Breaking News

भूमध्य समुद्री क्षेत्र की शांति के लिए साम्राज्यवादी तुर्की को रोकना आवश्‍यक – फ्रान्स के राष्ट्राध्यक्ष इमैन्युएल मैक्रॉन का इशारा

पैरिस/इस्तंबूल – भूमध्य समुद्री क्षेत्र में शांति बरकरार रखना आवश्‍यक है और इसके लिए तुर्की जैसे साम्राज्यवादी हुकूमकत को रोकना आवश्‍यक होने का कड़ा इशारा फ्रान्स के राष्ट्राध्यक्ष इमैन्युएल मैक्रॉन ने दिया है। बीते कुछ महीनों में भूमध्य समुद्री क्षेत्र के अधिकारों के मुद्दे पर ग्रीस और तुर्की के बीच विवाद भड़का है और इस दौरान फ्रान्स ग्रीस के पीछे ड़टकर खड़ा है। बीते सप्ताह में फ्रेंच राष्ट्राध्यक्ष ने तुर्की के खिलाफ़ लष्करी कार्रवाई करने का आक्रामक रवैया भी अपनाया था। इसी बीच, फ्रान्स के साथ यूरोपिय देशों के दबाव के बावजूद तुर्की के राष्ट्राध्यक्ष ने अपना आक्रामक रवैया बरकरार रखते हुए ग्रीस को ही धमकाया है। बातचीत करो वरना तीव्र वेदना का अनुभव करने के लिए तैयार रहो, ऐसी धमकी तुर्की के राष्ट्राध्यक्ष रेसेप एर्दोगन ने दी है।

भूमध्य समुद्री क्षेत्र

लीबिया का संघर्ष और भूमध्य समुद्र में जारी इंधन के खनन के मुद्दे पर फ्रान्स और तुर्की के संबंधों में तनाव आया है। ग्रीस के साथ यूरोपिय देशों ने किया आवाहन ठुकराकर तुर्की ने भूमध्य समुद्र में जबरन इंधन का खनन शुरू किया है। अपनी इस मुहीम का समर्थन करने के लिए तुर्की ने इस क्षेत्र में बड़ी मात्रा में लष्करी तैनाती की है और एक के बाद एक युद्धाभ्यास का आयोजन कर रहा है। तुर्की के राष्ट्राध्यक्ष एर्दोगन ने इतिहास के दाखिले देकर यूरोपिय देशों को धमकाना भी शुरू किया है। इसके खिलाफ़ फ्रान्स ने काफ़ी आक्रामक रवैया अपनाया है और राष्ट्राध्यक्ष मैक्रॉन ने तुर्की का सीधे साम्राज्यवादी हुकूमत ऐसे ज़िक्र करना इस बात की पुष्टी करता है।

भूमध्य समुद्री क्षेत्र

भूमध्य समुद्री क्षेत्र में शांति बनाए रखना आवश्‍यक है। इसके लिए अपने इतिहास के अद्भुत गतिविधियों के दाखिले देकर धमका रहे तुर्की जैसे प्रादेशिक साम्राज्यवादी हुकूमत को रोकना आवश्‍यक है। भूमध्य समुद्री क्षेत्र की संप्रभुता के मुद्दे पर फ्रान्स ने अपनाई भूमिका और की हुई कृति आगे भी होती रहेगी। तुर्की जैसे देश को सिर्फ यही भाषा समझ में आती है। तुर्की ने रेड़ लाईन का उल्लंघन नहीं करना चाहिए और यही फ्रान्स की नीति है, ऐसे पुख्ता शब्दों में फ्रान्स के राष्ट्राध्यक्ष ने तुर्की को चेतावनी दी है। तुर्की की हरकत नाटो सदस्य देशों की नीति से मेल करनेवाली ना होने का आरोप भी राष्ट्राध्यक्ष मैक्रॉन ने दोहराया है। तुर्की के खिलाफ़ कड़े प्रतिबंध लगाए जाएं, ऐसी भूमिका भी फ्रान्स ने पहले ही यूरोपियन महासंघ के सामने रखी है।

भूमध्य समुद्री क्षेत्र

फ्रान्स के साथ यूरोपिय महासंघ ग्रीस के साथ खड़ा होने का चित्र दिखाई दे रहा है, इसके बावजूद तुर्की ने फिरसे ग्रीस को धमकाया है। ग्रीस को राजनीतिक चर्चा की भाषा समझ में आ रही होगी, यह उम्मीद है। यदि नहीं समझ में आती तो रणभूमि में तीव्र वेदना का अनुभव करने के लिए तैयार रहे। अन्य लोगों ने थोंपे अवैध नक्शे और समझौते फाड़ने के लिए आवश्‍यक राजनयिक, आर्थिक और लष्करी सामर्थ्य तुर्की रखता है। तुर्की का विरोध करनेवालों को भी इसका एहसास दिलाया जाएगा, यह धमकी तुर्की के राष्ट्राध्यक्ष रेसेप एर्दोगन ने दी है। इससे पहले नॉर्दर्न सायप्रस के साथ तुर्की नया लष्करी युद्धाभ्यास करेगा ऐसी जानकारी सूत्रों ने प्रदान की थी। इस नए युद्धाभ्यास की वजह से भूमध्य समुद्री क्षेत्र में तनाव और भी बढ़ने के संकेत प्राप्त हो रहे हैं।

तुर्की नया युद्धाभ्यास करने की तैयारी में होते हुए रशियन नौसेना ने भी भूमध्य समुद्र में एक के बाद एक दो युद्धाभ्यास करने का ऐलान किया है। ८ से २५ सितंबर के दौरान रशियन नौसेना युद्धाभ्यास करेगी और इसमें युद्धोपोत भी शामिल होंगे ऐसी जानकारी रशियन प्रवक्ता ने प्रदान की। रशिया के इस ऐलान पर तुर्की ने प्रतिक्रिया दर्ज़ की है और रशियन युद्धपोत तुर्की की समुद्री मुहिम में दखलअंदाज़ी ना करे, यह इशारा भी तुर्की ने दिय है।

English        मराठी

इस समाचार के प्रति अपने विचार एवं अभिप्राय व्यक्त करने के लिए नीचे क्लिक करें:

https://twitter.com/WW3Info
https://www.facebook.com/WW3Info