Breaking News

अवैध स्थानांतरण रोकने के लिए अमरिका-मेक्सिको सीमा पर लष्कर की तैनाती – राष्ट्राध्यक्ष डोनाल्ड ट्रंप की तरफ से अध्यादेश जारी

तृतीय महायुद्ध, परमाणु सज्ज, रशिया, ब्रिटन, प्रत्युत्तर

वॉशिंग्टन: मेक्सिको से अमरिका में दाखिल होने वाले हजारो अवैध आप्रवासियों को रोकने के लिए ‘अमरिका-मेक्सिको’ सीमा पर लष्कर तैनात करने का आक्रामक निर्णय राष्ट्राध्यक्ष डोनाल्ड ट्रम्प ने लिया है। ट्रम्प ने लष्करी तैनाती के अध्यादेश पर बुधवार रात को हस्ताक्षर किए हैं और सीमा की स्थिति ‘संकट के मोडपर’ पहुंची है, ऐसा इशारा भी दिया है। ट्रम्प के इस निर्णय को टेक्सास, ऑरिझोना और न्यू मेक्सिको राज्यों ने समर्थन दिया है। कुछ दिनों पहले ही मेक्सिको से २००० आप्रवासियों का एक समूह अमरिका में घुसने के लिए निकलने की जानकारी सामने आई थी।

मंगलवार को अमरिका के राष्ट्राध्यक्ष डोनाल्ड ट्रम्प ने अपने ‘ट्विट’ में ‘होंडुरास’ में स्थित सैंकड़ों आप्रवासी मेक्सिको के रास्ते अमरिका में घुसने की तैयारी में हैं, ऐसा उल्लेख किया था। उसमें अमरिका के कमजोर कानून की वजह से सीमा सुरक्षित होने की नाराजगी भी व्यक्त की थी। इन अवैध रूपसे घुसने वाले आप्रवासियों को किसी भी परिस्थिति में रोकने की आवश्यकता है और इसके पीछे ‘नाफ्टा’ अनुबंध से होंडुरास और अन्य देशों को मिलने वाला पैसा ही वजह है, ऐसा आरोप किया है। अमरिकी संसद ने इसके खिलाफ आक्रामक कदम उठाने की आवश्यकता है, ऐसा ट्रम्प ने कहा था।

ट्रम्प के ट्विट पर मेक्सिको के राजनीतिक क्षेत्र, विरोधी डेमोक्रेटिक पार्टी और स्वयंसेवी समूहों की तरफ से तीव्र प्रतिकिया आई है। मेक्सिको से यात्रा करने वाले आप्रवासियों के समूह ने और उनकी सहायता करने वाले अमरिकी और मेक्सिकन समूहों ने ट्रम्प के इशारे से फर्क नहीं पड़ने वाला, ऐसा इशारा दिया था। उसके बाद राष्ट्राध्यक्ष ट्रम्प ने मेक्सिको को लगकर अमरिकी सीमा पर लष्कर तैनात करने की घोषणा करके खलबली मचाई थी। इस घोषणा के बाद सिर्फ ४८ घंटों के अन्दर ट्रम्प ने इस बारे में अध्यादेश जारी करके अमरिका में अवैध आप्रवासियों की घुसपैठ होने नहीं देंगे, ऐसे स्पष्ट संकेत दिए।

राष्ट्राध्यक्ष ट्रम्प का यह इशारा और उसके बाद के अध्यादेश के बाद मेक्सिको की तरफ से भी तेजी से कदम उठाना शुरू हुआ है। कुछ दिनों पहले अमरिका में अवैध रूपसे घुसने वाले आप्रवासियों के समूह में २००० से अधिक लोगों का समावेश होने की बात कही जा रही थी। लेकिन उसमें से कुछ लोगों को मेक्सिको में आश्रय दिया जाने वाला है और शेष समूह को सीमा पर दाखिल होने से पहले ही रोकने के संकेत दिए गए हैं।

गुरुवार को व्हर्जिनिया को जाने वाले ट्रम्प ने मेक्सिको के पास की अमरिकी सीमा पर करीब दो से चार हजार ‘नेशनल गार्ड’ तैनात किए जाने वाले हैं, यह स्पष्ट किया है। मेक्सिको सीमा पर ‘वॉल’ बांधकर पूरी होने तक ‘नेशनल गार्ड’ तैनात रहेंगे, ऐसे संकेत ट्रम्प ने दिए हैं। राष्ट्राध्यक्ष ट्रम्प के अध्यादेश के बाद अमरिका के ‘होमलैंड सिक्युरिटी’ विभाग के प्रमुख कस्टरजेन नेल्सन ने विविध राज्यों के साथ तैनाती के बारे में बातचीत शुरू की है और जल्द ही अंतिम निर्णय घोषित होगा, यह स्पष्ट किया है। अमरिका के अटोर्नी जनरल जेफ़ सेशन्स और रक्षा मुख्यालय ‘पेंटागन’ ने भी राष्ट्राधयक्ष ट्रम्प की तैनाती का समर्थन किया है।

(Courtesy: www.newscast-pratyaksha.com)

leave a reply