Breaking News

परमाणु हथियारों के लिए आवश्यक संवर्धित युरेनियम प्राप्त करने के लिए ईरान ने प्रगत सेंट्रिफ्युजेस कार्यान्वित किए

तेहरान – परमाणु हथियारों का निर्माण करने के लिए आवश्यक युरेनियम प्राप्त करने के लिए ईरान ने प्रगत सेंट्रिफ्युजेस कार्यान्वित करने का ऐलान किया है| ईरान के ‘ऍटोमिक एनर्जी ऑर्गनायझेशन’ के प्रमुख ने शनिवारी इस गतिविधि की जानकारी दी| ईरान की इस घोषणा के कारण ईरान वर्ष २०१५ में हुए परमाणु समझौते का बिनदिक्कत उल्लंघन कर रहा है, यह बात फिर से स्पष्ट हुई है और इस पर आचरज नही है, ऐसी प्रतिक्रिया अमरिका ने दर्ज की है|

दो दिन पहले ही ईरान के राष्ट्राध्यक्ष हसन रोहानी ने वर्ष २०१५ में किए परमाणु समझौते में किए गए प्रावधानों से पीछे हटने का ऐलान किया था| ‘इसके आगे ईरान और भी प्रगत सेंट्रिफ्युजेस का निर्माण शुरू करेगा| इन प्रगत सेंट्रिफ्युजेस के निर्माण से ईरान और?भी तेजी से युरेनियम संवर्धित कर सकेगा’, ऐसा राष्ट्राध्यक्ष रोहानी ने कहा था| ईरान के राष्ट्राध्यक्ष ने किया ऐलान यानी ईरान ने परमाणु हथियार प्राप्त करने की दिशा में बढाया बडा कदम होने की बात समझी जा रही है|

राष्ट्राध्यक्ष ने किए घोषणा पर शनिवार के दिन ईरानी यंत्रणा ने मुहर लगाई है| ईरान के ‘ऍटोमिक एनर्जी ऑर्गनायझेशन’ के प्रमुख बेहरोझ कमालवंदी ने प्रगत सेंट्रिफ्युजेस कार्यान्वित करने की जानकारी दी| इसके अनुसार ईरान ने ‘आईआर-४’ और ‘आईआर-६’ प्रकार के सेंट्रिफ्युजेस कार्यरत करने की बात स्पष्ट की| इनकी क्षमता पहले इस्तेमाल किए गए सेंट्रिफ्युजेस से भी अधिक होने का दावा भी ईरान के ‘ऍटोमिक एनर्जी ऑर्गनायझेशन’ के प्रमुख ने किया है|

कुछ महीने पहले ईरान ने यूरोपिय देशों को परमाणु समझौता बचाने के लिए कुछ शर्ते रखी थी| यह शर्ते पूरी नही हुई तो ईरान समय समय पर समझौते का उल्लंघन करने के लिए कदम बढाएगा, यह इशारा ईरान ने दिया था| सेंट्रिफ्युजेस कार्यान्वित करना यह तिसरा और आखरी स्तर समझा जा रहा है| इससे ईरान ने अब फिर एक बार परमाणु हथियार प्राप्त करने की दिशा में तेजी से कदम बढाना शुरू किया है, यह समझा जा रहा है|

ईरान ने सेंट्रिफ्युजेस की प्रक्रिया शुरू करने का आचरज नही है, यह प्रतिक्रिया अमरिका के रक्षामंत्री मार्क एस्पर ने दर्ज की है| ‘ईरान हमेशा ही परमाणु समझौते का उल्लंघन करता रहा है| पिछले कई वर्षों से उन्होंने परमाणु हथियारों का प्रसार बंदी समझौता ठुकराया था| ईरान को जो करना होता है, वह ईरान करता ही है’, इन शब्दों में एस्पर ने ईरान का समर्थन कर रहे देशों को फटकार लगाई है| ईरान ने अपने सेंट्रिफ्युजेस संबंधी नई जानकारी अंतरराष्ट्रीय परमाणु उर्जा आयोग को देने की बात भी सामने आयी है| परमाणु उर्जा आयोग इसपर जल्द ही अपने वरिष्ठ अधिकारी ईरान को भेंट देंगे, यह संकेत भी दिए है|

English मराठी

इस समाचार के प्रति अपने विचार एवं अभिप्राय व्यक्त करने के लिए नीचे क्लिक करें:

https://twitter.com/WW3Info
https://www.facebook.com/WW3Info