Breaking News

पर्शियन खाड़ी में अमरिकी युद्धपोतों का पीछा करते रहेंगे – ईरान के नौसेनाप्रमुख ने धमकाया

US warships in Persian Gulf 

तेहरान – ‘अमरिकी जहाज़ जहाँ कहीं भी होंगे, वहाँ वहाँ ईरान के गश्‍तीपोत उनका पीछा करते ही रहेंगे’, ऐसी धमकी ईरान के नौसेनाप्रमुख ने दी है। ईरान के गश्‍तिपोतों ने पर्शियन खाड़ी में अमरिकी युद्धपोतों का बड़े खतरनाक तरीके से पीछा करने के बाद राष्ट्राध्यक्ष ट्रम्प ने, अपने युद्धपोत से १०० मीटर दूरी के भीतर पहुँचें किसी भी जहाज़ को उड़ा देने के आदेश अपनी नौसेना को दिये थे। इसके बाद, यह अमरीका ने ईरान को दी हुई कड़ी चेतावनी है, यह कहा जा रहा था। इसपर ईरान के रिव्होल्युशनरी गार्डस्‌ ने प्रत्युत्तर दिया हुआ दिख रहा है।

ईरान की नौसेना में गुरुवार के दिन ११२ स्पीड़ बोटस्‌ शामिल हुईं हैं। इन स्पीड़ बोटस्‌ की वज़ह से पर्शियन खाड़ी में ईरान की आक्रामकता में बढ़ोतरी होगी, यह दावा रिव्होल्युशनरी गार्डस्‌ के वरिष्ठ जनरल हुसेन सलामी ने किया। साथ ही ‘पर्शियन खाड़ी अब शत्रु के लिए नरक समान बना देंगे। इससे शत्रु को इस समुद्री क्षेत्र से भागने के सिवा और कुछ चारा ही नहीं रहेगा’, यह बयान भी सलामी ने किया। वहीं, आनेवाले दिनों में पर्शियन खाड़ी में ईरान की नौसेना का प्रभाव काफ़ी मात्रा में बढ़ेगा। जहाँ कहीं भी अमरिकी जहाज़ दिखाई देंगे, उस हर जगह पर ईरान के गश्‍तिपोत उनका पीछा करेंगे, यह धमकी ईरान के नौसेनाप्रमुख एडमिरल अलिरेझा तांगसिरि ने दी है।

ईरान की नौसेना के बेड़े में पहले से ही ३४२ स्पीड़बोटस्‌ तैनात हैं। नौसेना में सबसे अधिक स्पीड़बोटस्‌ की संख्या होनेवाले देशों की सूचि में ईरान दुसरे क्रमांक पर है। ईरान की नौसेना की इन स्पीड़बोटस्‌ को ‘स्वार्म बोटस्‌’ के तौर पर भी जाना जाता हैं। ईरान की ये स्पीड़बोटस्‌ अपने युद्धपोतों के लिए खतरा बनें हैं, यह आरोप अमरीका कर रही है। पिछले महीने में ईरान के करीबन ११ गश्‍तीपोतों ने पर्शियन खाड़ी से सफ़र कर रहे अमरिकी युद्धपोत से काफ़ी नज़दीक से बड़े खतरनाक तरीके से सफ़र किया था। इस पृष्ठभूमि पर अमरिकी नौसेना ने पिछले हफ़्ते में ही ईरान को चेतावनी दी थी। राष्ट्राध्यक्ष डोनाल्ड ट्रम्प ने अपनी नौसेना को, इसके बाद ईरान के गश्‍तीपोतों पर कार्रवाई करने के आदेश दिए थे।

इसके बाद, अमरिकी नौसेना ने पर्शियन खाड़ी में सौदी अरब के साथ विशेष अभ्यास भी शुरू किया है। पर्शियन खाड़ी को आतंकी हमलों से सुरक्षित रखने के लिए यह युद्धाभ्यास आवश्‍यक होने का बयान अमरिकी नौसेना ने किया है। यह युद्धाभ्यास शुरू होने के कुछ ही घंटे बाद, ईरान ने अपनी नौसेना में ११२ स्पीड़बोटस्‌ शामिल करके अमरीका और मित्रदेशों को चेतावनी दी हुई दिख रही है।

English     मराठी

इस समाचार के प्रति अपने विचार एवं अभिप्राय व्यक्त करने के लिए नीचे क्लिक करें:

https://twitter.com/WW3Info
https://www.facebook.com/WW3Info