Breaking News

इस्रायल पर हुए ईरानी हमले के बाद क्रोधित इस्रायल के सीरिया स्थित ईरानी अड्डों पर आक्रामक हमले

जेरूसलेम – अमरिका द्वारा ईरान के परमाणु समझौते से पिछे हटने के बाद तृतीय विश्‍वयुद्ध भडक उठेगा| यह अभ्यासकों द्वारा व्यक्त हुई चिंता वास्तव में उतर चुकी है| अमरिका के फैसले को कई घंटे उलटने के बाद ईरान ने इस्रायल की गोलान सरहद पर करीब २० प्रक्षेपास्त्र और रॉकेट्स के जबरदस्त हमले चढाये| इस हमले के पिछे सीरिया में तैनात हुआ ईरान का कुद्स फोर्स यह सैनिकी पथक है, ऐसा इल्जाम इस्रायल ने किया है| इस हमले के बाद क्षुब्ध हुए इस्रायल ने अपने २८ लडाकू विमानों के साथ सीरिया स्थित ईरानी अड्डों पर करीब ६० से ज्यादा प्रक्षेपास्त्र डागे| इस में ईरान के करीब २४ सैनिकों की मौत हो चुकी है| इस्रायल के रक्षामंत्री एविग्दोर लिबरमन ने कहा की, इस हमले में ईरान की सीरिया स्थित सैनिकी संरचनात्नक सुविधांए पुरी तरह नष्ट हो चुकी है|

गोलान सरहद, हमले, एविग्दोर लिबरमन, परमाणु समझौता, ईरान, गतिविधिया, सीरिया, सर्जेई लावरोव्हअमरिका द्वारा परमाणु फैसले से पिछे हटने की तैयारी होने के बाद ईरान द्वारा सीरिया में सैनिकी गतिविधियों पर काफी जोर दिया जा रहा था| इस खबर को गंभीरता से लेते हुए इस्रायल ने सीरिया से जुडी गोलान सरहर पर सैनिकी तैनाती और सज्जता बढा दी थी तथा ‘बॉम्ब शेल्टर्स’ तैयार रखे थे| अपेक्षा नुसार ईरान ने सीरिया से इस्रायल के गोलान सरहर पर सैनिकी जगहों को निशाना बनाते हुए प्रक्षेपास्त्र तथा रॉकेट्स से हमले किये| बुधवार शाम से यह हमले शुरू हुए ऐसी जानकारी इस्रायल के रक्षा दल के प्रवक्ता लेफ्टनंट कर्नल ‘जोनाथन कॉनक्रीअस’ ने दी| सीरिया में तैनात रहे ईरान के कुद्स फोर्स इस सैनिकी पथक के प्रमुख रहे जनरल कासिम सुलेमानी के हुक्म् से यह हमले हुए, ऐसी जानकारी ले. कर्नल कॉनक्रीअस ने दी|

ईरान द्वारा डागी कई प्रक्षेपास्त्र और रॉकेटस् इस्रायल के हवाई रक्षा प्रणाली ने गिरा डाले| कुछ रॉकेट्स और प्रक्षेपास्त्र इस्रायल के नजदीक सैनिकी जगहों पर गिरे, पर उससे बडी क्षति नही पहुँची ऐसा दावा इस्रायली रक्षा दल के प्रवक्ता ने किया| लेकिन यह ईरान ने इस्रायल पर किया पहला हमला है| इसलिए हमले के बाद क्रोधित हुए इस्रायल ने अपने ‘एफ-१५’ और ‘एफ-१६’ विमान सीरिया रवाना किये और ईरान के सैनिकी अड्डों पर प्रलयंकारी हमले किये|

करीब दो घंटे इस्रायल के लडाकू विमानों के तह हमले शुरू थे| इसके लिए करीब २८ विमानों का इस्तेमाल हुआ| इन विमानों द्वारा ६० से ज्यादा प्रक्षेपास्त्र डागे जाने के साथ ईरान की सीरिया स्थित संरचनात्मक व्यवस्था नष्ट कर दी गयी| इन में सीरिया के राजधानी के नजदीक रहे ‘मेझेह’, ‘मेतूला’ इन दो प्रमुख सैनिकी अड्डों का समावेश है| हमलों के वक्त गोलान सरहद से इस्रायली सेना ने सीरिया पर १० से ज्यादा प्रक्षेपास्त्र डागे| यह हमले काफी सफल रहे, ऐसा दावा इस्रायल के रक्षा मंत्री लिबरमन ने किया|

