Breaking News

रशिया लीबिया में संघर्ष करवा रही है – तुर्की के राष्ट्राध्यक्ष एर्दोगन ने किया आरोप

अंकारा  – ‘लीबिया की सराज हुकूमत के विरोध में जारी संघर्ष के लिए रशिया ही जिम्मेदार है| रशिया ही लीबिया में संघर्ष भडका रही है’, ऐसे आरोप तुर्की के राष्ट्राध्यक्ष रेसेप तय्यीप एर्दोगन ने किए है| पाकिस्तान की यात्रा से स्वदेश लौटते समय तुर्की के राष्ट्राध्यक्ष ने रशिया पर यह आरोप रखा| रशिया ने यह आरोप ठुकराए है और लीबिया के संघर्ष में रशिया शामिल ना होने की बात कही है| साथ ही, लीबिया पर कब्जा करने के लिए तुर्की ही इस देश की हुकूमत को आतंकवादी एवं हथियार प्रदान कर रहा है, यह जवाबी आरोप लीबियन बागियों ने किया है|

तुर्की और रशिया के संबंध अच्छे होने का दावा तुर्की कर रहा है| पर, दोनों देशों के बीच बना तनाव बढने की बात राष्ट्राध्यक्ष एर्दोगन ने किए आरोपों से स्पष्ट हो रहा है| पाकिस्तान से तुर्की के लिए रवाना होने के बाद विमान में पत्रकारों के साथ बातचीत करते समय राष्ट्राध्यक्ष एर्दोगन ने रशिया ही लीबिया में जारी संघर्ष के लिए बागियों की खुलेआम सहायता कर रही है, यह आरोप किया| तुर्की की ‘एनटीव्ही’ इस समाचार चैनल ने राष्ट्राध्यक्ष एर्दोगन ने किए आरोपों की जानकारी सार्वजनिक की|

‘रशिया कान्ट्रैक्ट सैनिकों की सहायता से लीबिया में संघर्ष करवा रही है| उपरी लीबिया में जारी संघर्ष से अपना संबंध ना होने का दावा रशिया कर रही है’, यह आरोप तुर्की के राष्ट्राध्यक्ष ने किया| इन आरोपों के सबुतों के तौर पर राष्ट्राध्यक्ष एर्दोगन ने तुर्की के माध्यमों को कुछ फोटो दिखाए| ‘वैग्नर’ इस रशियन कान्ट्रैक्ट सैनिकों के गुट के प्रमुख येवगेनी प्रिगोझिन ने रशियन रक्षामंत्री सर्जेई शोईगू और रक्षादलप्रमुख वैलेरी गेरासिमोव्ह की भेंट करने का दावा तुर्की के राष्ट्राध्यक्ष ने किया है|

रशिया के साथ ही तुर्की के राष्ट्राध्यक्ष ने पश्‍चिमी देशों की भी आलोचना की है| कुछ पश्‍चिमी देश लीबिया में हफ्तार बागियों को समर्थन दे रहे है, यह शिकायत भी एर्दोगन ने की| इस दौरान तुर्की के राष्ट्राध्यक्ष किसी भी देश का नाम लेने से दूर रहे| रशिया ने तुर्की के राष्ट्राध्यक्ष ने किए आरोप ठुकराए है| लीबिया की सराज हुकूमत और हफ्तार बागियों के बीच जारी संघर्ष में रशिया का किसी भी प्रकार से समावेश नही है| रशिया के सैनिक लीबिया में जारी संघर्ष में उतरें नही है, यह बयान राष्ट्राध्यक्ष व्लादिमीर पुतिन के प्रवक्ता दिमित्रि पेस्कोव्ह ने किया है|

तभी, खलिफा हफ्तार की ‘लीबियन नैशनल आर्मी’ (एलएनए) इस बागी संगठन ने अपने देश में हो रही हिंसा के लिए तुर्की ही जिम्मेदार होने का आरोप किया है| तुर्की की वजह से लीबिया में हुआ युद्धविराम खतम हुआ| तुर्की ने सराज हुकूमत को प्रदान किए हथियारों का भंडार और आतंकियों के कारण लीबिया में फिरसे संघर्ष शुरू होने का आरोप हफ्तार गुट ने किया है| इस वजह से सीरिया के बाद लीबिया का मसले पर भी रशिया और तुर्की के बीच तनाव होने की बात सामने आयी है|

इसी बीच यूरोपिय महासंघ ने लीबिया पर नए प्रतिबंध लगाने का ऐलान किया है और यूरोपिय देशों ने अपने युद्धपोत लीबिया के नजदिकी समुद्री क्षेत्र में तैनात करने का निर्णय किया है| कोई भी देश या संगठन एवं कंपनी से लीबियन सरकार या बागियों को हथियारों की सहायता प्राप्त ना हो, इस लिए यूरोपिय देशों के युद्धपोत इस समुद्री क्षेत्र में तैनात की गई है| लीबिया में जारी संघर्ष रोकने के लिए और इस संघर्ष में फंसे विस्थापितों की रिहाई के लिए यह प्रतिबंध और युद्धपोतों की तैनाती जरूरी होने की बात यूरोपिय महासंघ ने कही है| ऐसे में यूरोपिय महासंघ के इस निर्णय के कारण तुर्की मुश्किलों में फंसने का दावा पश्‍चिमी माध्यम कर रहे है|

English    मराठी

इस समाचार के प्रति अपने विचार एवं अभिप्राय व्यक्त करने के लिए नीचे क्लिक करें:

https://twitter.com/WW3Info
https://www.facebook.com/WW3Info