उत्तर कोरिया ने ‘सी ऑफ जापान’ में दागे दो बैलेस्टिक मिसाइल्स

प्योनग्यँग/टोकियो – उत्तर कोरिया ने गुरूवार के दिन ‘सी ऑफ जापान’ में दो बैलेस्टिक मिसाइल दागे। दोनों मिसाइलों ने ४०० किलोमीटर्स से अधिक दूरी तय करने की जानकारी जापान के रक्षा विभाग ने प्रदान की। इस परीक्षण पर जापान ने तीव्र प्रतिक्रिया दर्ज़ की है। ‘उत्तर कोरिया के परीक्षण से जापान और नज़दिकी क्षेत्र की शांति और सुरक्षा के लिए खतरा है’, ऐसा इशारा जापान के प्रधानमंत्री योशिहिदे सुगा ने दिया। अमरीका की पैसिफिक कमांड ने भी यह मिसाइल उत्तर कोरिया का बढ़ता खतरा दिखानेवाले होने का बयान किया है।

उत्तर कोरिया ने कुछ दिन पहले ही ‘शॉर्ट रेंज मिसाइल सिस्टम’ का नया परीक्षण करने की बात सामने आयी थी। इस परीक्षण पर प्रतिक्रिया देते समय अमरीका के राष्ट्राध्यक्ष ज्यो बायडेन ने इसमें उकसानेवाला कुछ भी ना होने का बयान किया था। जापान और दक्षिण कोरिया के माध्यमों ने उत्तर कोरिया के माध्यमों ने यह परीक्षण नए और आक्रामक परीक्षणों की श्रृंखला की शुरूआत साबित हो सकती है, यह ड़र व्यक्त किया था। यह ड़र सच साबित होने की बात गुरूवार के दिन दागे गए मिसाइलों की घटना ने दिखाई है।

उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जाँग उन ने बीते वर्ष मार्च में बैलेस्टिक मिसाइलों के साथ ‘टैक्टिकल गायडेड वेपन्स’ के परीक्षण किए थए। इसके बाद अक्तुबर में उत्तर कोरिया ने लष्करी परेड में नया अंतरद्विपीय मिसाइल विश्‍व के सामने पेश किया था। बीते कुछ महीनों में उत्तर कोरिया ने नए परमाणु हथियारों की तैयारी शुरू करने की रपट भी सामने आयी थी। लेकिन, वर्ष २०२१ के मार्च तक किसी भी नए मिसाइल का परीक्षण नहीं किया गया था।

बायडेन प्रशासन ने बीते महीने से जापान और दक्षिण कोरिया के साथ बातचीत की है और इसके अलावा दक्षिण कोरिया के साथ युद्धाभ्यास भी किया है। इस दौर में उत्तर कोरिया और चीन का सहयोग अधिक मज़बूत होने की जानकारी सामने आयी है। पांच दिनों के बीच उत्तर कोरिया ने एक के बाद एक किए मिसाइलों के प्रदर्शनों की यह पृष्ठभूमि है। रविवार के दिन उत्तर कोरिया के परीक्षण छोटी दूरी के क्रूज़ मिसाइलों के थे। लेकिन, गुरूवार के दिन किया गया बैलेस्टिक मिसाइलों का परीक्षण संयुक्त राष्ट्रसंघ ने लगाए हुए प्रतिबंधों का उल्लंघन साबित होता है।

उत्तर कोरिया की हुकूमत ने गुरूवार के दिन किए परीक्षण से संबंधित कोई भी जानकारी सार्वजनिक नहीं की है। लेकिन, उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जाँग उन की बहेन किम यो जोंग ने बीते हफ्ते में अमरीका को धमकाया था, इस ओर भी माध्यमों ने ध्यान आकर्षित किया है।

English मराठी

इस समाचार के प्रति अपने विचार एवं अभिप्राय व्यक्त करने के लिए नीचे क्लिक करें:

https://twitter.com/WW3Info
https://www.facebook.com/WW3Info