Breaking News

अमरिका के साथ संघर्ष में चीन रशिया के पीछे ठोस रूप से खड़ा है – चीन के रक्षा मंत्री की घोषणा

अमरिका, संघर्ष, चीन, ठोस रूप, वुई फेंग, घोषणा, रशिया, सर्जई शोइगूमॉस्को : चीन के रक्षामंत्री के नाते से मैं रशिया के दौरे पर जाकर आया हूं और इस द्वारा चीन एवं रशियन रक्षा दलों में सहयोग हमें दुनिया को दिखाना है। वर्तमान समय में इसका महत्व बढ़ा हैं और अमरिका के सामने रशिया का संघर्ष शुरू होते हुए, रशिया के पीछे चीन ठोस रूप से खड़ा है, यह संदेश हमें अमरिका को देना है ऐसा चीन के नए रक्षा मंत्री वुई फेंग ने घोषित किया है।

रशिया में मॉस्को इंटरनेशनल सिक्योरिटी कौनसिल की सुरक्षा बैठक का आयोजन किया गया है और उसके लिए विभिन्न देशों के रक्षा मंत्री उपस्थित थे। चीन के रक्षा मंत्री फेंग भी इस बैठक के लिए रशिया में दाखिल हुए हैं और उन्होंने रशिया के रक्षा मंत्री सर्जई शोइगू से मुलाकात की है। चीन के राष्ट्राध्यक्ष शी जिनपिंग का संदेश लेकर हम रशिया के दौरे पर आए हैं, ऐसा फेंग ने उस समय कहा।

अमरिका, संघर्ष, चीन, ठोस रूप, वुई फेंग, घोषणा, रशिया, सर्जई शोइगूरशिया और चीन इन दोनों देशों के लष्कर का आधुनिकरण और अमरिकी विरोधी सहयोग ऐसे दो प्रमुख संदेश लेकर हम बैठक में शामिल हो रहे है, ऐसी जानकारी चीन के रक्षा मंत्री ने दी है। चीन और रशिया ने लष्कर के सक्षमीकरण के लिए शुरू किए संयुक्त प्रयत्न एवं सामरिक सहयोग अंतरराष्ट्रीय समुदाय को दिखाने के लिए, इस रशिया दौरे पर आए हैं ऐसी जानकारी भी फेंग ने दी है।

वर्तमान समय में अमरिका ने रशिया पर डाले हुए राजनीतिक, आर्थिक बहिष्कार तथा लष्कर की कड़ी चेतावनी इस पृष्ठभूमि पर चीन रशियन लष्कर के सहयोग के लिए सक्षम है। रशिया को अमरिका विरोधी संघर्ष में समर्थन देने के लिए मैं इस रशिया दौरे पर आया हूं, ऐसा दावा फेंग ने किया है।

चीन एवं रशिया अंतरराष्ट्रीय स्तर पर समान खतरे का सामना कर रहे है, यह बात कहकर रक्षा मंत्री फेंग ने अमरिका पर निशाना साधा है। साथ ही अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर चीनी एवं रशिया की भूमिका एक समान होकर दोनों देशों में यह सहयोग आगे चलकर कायम रहेंगे, ऐसा फेंग ने आगे कहा है। दो हफ्तों पहले चीन के रक्षामंत्री पद के सूत्र हाथ लेने वाले फेंग ने अपने पहली रशिया यत्रा में अमरिका को इशारा देखकर चीन का अमरिका विरोध अधिक तीव्र होने की बात दिखाई है।

अमरिका का रशिया के साथ राजनीतिक संघर्ष शुरू हुआ है एवं दो देशों में तनाव बढ़ा है और अमरिका का चीन के साथ व्यापार युद्ध भड़का है। इस व्यापार युद्ध की पृष्ठभूमि पर चीन ने रशिया का पक्ष उठाया है और अमरिका के विरोध में आक्रामक भूमिका स्वीकारना अत्यंत आम बात मानी जा रही है।

 

(Courtesy: www.newscast-pratyaksha.com)

leave a reply