Breaking News

चीन का विमान वाहक जंगी जहाज तैवान के समुद्री सीमा के पास दाखिल तैवान के लड़ाकू विमान, विनाशिका रवाना

तैपेई/वॉशिंग्टन: तैवान के लिए रक्तरंजित संघर्ष के लिए तैयार होने की घोषणा करने वाले चीन ने तैवान के समुद्री क्षेत्र के पास अपना विमान वाहक जंगी जहाज रवाना किया है| चीन के इस विमान वाहक जंगी जहाज का प्रस्थान मतलब तैवान और तैवान को समर्थन देने वाले अमरिका को भी इशारा होने का दावा किया जा रहा है| इसपर तैवान से प्रतिक्रिया आई है और तैवान ने चीन के जंगी जहाज की दिशा में अपने लड़ाकू विमान और विनाशिकों के बेड़े को भेज दिया है| अमरिका ने भी तैवान की लोकनियुक्त सरकार को अपना समर्थन घोषित किया है|

कुछ घंटों पहले चीन के राष्ट्राध्यक्ष शी जिनपिंग ने तैवान को संबोधित करके चीन अपने भूभाग का एक इंच भी शत्रु के हाथ नहीं लगने देगा, ऐसा कहा था| चीन का लष्कर और जनता संघर्ष के लिए तैयार होने का दावा भी चीनी राष्ट्राध्यक्ष ने किया था| चीन के लष्करी विश्लेषक और मीडिया ने राष्ट्राध्यक्ष जिनपिंग की इस भूमिका का समर्थन किया था| उनकी इस घोषणा को कुछ घंटे भी पूरे नहीं हुए हैं और चीन के लष्कर ने ‘लाओनिंग’ यह विमान वाहक जंगी जहाज तैवान के लिए भेज दिया है|

मंगलवार रात को चीन का विमान वाहक जंगी जहाज तैवान के समुद्री क्षेत्र के पास दाखिल हुआ है| चीन के जंगी जहाज ने तैवान की समुद्री सीमा में प्रवेश नहीं किया है| लेकिन उससे पहले ही सज्ज तैवान ने लड़ाकू विमान और विनाशिकों के बेड़े को ‘लाओनिंग’ की दिशा में भेजा है| चीन के विमान वाहक जंगी जहाज ने अपनी समुद्री सीमा के पास आकर युद्धाभ्यास करने की जानकारी तैवान के रक्षा मंत्रालय ने दी है| चीन के जंगी जहाज के इस युद्धाभ्यास की वजह से तैवान की जनता को डरने की कोई बात नहीं है, ऐसा कहकर तैवान के रक्षा मंत्रालय ने अपनी जनता को भरोसा दिलाया है|

तैवान की सीमा के पास दाखिल हुए इस विमान वाहक जंगी जहाज के युद्धाभ्यास के बारे में चीन के रक्षा मंत्रालय ने अधिक जानकारी नहीं दी है| लेकिन पिछले तीन महीनों में तीसरी बार चीन का विमान वाहक जंगी जहाज तैवान की खाड़ी में दाखिल हुआ है| इसके पहले जनवरी महीने में चीन के विमान वाहक जंगी जहाज ने लगातार दो बार तैवान की खाड़ी से यात्रा की थी| विमान वाहक जंगी जहाज की यह यात्रा अपने युद्धाभ्यास के एक हिस्सा होने का दावा चीन ने किया है|

दौरान, ‘ईस्ट चाइना सी’ की सीमा के पास चीन और तैवान की नौसेना आमने सामने खड़ी है, ऐसे में अमरिकी वरिष्ठ अधिकारियों ने तैवान के अधिकारियों के साथ फोन पर चर्चा की है| ‘अमरिका ने तैवान के जनता की आजादी और लोकतंत्र का हमेशा आदर किया है| इस वजह से तैवान कई आजादी और लोकतंत्र को आबाद रखने के लिए अमरिका तैवान को इसके आगे भी लष्करी सहायता शुरू रखने वाला है’, ऐसी घोषणा अमरिका के विदेश मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी ने की है|

 

(Courtesy: www.newscast-pratyaksha.com)

leave a reply