Breaking News

उत्तर कोरिया से ‘टैक्टिकल वेपन’ का परीक्षण – अमरिका से कडी प्रतिक्रिया की अपेक्षा

सेऊल – एटमी और प्रक्षेपास्त्र निर्माण रोकने का वादा करने वाले उत्तर कोरिया ने अत्यंत आधुनिक शस्त्र का परीक्षण किया है, यह ऐलान किया। उत्तर कोरिया के तानाशाह ‘किम जोंग उन’ इनकी उपस्थिती में यह परीक्षण हुआ। यह सामरिक शस्त्र उत्तर कोरिया की सुरक्षा के लिये फौलादी दीवार साबित होगी, यह दावा उत्तर कोरिया की सल्तनत ने किया है। कुछ दिन पहले उत्तर कोरिया में खुफिया प्रक्षेपास्त्र केंद्र अभी भी शुरू है, यह दावा अमरिका में अभ्यासकों के गुट ने किया था।

जून महिने में सिंगापूर में हुई बैठक में अमरिकी राष्ट्राध्यक्ष डोनाल्ड ट्रम्प इन्होंने पहल करके उत्तर कोरियन तानाशाह ‘किम जोंग उन’ इनके साथ बातचीत की थी। इस दौरान राष्ट्राध्यक्ष ट्रम्प इन्होंने रखी सभी मांगे उत्तर कोरिया पूरी करेगा, यह भरोसा अमरिका ने जताया था। उत्तर कोरियाने भी एटमी परिक्षण केंद्र नष्ट करके और सीमापर की सैन्य की तैनाती में कटौती करके सकारात्मक संकेत दिये थे। लेकिन कुछ हफ्तों से उत्तर कोरिया की खुफिया तरीके से शुरू गतिविधियां सामने आ रही है।

शुक्रवार के दिन उत्तर कोरिया के सरकारी मीडिया ने ऐलान किया की, ‘अत्यंत प्रगत सामरिक शस्त्र का परीक्षण किया गया।’ यह परीक्षण सफल रहा है। यह सफलता उत्तर कोरिया के विज्ञान और तंत्रज्ञान की प्रगति स्पष्ट करती है। इस परीक्षण के साथ ही उत्तर कोरिया के रक्षा सामर्थ्य में बढोतरी हुई है और अपनी सेना की युद्ध करने की क्षमता और भी सख्त हुई है, यह ऐलान उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन इन्होंने किया है। इस शस्त्र के विषय में उत्तर कोरिया की सल्तनत या माध्यमों ने अन्य किसी भी स्वरुप की जानकारी उजागर नही की है।

कुछ दिन पहले ही अमरिका में अभ्याससको के गुट ने उत्तर कोरिया की सैटेलाईट से प्राप्त फोटो सामने लाये है। यह फोटो दर्शाते कि, आज भी उत्तर कोरिया के पहाडी इलाके में १३ जगहों पर खुफिया प्रक्षेपास्त्र केंद्र?शुरू है। इन जगहों पर उत्तर कोरिया मध्यम और दूरी के प्रक्षेपास्त्र छुपाई है, ऐसी आशंका अमरिकी अभ्यासकों की गुट ने जताई थी। साथ ही उत्तर कोरिया अमरिका के साथ हुई चर्चा में तय शर्तों का उल्लंघन कर रहा है, यह दावा भी इस गुट ने किया था।

लेकिन ट्रम्प प्रशासन ने तय किया है कि, उत्तर कोरिया के साथ चर्चा करेंगे। साथ ही ‘ट्रम्प-किम’ चर्चा में अमरिका ने रखी सभी मांगे उत्तर कोरिया की सल्तनत से पूरी होंगी, यह भरोसा भी अमरिका के विदेशमंत्री माईक पौम्पिओ इन्होंने जताया था। इस के अलावा राष्ट्राध्यक्ष ट्रम्प जल्द ही उत्तर कोरिया के तानाशाह किम इनकी एक बार फिर से भेंट करेंगे, ऐसा पौम्पिओ ने स्पष्ट किया है।

English   मराठी

इस समाचार के प्रति अपने विचार एवं अभिप्राय व्यक्त करने के लिए नीचे क्लिक करें:

https://twitter.com/WW3Info
https://www.facebook.com/WW3Info