Breaking News

दस दिन पूर्व हुआ युद्धविराम यानी इस्रायल-हमास युद्ध से बचने का आखरी मौका – संयुक्त राष्ट्रसंघ के राजदूत का दावा

गाजा – ‘इस्रायल और हमास में हुआ युद्धविराम यानी युद्ध से बचने का आखरी मौका है’, इस अवसर का कडा एहसास संयुक्त राष्ट्रसंघ के खाडी क्षेत्र के लिए नियुक्त राजदूत ‘निकोलाय मियादेनेव्ह’ इन्होंने कराया है। कडे संघर्ष के बाद इस्रायल और हमास में दस दिन पहले युद्धविराम हुआ था। इसके पहले हुए संघर्ष में २५ पैलस्टिनी और ४ इस्रायली नागरिकों की मौत हुई थी।

इस्रायल-हमास युद्ध, युद्धविराम, निकोलाय मियादेनेव्ह, हवाई हमलें, ww3, गाजा, अमरिकागाजापट्टी की ‘इस्लामिक जिहाद’ और ‘हमास’ इन संगठनों ने इस्रायल पर रॉकेट हमलें किए थे। इन हमलों को इस्रायल ने गाजा में हमास के ठिकानों पर हवाई हमलें करके जवाब दिया था। साथ ही हमास के विरोध में व्यापक युद्ध शुरू करने की तैयारी भी इस्रायल ने की थी। लेकिन, इजिप्ट ने मध्यस्थता करके इस्रायल और हमास में युद्धविराम करवाया। कतार और संयुक्त राष्ट्रसंघ ने भी इस युद्धविराम के लिए कोशिश की थी। यह युद्धविराम नही होता तो इस्रायल और हमास में भीषण युद्ध शुरू हुआ होता।

संयुक्त राष्ट्रसंघ ने खाडी क्षेत्र में नियुक्त किए राजदूत निकोलाय मियादेनेव्ह ने इस संभावना का एहसास कराया। गाजा में एक अस्पताल के लिए ‘सोलर पॉवर प्लान्ट’ का उद्घाटन करते समय राजदूत मियादेनेव्ह बोल रहे थे। इस्रायल और गाजा इस युद्धविराम की अहमियत ठिक से समझ ले, यह उम्मीद भी उन्होंने इस दौरान व्यक्त की। इस युद्धविराम की वजह से अबतक भीषण युद्ध से दूर रहना मुमकिन हुआ है, इस बात पर वह इस्रायल और हमास का ध्यान केंद्रीत करने की कोशिश कर रहे है।

फिलहाल युद्धविराम हुआ है, फिर भी यदि इस्रायल पर हमला होता है तो किसी भी क्षण गाजा में हमास पर भीषण हमलें करने के लिए हम तैयार है, ऐसा इशारा इस्रायल के प्रधानमंत्री ने दिया है। वही, यह युद्धविराम यानी इस्रायल की बडी हार और हमारी जित होती है, यह दावा हमास कर रहा है। ऐसी स्थिति में इस्रायल और हमास में हुआ युद्धविराम किसी भी क्षण खतम होने की कडी संभावना है। अमरिका ने भी हमास और गाजापट्टी की चरमपंथी संगठनों को कडी कार्रवाई का इशारा देकर इस्रायल पर हमलें ना करने की धमकी दी थी।

इस पृष्ठभूमि पर संयुक्त राष्ट्रसंघ के राजदूत ने दी हुई चेतावनी की अहमियत और भी बढती दिख रही है। इस दौरान, इस्रायल के हमलों में गाजा में बडा नुकसान हुआ था। गाजा की जनता को सहायता करने के लिए कतार ने काफी बडी सहायता पेश की है। कतार के राजदूत ‘मोहम्मद अल इमादी’ लगभग तीन करोड डॉलर्स की आर्थिक सहायता के साथ गाजा पहुंचे। नुकसान उठा रहे गाजा में पैलस्टिनी नागरिकों को कतार ने नकद रकम दी है। यह सहायता काफी ना होने की तकरार कुछ पैलस्टिनी नागरिक कर रहे है।

English    मराठी

इस समाचार के प्रति अपने विचार एवं अभिप्राय व्यक्त करने के लिए नीचे क्लिक करें:

https://twitter.com/WW3Info
https://www.facebook.com/WW3Info