Breaking News

‘ब्लैक सी’ में युद्धाभ्यास करने हेतु रशिया के ५० विमान क्रिमिआ में दाखिल – ब्रिटेन ‘ब्लैक सी’ में विध्वंसक रवाना करेगा

मास्को/लंदन/पैरिस – ‘ब्लैक सी’ के क्षेत्र में युद्धाभ्यास करने के लिए रशिया के ५० लड़ाकू और बॉम्बर विमानों का बेड़ा क्रिमिआ में दाखिल हुआ है। इसके अलावा रशिया का विध्वंसक भी तुर्की की बॉस्फोरस की खाड़ी पार करके ‘ब्लैक सी’ में प्रवेश करते समय के फोटो प्रसिद्ध हुए हैं। अंतरराष्ट्रीय समुदाय ने रशिया के लिए सीमा रेखा तय करने की आवश्‍यकता निर्माण हुई है, ऐसा इशारा फ्रान्स ने दिया है।

रशियन वृत्तसंस्था ने प्रसिद्ध की हुई जानकारी के अनुसार रशिया की ‘सदर्न मिलिटरी डिस्ट्रिक्ट’ (वाययूवीओ) ‘ब्लैक सी’ क्षेत्र में बड़े युद्धाभ्यास का आयोजन करेगा। इसमें रशियन वायुसेना, नौसेना एवं हवाई सुरक्षा यंत्रणा का भी समावेश होगा। रशियन वायुसेना के ‘सुखोई-२७एसएम’, ‘सुखोई-३०एसएम’ जैसे लड़ाकू विमान और ‘सुखोई-२४एम’, ‘सुखोई-३४एम’, ‘सुखोई-३४’ बॉम्बर्स समेत ‘सुखोई-२५एमएम३’ जैसे हमलावर विमान इस युद्धाभ्यास का हिस्सा होंगे। इस युद्धाभ्यास में शामिल होने के लिए रशिया के ५० से अधिक विमानों का बेड़ा क्रिमिआ में दाखिल हुआ है।

इसके अलावा रशियन नौसेना का ‘कैलिबर मिसाइलों’ से लैस ‘मैकारोव’ विध्वंसक एवं ‘ग्रेवोरोन’ और ‘विश्‍नी वोलोशेक’ यह गश्‍तपोत भी कैस्पियन समुद्र से ब्लैक सी में पहुँचने के लिए रवाना हुए हैं। इनमें से ‘मैकारोव’ विध्वंसक ने बॉस्फरस की खाड़ी पार करके ‘ब्लैक सी’ क्षेत्र में पहुँचने की खबरें और फोटो प्रसिद्ध हुए हैं। ‘ब्लैक सी’ में आयोजित हो रहे इस युद्धाभ्यास का ऐलान रशिया के रक्षामंत्री सर्जेई शोईगू ने चार दिन पहले किया था।

नाटो से बढ़ रहे खतरे को प्रत्युत्तर देने के लिए इस युद्धाभ्यास का आयोजन करने का इशारा रक्षामंत्री शोईगू ने दिया था। तभी ‘ब्लैक सी’ में रशिया द्वारा आयोजित यह युद्धाभ्यास इस क्षेत्र में उड़ान भरनेवाले यात्री विमानों के लिए इशारा होने की आलोचना यूरोपिय माध्यम कर रहे हैं। इसके लिए वर्ष २०१४ में रशिया समर्थक विद्रोहियों ने मलेशिया का ‘एमएच-१७’ विमान मार गिराया था, उस घटना की याद भी माध्यम ताज़ा करा रहे हैं।

ऐसी स्थिति में ब्रिटेन ब्लैक सी क्षेत्र में अपना विध्वंसक रवाना कर रहा है। ब्रिटेन के शीर्ष अखबार ने वरिष्ठ नौसेना अफसर के दाखिले से यह जानकारी प्रसिद्ध की। मई महीने में ब्रिटेन की रॉयल नौसेना का प्रगत विध्वंसक ‘ब्लैक सी’ में गश्‍त लगाने के लिए रवाना होगा। इस दौरान ब्रिटेन के विमान वाहक ‘क्विन एलिज़ाबेथ’ युद्धपोत पर तैना ‘एफ-३५’ विमान और मर्लिन पनडुब्बी किसी भी हरकत का सामना करने के लिए तैयार रहेंगे, ऐसा इस अखबार ने कहा है।

इसी बीच, युक्रैन और रशिया में तनाव के मुद्दे पर फ्रान्स के राष्ट्राध्यक्ष इमैन्युएल मैक्रॉन ने इशारा दिया है। ‘कुछ वर्ष पहले युक्रैन के विषय में जो कुछ हुआ, वह राजनीतिक स्तर की नाकामयाबी थी। इससे सबक सीखकर अंतरराष्ट्रीय समुदाय रशिया के लिए सीमा रेखा तय करे। केवल प्रतिबंध लगाने से सभी समस्याओं का हल नहीं निकलता’, ऐसा आवाहन राष्ट्राध्यक्ष मैक्रॉन ने किया है।