ट्रॉपिकल ट्रम्प’ कहा जा रहा है।

विदेश मंत्री पोम्पिओ इन्होंने की भेंट और इस दौरान हुई चर्चा से भी यही बात रेखांकित होती दिखाई दी है। लैटिन अमरिका के कई देशों की हुकूमत में बदलाव हुआ है। फिर भी इन सभी देशों का शासन अमरिका के समर्थक नही है। लेकिन ब्राजील, कोलंबिया और अर्जेंटिना जैसे प्रमुख लैटिन अमरिकन देशों में फिल हाल अमरिका की भूमिका का समर्थन कर रही और नजदिकी बना रही सरकार बनी है। इन हुकूमतों की सहायता से लैटिन अमरिका में अपना प्रभाव फिर से बढाने के लिए अमरिका ने कोशिश शुरू की है।

लैटिन अमरिका के क्युबा, व्हेनेजुएला और निकरागुआ यह देश अमरिका के कडे विरोधक के तौर पर पहचाने जाते है। इन देशों में लेफ्टिस्ट विचारधारा की सरकार सत्ता में है। इन्हें अमरिका लगातार चुनौती देती रही है और इस में बदलाव करने के लिए अमरिका उत्सुक है। अमरिका को चुनौती दे रही इन सरकारों ने रशिया और चीन से बडी मात्रा में सहयोग पाना शुरू किया है और यह बात अमरिका को बेचैन कर रही है।

इस पृष्ठभुमि पर ब्राजील की नई सरकार ने लैटिन अमरिका के देशों में अमरिका के सहयोग से लोकतंत्र स्थापित करने के लिए समर्थन देने का निर्णय किया है और यह निर्णय ध्यान आकर्षित कर रहा है। इस निर्णय से इस वर्ष में लैटिन अमरिका में सियासी गतिविधियां तेज होने की संभावना है और इस क्षेत्र की सियासी समीकरण बदलने की भी शक्यता निर्माण हुई है।

English  मराठी

इस समाचार के प्रति अपने विचार एवं अभिप्राय व्यक्त करने के लिए नीचे क्लिक करें:

https://twitter.com/WW3Info
https://www.facebook.com/WW3Info