Breaking News

अमरिका की यात्रा के दौरान सऊदी के प्रिन्स मोहम्मद से येमेन के हमलों का समर्थन

तृतीय महायुद्ध, परमाणु सज्ज, रशिया, ब्रिटन, प्रत्युत्तर

वॉशिंग्टन: अमरिका की राजधानी वॉशिंग्टन, न्यूयॉर्क और लॉस एंजिलिस शहर पर मेक्सिको के बागियों ने मिसाइल हमले किए, तो अमरिका क्या शांत रहेगा? अमरिका की जनता क्या इस मिसाइल को सिर्फ देखने की भूमिका लेगी? ऐसे प्रश्न पूछकर सऊदी अरेबिया के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान ने येमेन पर किये हमले का समर्थन किया है|

पिछले हफ्ते में प्रिंस मोहम्मद ने अमरिका के प्रसिद्ध वृत्त माध्यम को दी हुई मुलाकात सोमवार को प्रसिद्ध की गई थी| इस मुलाकात में प्रिंस मोहम्मद ने येमेन पर सऊदी के हमले के लिए ईरान जिम्मेदार होने का आरोप किया था| ईरान के कट्टर विचारधारा से प्रेरित हुए येमेन में हौथी बागी यह सऊदी में मिसाइल हमले कर रहे हैं| हौथी बागी राजधानी पर हमले करते हुए सऊदी स्वस्थ नहीं बैठ सकता, ऐसा प्रिंस मोहम्मद ने कहा है| तथा येमेन में नागरिकों की मृत्यु के लिए संयुक्त राष्ट्र संघ सिर्फ सऊदी के लिए जिम्मेदार समझ रही है, यह शिकायत करके उन्होंने उसके लिए ईरान ने थोपा हुआ छुपा युद्ध जिम्मेदार होने का आरोप किया है| तथा हौथी बागी जनता के सामने संकट का उपयोग करके अंतरराष्ट्रीय समुदाय को बहका रहे हैं, ऐसा आरोप भी प्रिंस मोहम्मद ने किया है|

अमरिकी वृत्त माध्यम की मुलाकात प्रसिद्ध होते हुए सऊदी के अरब मित्र देशों ने ईरान पर आरोप किया है| येमेन में हौथी बागियों को ईरान से शस्त्र प्रदान हो रहे हैं, यह बात कहकर जल्द ही इस बारे में सबूत अंतरराष्ट्रीय समुदाय के सामने उजागर करने की जानकारी अरब मित्र देशों की संघटना के प्रवक्ता कर्नल तुर्की अल मलिकी ने घोषित की है| इससे पहले फरवरी महीने में संयुक्त राष्ट्रसंघ में अमरिका के राजदूत निकी हेले ने हौथी बागियों को ईरान शस्त्र सज्ज करने का सबूत अंतरराष्ट्रीय माध्यमों के सामने प्रसिद्ध किया था| इसमें हौथी बागियों ने सऊदी के राजधानी पर प्रक्षेपित किए ईरानी बनावट की मिसाइल भी हेलेने माध्यमों के सामने प्रस्तुत किया था|

दौरान प्रिंस मोहम्मद सोमवार को अमरिका में दाखिल हुए हैं और आने वाले कई घंटों में वह अमरिका के राष्ट्राध्यक्ष डोनाल्ड ट्रम्प से तथा व्हाइट हाउस के एवं पेंटागौन के वरिष्ठ अधिकारियों से भेंट करने वाले हैं| राष्ट्राध्यक्ष ट्रम्प और प्रिंस मोहम्मद की मुलाकात में ईरान, सीरिया का संघर्ष और येमेन में ईरान का हस्तक्षेप इन विषयों पर प्रमुख तौर पर चर्चा होने की अपेक्षा जताई जा रही है|

(Courtesy: www.newscast-pratyaksha.com)

leave a reply