‘इस्रायल के इस हमले में सीरिया स्थित ईरान की सैनिकी संरचनात्मक व्यवस्था नष्ट हो चुकी है| तुम्हारे द्वारा हम पर बरसात हुई तो तुम पें तूफानी प्रपात गिर सकता है, यह इस से साबित हो चुका है| यह किस्सा अब खतम हो चुका है और इससे सबको अच्छा सबक मिला होगा| ऐसे जहरीले शब्दों में इस्रायल के रक्षा मंत्री ने अपने देश की भूमिका स्पष्ट की|

वही, इस्रायल के रक्षा दल के प्रवक्ता नें, यह किस्सा अभी खतम नही हुआ है, ऐसा कहते हुए आनेवाले समय में हमलों की मालिका शुरु रहेगी, ऐसे संकेत दिये है| साथ ही ईरान को इस हमलें में ठीक होने में काफी समय लगेगा ऐसा जवाब भी ले. कर्नल कॉनक्रीअस ने दिया|

सीरियन मीडिया ने दावा किया है की, इस्रायल द्वारा डागे गये प्रक्षेपास्त्रों में से करीब ५० प्रतिशत प्रक्षेपास्त्र उनके हवाई रक्षा प्रणाली ने गिरा दिये| रशियन मीडिया ने भी इस दावे का समर्थन किया है| साथ ही रशिया के विदेश मंत्री सर्जेई लावरोव्ह ने इस्रायल और ईरान में बातचीत हो, ऐसी मॉंग सामने रखी है|

‘हमारे सैनिकी अड्डे तथा सैनिक सीरिया में तैनात नही’, ऐसा कहते हुए ईरान ने इस्रायल का दावा खारिज कर दिया है| सीरिया के हिस्से से ईरान ने इस्रायल पर हमले नही किये, ऐसा ईरान के रिव्होल्युशनरी गार्ड के उपप्रमुख जनरल हुसेन सलामी ने कहा है| ईरान अगर हमले करता तो वह उसकी घोषणा करता, ऐसा दावा जनरल सलामी ने किया|

‘दुश्मन ईरान से सीधी तरह सैनिकी संघर्ष करने के तैय्यारी में नही| वह ईरान पर आर्थिक प्रतिबंध लगाकर उस दबाव के नीचे ईरान को झुकाने के प्रयास कर रहे है| ऐसे में राजनीतिक बातचीत का विकल्प ईरान के सामने हो ही नही सकता| संघर्ष यह एक ही रास्ता है’, ऐसे जनरल सलामी ने बताया|

इस्रायल ने नक्शे के साथ हमले की जानकारी खुली की

सीरिया में चल रहे संघर्ष के आड ईरान सीरिया का रुपांतर अपने सैनिकी अड्डे में कर रहा है, ऐसा इल्जाम इस्रायल ने लगाया था| पर ईरान ने यह इल्जाम खारिज किये थे| पर गुरुवार के दिन इस्रायल ने सीरिया में अब तक के सबसे आक्रामक हमले करते हुए ईरान के सैनिकी अड्डे और संरचनात्मक सुविधांए नष्ट की| इस्रायल के रक्षादलों ने इस हमले की जानकारी खुली की है और हमले के जगहों के नक्शे भी प्रकाशित किये है|

सीरिया स्थित ईरान के इन जगहों में हथियारों के भंडार और खुफिया विभाग के केंद्र शामिल है| १९७४ में अरब देश और इस्रायल में हुए जंग के बाद, सीरिया पर गुरुवार को हुए हमले जैसा बडा हमला कभी भी नही हुआ था ऐसी जानकारी इस्रायल के एक अधिकारी ने दी है|

 

इस समाचार के प्रति अपने विचार एवं अभिप्राय व्यक्त करने के लिए नीचे क्लिक करें:

https://twitter.com/WW3Info
https://www.facebook.com/WW3Info