Breaking News

राष्ट्राध्यक्ष व्लादिमीर पुतिन की मौजुदगी में रशिया ने किया ‘ब्लैक सी’ और क्रिमिआ में हायपरसोनिक परमाणु मिसाइल का परीक्षण

मास्को – खाडी क्षेत्र में ईरान के मुद्दे पर तनाव बढ रहा है और ऐसे में रशिया ने भी अपनी रक्षा की तैयारी के नजरिए से अहम कदम उठाना शुरू किया है| ईरान और चीन के साथ नौसेना का संयुक्त युद्धाभ्यास करने के बाद अब रशिया नेब्लैक सीक्षेत्र में नए युद्धाभ्यास की शुरूआत की है| इस दौरान रशियाने गुरूवार के दिनकिन्झालइस प्रगत हायपरसोनिक परमाणु मिसाइल के साथकैलिबरक्रूझ मिसाइल का परीक्षण किया| इन दोनों परीक्षण के समय रशिया के राष्ट्राध्यक्ष व्लादिमीर पुतिन मौजुद थे|

पिछले दो वर्षों से रशिया लगातार प्रगत परमाणु हथियार एवं मिसाइलों के प्रगत संस्करण के परीक्षण कर रही है| पिछले वर्ष अमरिका के साथ कियाआईएनएफसमझौता टुटने के बाद रशिया के इन परीक्षणों में तेजी दिखाई दी है| फिलहाल रशिया काफी तेज और मिसाईल विरोधी यंत्रणा को आसानी से चकमा देने में सक्षमहायपरसोनिकमिसाइलों का विकास और निर्माण पर खास जोर दे रही है और राष्ट्राध्यक्ष व्लादिमीर पुतिन ने भी इस बारे में समय समय पर बयान दिया है|

इस पृष्ठभूमि परब्लैक सीसमुद्री क्षेत्र एवं क्रिमिआ के निकट किए गए यह परीक्षण अहमियत रखते है| रशिया ने इस क्षत्र में शुरू किए युद्धाभ्यास में करीबन ३० युद्धपोत, ४० लडाकू विमान और एक पनडुब्बी शामिल हुई है| इनमें शामिलमिग ३१ इंटरसेप्टरलडाकू विमान से हायपरसोनिककिन्झालमिसाइल का परीक्षण किया गया| ध्वनि से १० गुना तेज यह परमाणु मिसाइल करीबन दो हजार किलोमीटर दूरी तक हमला करने के काबिल होने की बात कही जा रही है|

इसके अलावाकैलिबरइस क्रूझ मिसाइल के परीक्षण भी किए गए है और विध्वंसक एवं पनडुब्बी इन दोनों से छोडे जानेवाले संस्करण के मिसाइलों का परीक्षण करने की जानकारी रशियन सूत्रों ने साझा की| ‘कोल्पिनोपनडुब्बी से पानी के सतेह से नीचे से किया गया परीक्षण काफी अहम होने का दावा हो रहा है| ‘कैलिबरमिसाइल चार हजार से भी अधिक दूरी तय कर सकती है और यह मिसाइल पहले ही रशियन रक्षा दलों के बेडे में शामिल की गई है

नौसेना के युद्धाभ्यास में किए गए यह दोनों परीक्षण के दौरान रशिया के राष्ट्राध्यक्ष व्लादिमीर पुतिन के मौजुदगी में हुए है, यह जानकारी रशियन रक्षादलों ने सार्वजनिक की है| पुतिन की मौजुदगी में इन मिसाइलों का परीक्षण होना अहम घटना है और इससे रशिया ने जरूरी संदेशा दिया है, यह दावा विश्लेषक कर रहे है|

English   मराठी

इस समाचार के प्रति अपने विचार एवं अभिप्राय व्यक्त करने के लिए नीचे क्लिक करें:

https://twitter.com/WW3Info
https://www.facebook.com/WW3Info