Breaking News

‘डिसिज एक्स’ नामक अज्ञात बीमारी करोडों लोगों की जान लेगी – विश्‍व स्वास्थ्य संगठन और शोधकर्ताओं की चेतावनी

जीनिव्हा/वॉशिंग्टन – अभी अनजान रहनेवाला एक जीवाणु या विषाणु दुनिया में हाहाकार पैदा करनेवाले भीषण महामारी की वजह बन सकता है| इस अज्ञात महामारी की वजह से करोडो लोगों की जान जा सकती है, ऐसी गंभीर चेतावनी विश्‍व स्वास्थ्य संगठन और प्रमुख शोधकर्ताओं ने दिया है| विश्‍व स्वास्थ्य संगठन ने इस बिमारी को ‘डिसिज एक्स’ ऐसा नाम दिया है तथा ‘बायोलॉजिकल म्युटेशन्स’ की वजह से इसका निर्माण हो सकता है, ऐसे भी कहा है| पिछले ही महिने में  ‘मायक्रोसॉफ्ट’ नामक विश्‍वविख्यात कंपनी के मुख्य बिल गेट्स ने खलबली मचानेवाली चेतावनी देते हुए कहा था कि, भयावह महामारी सिर्फ छह महीनों में तीन करोड से भी ज्यादा लोगों की जान ले सकती है|

‘डिसिज एक्स’मार्च महिनें में हुए बैठक में विश्‍व स्वास्थ्य संगठन द्वारा ‘ब्ल्यूप्रिंट लिस्ट ऑफ प्रायोरिटी डिसिजेस’ प्रकाशित की गयी थी|  इस में विश्‍व स्तर पर उत्पात मचाने में सक्षम बिमारी के नाम बताये गये थे|  उस में ‘झिका’, ‘सार्स’, ‘एबोला’, ‘लॅस्सा फिव्हर’ जैसे बिमारियों के साथ ही ‘डिसिज एक्स’ भी शामिल है|  ‘डिसिज एक्स’ के बारे में आगे चेतावनी देते हुए कहा गया है कि, इस बिमारी का जीवाणु/विषाणु की अभी तक जानकारी नही है|  पर उससे दुनिया में भयानक संहार करनेवाले अज्ञात बिमारी की फैलाव हो सकता है|

विश्‍व स्वास्थ्य संगठन के इस चेतावनी का हवाला लेते हुए अमरिका के  ‘जॉन हॉपकिन्स युनिव्हर्सिटी’ ने करीब १२० वैज्ञानिक तथा अनुसंधानकर्ताओं के सहायता से नया अहवाल तैय्यार किया है| ‘द कॅरेक्टरिस्टिक्स ऑफ पॅन्डेमिक पॅथोजेन्स’ नाम के इस रिपोर्ट में नयी अज्ञात बिमारी श्‍वसनमार्ग से फैलानेवाली हो सकती है, ऐसा दावा किया है| इस से पहले दुनिया में आयी हुई महामारी, जैविक युद्ध के लिए इस्तेमाल होनेवेले घटक और वर्तमान समय में फैल रही बिमारियां जैसे चीजों का आधार लेते हुए नया रिपोर्ट तैयार किया गया है, ऐसी जानकारी वरिष्ठ अनुसंधानकर्ता डॉक्टर अमेश अदाल्जा ने दी|

श्‍वसन के मार्ग से होनेवाले नयी बिमारी के विषाणु में गतिमान रुप से बदलने की क्षमता होगी और स्वास्थ्य क्षेत्र के तज्ज्ञ और अनुसंधानकर्ताओं को उसके खिलाफ इलाज के लिए ज्यादा तैयारी करने का मौका भी नही मिलेगा, ऐसी चेतावनी डॉक्टर अदाल्जा ने दी| श्‍वसन मार्ग से होनेवाले बिमारी मानवी समाज में बडी मात्रा में बदलाव करनेवाली साबित होगी, ऐसा भी रिपोर्ट में बताया गया है|

पिछले महीने अमरिका के एक मंच पर हुई बातचीत में बिल गेट्स ने डरावनी चेतावची दी थी| ‘दुनिया में जल्द ही नये घातक बिमारी का फैलाव होनेवाला है| अगर इतिहास ध्यान में रखा तो यह बात दशक में कभी भी हो सकती है और इसके लिए हमने अच्छी तैय्यारी नही की है|’ ऐसा गेट्स ने कहा था| इस वक्त गेट्स ने जैविक जंग की भयावह संभाव्यता भी जतायी थी, ऐसा जानकारों का कहना है| इसी वजह से इस संदर्भ में सामने आनेवाले खबरों का महत्त्व कई गुना बढ गया है|

‘एबोला’ की नयी महामारी से कॉंगो मे २३ लोगों की मौत

किन्शासा – आफ्रीका के कॉंगो में एबोला विषाणु की महामारी ने फिर से हाहाकार मचाना शुरु किया है| इस महामारी में २३ लोगों की मौत हो चुकी है| कॉंगो के ‘एम्बन्दाका’ शहर में यह बिमारी फैल चुकी है| यह शहर देश की यातायात का प्रमुख केंद्र माना जाता है| इसलिए नयी महामारी भयावह परिणाम  सामने लाएगी, ऐसा डर विश्‍व स्वास्थ्य संगठन ने जताया है| इस स पहले आफ्रीका में साल २०१४ और २०१६ के बीच आये ‘एबोला’ महामारी में करीब ११ हजार से ज्यादा लोगों की जान जा चुकी थी|

पिछले हफ्ते से कॉंगो में ‘एबोला’ महामारी फैलने की बात आगे आने के बाद तीन अलग हिस्सों में यह बिमारी फैलने की बात सामने आयी| ४० से ज्यादा लोगों को ‘एबोला’ लग चुका है तथा चार हजार से ज्यादा लोगों की जॉंच की जा रही है| इस महामारी का मुकाबला करने के लिए कॉंगो में ‘एबोला’ की लस भेजी गयी है, ऐसी जानकारी विश्‍व स्वास्थ्य संगठन ने दी| १९७० के दशक के बाद कॉंगो में नववी बार ‘एबोला’ महामारी फैल चुकी है|

 

 

इस समाचार के प्रति अपने विचार एवं अभिप्राय व्यक्त करने के लिए नीचे क्लिक करें:

https://twitter.com/WW3Info/status/997506512707731456
https://www.facebook.com/WW3Info/posts/395169384224885