Breaking News

महामारी के दौर में भी इस्रायल ईरान को परमाणु हथियार बनाने नहीं देगा – इस्रायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेत्यान्याहू की चेतावनी

Isarel, Iran, Third World War

जेरुसलेम – हालाँकि कोरोनावायरस की महामारी शुरू है, फिर भी ईरान की आक्रमकता के विरोध में इस्रायल का निर्धार दृढ़ है और इस्रायल ईरान को कभी भी पर्माणु हथियार बनाने नहीं देगा, ऐसी चेतावनी इस्रायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेत्यान्याहू ने दी। रविवार को हुई इस्रायली मंत्रिमंडल की बैठक में प्रधानमंत्री नेत्यान्याहू ने यह चेतावनी दी होने की ख़बर इस्रायली माध्यमों ने दी है। पिछले हफ़्ते ईरान ने आंतर्राष्ट्रीय परमाणु उर्जा एजेन्सी के अधिकारियों को ईरानी न्युक्लीअर प्लांटों में प्रवेश नकारा होने की जानकारी सामने आयी थी। इस पृष्ठभूमि पर यह नयी चेतावनी देकर इस्रायल ने ईरान को संदेश दिया माना जा रहा है।

Isarel, Iran, Third World War

‘पिछले हफ़्ते ईरान ने अपने न्युक्लीअर प्लांट के कुछ भागों में आंतर्राष्ट्रीय परमाणु उर्जा एजेन्सी के निरीक्षकों को प्रवेश नकारा था। यह बात बहुत ही गंभीर है। हालाँकि फिलहाल कोरोनावायरस की महामारी का संकट है, फिर भी ईरान की आक्रमक हरक़तों को रोकने के ईरादों से इस्रायल एक इंच भी टस से मस नहीं हुआ है। इस्रायल ईरान को किसी भी हालत में परमाणु हथियार बनाने नहीं देगा’, इन शब्दों में इस्रायली प्रधानमंत्री ने ईरान को चेतावनी दी।

दो साल पहले अमरीका के राष्ट्राध्यक्ष डोनाल्ड ट्रम्प ने ईरान के साथ बने परमाणु समझौते से किनारा कर लिया था। उसके बाद अमरीका ने ईरान पर लगातार कड़े निर्बंध थोंपकर ईरान का परमाणु कार्यक्रम डाँवाड़ोल कर देने में क़ामयाबी हासिल की थी। पिछले साल ईरान ने भी, वह परमाणु समझौते से किनारा कर रहा होने का ऐलान किया था। उसके बाद गत कुछ महीनों में ईरान ने अपने तीन न्युक्लीअर प्लांट्स फिस से शुरू किये होकर, उनमें से युरेनियम का निर्माण हो रहा होने का शक़ जताया जा रहा है। इसके लिए ईरान के साथ रशिया, चीन तथा युरोपीय देश सहयोग कर रहे हैं, ऐसा बताया जाता है।

Isarel, Iran, Third World Warइस पृष्ठभूमि पर, आंतर्राष्ट्रीय परमाणु उर्जा एजेन्सी के अधिकारियों ने हाल ही में ईरान का दौरा किया। लेकिन इस दौरे में ईरान ने कुछ न्युक्लीअर प्लांटों के विशिष्ट क्षेत्रों में परमाणु उर्जा एजेन्सी के निरीक्षकों को अनुमती नकारी। ईरान के इस इन्कार के कारण उसके परमाणु कार्यक्रम पर जताया जा रहा शक़ अधिक ही गहरा हुआ है। एजेन्सी को जहाँ अनुमति नकारी है, उस भाग में ईरान संवर्धित युरेनियम का निर्माण कर रहा होगा, ऐसा माना जा रहा है। संवर्धित युरेनियम का इस्तेमाल परमाणु हथियारों के निर्माण हेतु किया जाता होने के कारण, ईरान फिर एक बार परमाणु हथियार बनाने की गतिविधियाँ करता दिखायी दे रहा है।

ईरान की इन गतिविधियों की इस्रायल ने गंभीर दखल ली है, यह प्रधानमंत्री नेत्यान्याहू को दी चेतावनी से स्पष्ट होता है। ईरान को परमाणु हथियार बनाने से रोकने का निर्धार बरक़रार रखते हुए ही इस्रायल द्वारा ईरान की अन्य हरक़तों को भी लक्ष्य किया जा रहा है। शनिवार की मध्यरात्रि के बाद इस्रायल के ड्रोन्स ने सिरियास्थित ईरान के अड्डों पर ज़ोरदार हमले किये होने की बात सामने आयी है। इस्रायल के ड्रोन्स ने पूर्वी सिरियास्थित मेझीलेह अड्डे पर हमलें कर, बड़े पैमाने पर हथियारों का भंडार नष्ट किया, ऐसा माना जाता है।

Isarel, Iran, Third World Warइस कार्रवाई में १२ लोग मारे गए होकर, उनमें इराकी तथा अफगानी बाग़ियों का समावेश है। मेझीलेह अड्डे का इस्तेमाल सिरियास्थित ईरान समर्थक आतंकवादी गुटों द्वारा मुख्यालय के तौर पर किया जा रहा था। कुछ दिन पहले ही इस अड्डे पर सशस्त्र गाड़ियाँ तथा बड़े पैमाने पर हथियारों का भंडार दाख़िल हुआ था। इस कारण, इस्रायल का ड्रोन हमला ईरान समेत ईरानसमर्थक गुटों के लिए बड़ा झटका साबित हुआ है।

इस महीने में इस्रायल ने सिरिया में किया यह दूसरा बड़ा हवाई हमला साबित हुआ है। इससे पहले गुरुवार रात को पश्चिमी सिरिया में किये एक हमले में सिरियन राष्ट्राध्यक्ष बशर अल अस्साद के समर्थक रहनेवाले नौं लोग मारे गए थे। पिछले महीने में इस्रायल ने सिरियास्थित ईरान के स्थानों पर १० से अधिक हवाई हमलें किये होने की जानकारी सामने आयी थी। इनमें से एक हमले में सिरिया में रसायनिक हथियारों का निर्माण करनेवाला केंद्र भी ध्वस्त किया गया था।

English    मराठी

इस समाचार के प्रति अपने विचार एवं अभिप्राय व्यक्त करने के लिए नीचे क्लिक करें:

https://twitter.com/WW3Info
https://www.facebook.com/WW3Info