Breaking News

अमरीका का विध्वंसक पोत साउथ चायना सी में दाखिल – ब्रिटेन ने भी दिए विमान वाहक युद्धपोत तैनात करने के संकेत

US warship, South China Sea

वॉशिंग्टन/लंदन – अमरीका ने साउथ चायना सी में चीन की महत्त्वाकांक्षा मिट्टी में मिलाने की जोरदार गतिविधियाँ शुरू की हैं। अमरीका ने सोमवार के दिन, चीन द्वारा साउथ चायना सी पर किए गए दावे ठुकराकर, आक्रामक नीति का ऐलान किया था। केवल २४ घंटों में इसपर अमल शुरू करके अमरीका ने अपना विध्वंसक पोत चीन के करीबी समुद्री क्षेत्र में रवाना किया है। अमरिकी युद्धपोत चीन को खुली चुनौती दे रहा होते समय ही, ब्रिटेन ने भी अपना विमानवाहक युद्धपोत पैसिफिक क्षेत्र में तैनात करने के संकेत दिए हैं।

अमरिकी विध्वंसक पोत ‘यूएसएस राल्फ जॉन्सन’ ने मंगलवार के दिन साउथ चायना सी में स्थित स्पार्टले आयलैंड़स्‌ के क्षेत्र में गश्‍त लगाई। यह गश्‍त अमरीका ने घोषित की हुई ‘फ्रिड़म ऑफ नेव्हिगेशन’ मुहिम के तहत लगाई गई थी, यह जानकारी अमरिकी नौसेना ने साझा की। नौसेना ने इस गश्‍त के दो फोटो भी जारी किये हैं। साउथ चायना सी पर हक जताने के मुद्दे पर किए जा रहें अवैध दावे समुद्री यातायात की आज़ादी के लिए खतरा बनते हैं। अमरिकी विध्वंसक की गश्‍त इस आज़ादी के लिए अड़ंगा बना रहें देशों को दी हुई चुनौती है और आंतर्राष्ट्रीय नियमों के अनुसार दिये गए अधिकार रेखांकित करती है, इन शब्दों में अमरिकी नौसेना ने चीन को फटकार लगाई है।

फिलिपाईन्स, मलेशिया और वियतनाम की समुद्री सीमा का हिस्सा होनेवाले ‘स्पार्टले आयलैंडस्‌’ पर चीन ने अपना हक जताया है। इनमें से कुछ छोटे द्विपों पर चीन ने लष्करी बल पर कब्ज़ा किया है। इस इलाके के साथ साउथ चायना सी के अन्य द्विपों पर भी चीन ने अपने दावें जताकर बड़ी मात्रा में रक्षाबल की तैनाती शुरू की है। समुद्री क्षेत्र पर वर्चस्व स्थापित करने के लिए चीन द्वारा जारी इन हरकतों को अमरीका के साथ मित्रदेशों ने भी चुनौती दी है। अमरीका ने साउथ चायना सी में, अपने विमान वाहक युद्धपोतों के साथ प्रगत विध्वंसक, बॉम्बर्स, लड़ाकू विमान एवं ड्रोन्स की तैनाती और गश्‍त भी बढ़ाई है।

‘यूएसएस राल्फ जॉन्सन’ ने लगाई गश्‍त ‘फ्रिडम ऑफ नेव्हिगेशन’ मुहिम के तहत, अमरिकी युद्धपोत की इस वर्ष की छठी मुहिम हैं। इन मुहिमों के साथ अमरिकी विमान वाहक युद्धपोतों की तैनाती से ‘साउथ चायना सी’ क्षेत्र में चीन को दी जा रही चुनौती ही अमरीका की अधिकृत नीति होने का ऐलान अमरिकी विदेशमंत्री माईक पोम्पिओ ने हाल ही में किया था। इसके लिए अमरीका अपने मित्रदेशों की सहायता भी प्राप्त करेगी, ऐसे संकेत भी दिए गए थे।

इसी पृष्ठभूमि पर, ब्रिटेन अपना विमान वाहक युद्धपोत पैसिफिक क्षेत्र में तैनात करेगा, यह समाचार प्रकाशित हुआ है। ब्रिटेन के ‘द टाईम्स’ इस अख़बार ने, रक्षाबलों के सूत्रों के हवाले से यह दावा किया है। ब्रिटेन की नौसेना में पिछले वर्ष दाखिल हुई ‘एचएमएस एलिझाबेथ’ के साथ सात युद्धपोतों का बेड़ा अगले वर्ष पैसिफिक महासागर में दाखिल होगा, यह जानकारी ब्रिटीश रक्षाबलों के सूत्रों ने प्रदान की है।

चीन की गतिविधियों से बढ़ रहे ख़तरे को रोकने के लिए यह तैनाती होगी, यह बात सूत्रों ने कही होने का दावा भी इस ब्रिटीश अख़बार ने किया है। ब्रिटेन की इस मुहिम में कनाडा और ऑस्ट्रेलिया जैसें मित्रदेशों के युद्धपोत भी शामिल होंगे, ऐसें संकेत भी दिए गए हैं। कोरोना की महामारी के साथ, हाँगकाँग और हुवेई के मुद्दे पर भी ब्रिटन और चीन में बीच जोरदार तनाव बना हैं और विमान वाहक युद्धपोत की तैनाती, दोनों देशों के संबंध काफ़ी हद तक बिगाड़ने का कारण बन सकती है, यह दावा भी विश्‍लेषक कर रहे हैं।

English    मराठी

इस समाचार के प्रति अपने विचार एवं अभिप्राय व्यक्त करने के लिए नीचे क्लिक करें:

https://twitter.com/WW3Info
https://www.facebook.com/WW3Info