Breaking News

इस्रायली प्रधानमंत्री नेत्यान्याहू और जॉर्डन के राजा अब्दुल्ला में चर्चा

जेरूसलेम – अगर अमेरीका इस्रायल स्थित अपना दूतावास जेरूसलेम में ले जाता है, तो खाड़ी देशों से इस पर भीषण प्रतिक्रिया आएगी, ऐसी धमकी जॉर्डन के राजा अब्दुल्ला ने दी थी। साथही जॉर्डन ने गाझा पर इस्रायल के हमले और पॅलेस्टिनी प्रदर्शनकारीयों पर कार्रवाई के खिलाफ नीति अपनाई थी। जॉर्डन के इस नीति में बदलाव तो नहीं हुआ लेकिन जॉर्डन की राजधानी में राजा अब्दुल्ला और इस्रायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेत्यान्याहू में हुई मुलाकात अलगही संकेत दे रहे है। अमेरीका ने इस मुलाकात का स्वागत किया है।

नेत्यान्याहूइस मुलाकात की जानकारी इससे पहले जारी नहीं की थी। लेकिन सोमवार को यह मुलाकात खत्म होने के बाद इस्रायली सूत्रों ने इस बारे में जानकारी दी। इस्रायली मिडिया ने दी खबर के अनुसार जॉर्डन की राजधानी अम्मान में राजा अब्दुल्ला और इस्रायली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेत्यान्याहू के बीच मुलाकात हुई। इस समय इस्रायली खुफिया एजन्सी ‘मोसाद’ के संचालक योसी कोहेन, प्रधानमंत्री के सेना सचिव लिझर तोलेदानो और राष्ट्रीय रक्षा सलाहकारों का पथक उपस्थित था।

प्रधानमंत्री नेत्यान्याहू और राजा अब्दुल्ला की मुलाकात में खाड़ी के महत्वपूर्ण मसलों पर चर्चा हुई। इसमें गाझा में हमास द्वारा शुरू हिंसक प्रदर्शन तथा पॅलेस्टिनी राष्ट्राध्यक्ष महमूद अब्बास के साथ समझौते के मसले पर चर्चा संपन्न हुई, ऐसी जानकारी इस्रायली सूत्रों ने दी। साथही जेरूसले के धार्मिक स्थलों के मुद्दे पर भी दोनों नेताओं में चर्चा होने का दावा जॉर्डन के सरकारी समाचारपत्र ने किया है।

इस्रायल-पॅलेस्टाईन चर्चा के लिए अमेरीका ने नियुक्त किए विशेष दूत जेसन ग्रीनब्लॅट ने प्रधानमंत्री नेत्यान्याहू और राजा अब्दुल्ला में हो चुकी बैठक का स्वागत किया। खाड़ी के महत्वपूर्ण गतिविधियों के बारे में इस्रायल और जॉर्डन के नेताओं में हुई मुलाकात खाड़ी के देशों के लिए भी महत्त्वपूर्ण साबित होगी, ऐसी प्रतिक्रिया ग्रीनब्लॅट ने दी। इससे पहले नेत्यान्याहू और राजा अब्दुल्ला में मुलाकाते हुई थी। लेकिन अमेरीका की मिडिया ने दावा किया है कि, इस्रायल-पॅलेस्टाईन बातचित को देखते हुए इस मुलाकात की एहमियत बढ़ गई।

दौरान, आने वाले घंटो में अमेरीका के विशेष दूत ग्रीनब्लॅट साथही राष्ट्राध्यक्ष डोनाल्ड ट्रम्प के सलाहकार और जमाई जॅरेड कश्‍नर खाड़ी देशों को भेट देने वाले है। इस्रायल-पॅलेस्टाईन शांती समझौते का प्रस्ताव लेकर कश्‍नर कतार, सौदी अरेबिया, इजिप्त, जॉर्डन और इस्रायल का दौरा करेंगे। लेकिन पॅलेस्टिनी राष्ट्राध्यक्ष अब्बास ने पहले ही इस प्रस्ताव को स्वीकारने से मना कर दिया है।

English     मराठी

इस समाचार के प्रति अपने विचार एवं अभिप्राय व्यक्त करने के लिए नीचे क्लिक करें:

https://twitter.com/WW3Info
https://www.facebook.com/WW3Info