Breaking News

‘बिना शर्त’ और ‘बिना मर्यादा’ भारत की सहायता करने के लिए इस्रायल तैयार

नई दिल्ली – पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बादन अमरिकी राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जॉन बोल्टन इन्होंने भारत को आत्मरक्षा के लिए कार्रवाई करने का अधिकार होने की बात स्वीकारी थी। उनके इस समर्थन पर पाकिस्तान में खलबली मची है। इसके बाद अब इस्रायल के भारत में नियुक्त राजदूत डॉ.रॉन माल्का इन्होंने अपने देश का भारत को बिना शर्त सहयोग प्राप्त होगा, यह घोषित किया है। साथ ही इस सहयोग के लिए कोई भी मर्यादा नही रहेगी, ऐसा बहुत ही अहम वक्तव्य डॉ.माल्का इन्होंने किया है। इस्रायल के लष्करी क्षमता का एहसास होने से पाकिस्तान डॉ.माल्का ने किए ऐलान से काफी डरा है। इसी बीच पाकिस्तान के विदेश मंत्री ने इस्रायल के साथ संबंधों में सुधार करने की इच्छा का भी ऐलान किया है।

‘भारत यह इस्रायल का नजदिकी सहयोगी एवं मित्र देश है। हम भारत से बिना शर्त सहयोग करने के लिए तैयार है। खास तौर पर आतंकवाद के विरोध में भारत की सुरक्षा और भी मजबूत करने के लिए इस्रायल से भारत के लिए दिए जा रहे सहायोग पर किसी भी स्वरूप की मर्यादा नही हो सकती। आतंकवाद यह सिर्फ भारत या इस्रायल तक सीमित समस्या नही है।

यह पुरी दुनिया के सामने खडा हुआ प्रश्‍न बना है और पुरी दुनिया ने सहयोग के साथ आतंकवाद की चुनौती का सामना करना जरूरी है’, यह उम्मीद डॉ.माल्का इन्होंने व्यक्त की।

‘इसी लिए भारत को अपने आतंकविरोधी कार्रवाईयों का तजुर्बा, हुनर और तकनीक की आपुर्ति करने के लिए इस्रायल उत्सुक है। क्यों की, हमें हमारें सबसे निकटतम् मित्र देश को सुरक्षा के लिए सहायता करनी है’, यह कहकर इस्रायली राजदूत ने अपनी देश की भावना व्यक्त की। भारत पहुंचने से पहले इस्रायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेत्यान्याहू इन्होंने हमें यही संदेशा दिया था?और भारत यह इस्रायल का काफी अहम मित्रदेश है, यह डटकर समझाया था, इसकी जानकारी डॉ.माल्का ने दी।

इस दौरान, इस्रायल से भारत को बिना शर्त और बिना किसी भी मर्यादा से सहयोग करने का प्रस्ताव प्राप्त हो रहा था तभी, पाकिस्तान घबडाहट में पहुंचा है। ऐसे में ही पाकिस्तान को इस्रायल के साथ संबंध स्थापित करने है, यह दावा पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरेशी इन्होंने किया है। आज तक पाकिस्तान ने इस्रायल का अस्तित्व ठुकराया है और इस्रायल यह अरब देशों की भूमि पर खडा अवैध देश है, यही भूमिका पाकिस्तान ने कायम रखी है। लेकिन, इस्रायल ने भारत को सहयोग करने की तैयारी दिखाने से पाकिस्तान अपने जनम से कायम रखी इस्रायल के विरोध की भूमिका छोडने को तैयार होता दिखाई दे रहा है।

 

भारत संयम बरतें – चीन ने जताई अपेक्षा

बीजिंग – पुलवामा पर हुए कायराना हमले के बाद भारत ने पाकिस्तान को सबक सिखाने की तैयारी शुरू की है। ऐसे में ही पाकिस्तान का नजदिकी मित्र बने चीन ने भारत को संयम बरतनें की दर्ख्वास्त की है। भारत और पाकिस्तान संयम दिखाए और जल्द से जल्द बातचीत के जरिए समस्या का हल निकाले, ऐसी समजदारी की भूमिका चीन ने अपनाई है।

‘पुलवामा’ में हुए हमले के बाद पाकिस्तान पर भडक उठें भारतीय जनता के मन में बने असंतोष का झटका चीन को भी मिलेगा, यह स्पष्ट हो रहा है। ऐसे में चीन ने ही सुरक्षा परिषद में नकाराधिकार का इस्तेमाल करके ‘जैश’ पर प्रस्तावित कार्रवाई पर रोक लगाई थी, इसकी याद भारतीय विश्‍लेषकों के साथ जनता के भी दिलों-दिमाग में होनी की बात पिछले पांच दिनों में लगातार स्पष्ट हुई है।

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गेंग शुआंग इन्होंने माध्यमों के साथ बोलते समय पुलवामा में हुए हमले पर चीन की प्रतिक्रिया दर्ज की।

दक्षिण एशिया की स्थिरता एवं सुरक्षा के लिए भारत और पाकिस्तान यह काफी अहम देश होते है, ऐसा कहकर शुआंग इन्होंने पाकिस्तान की भारत के साथ बराबरी करने की कोशिश की। इसीलिए इस आतंकी हमले के बाद भारत और पाकिस्तान संयमता का प्रदर्शन करने एवं बातचीत के माध्यम से इस समस्या से राह निकाले, ऐसी आशा चीन रखता है, ऐसा शुआंग इन्होंने स्पष्ट किया है।

English मराठी

इस समाचार के प्रति अपने विचार एवं अभिप्राय व्यक्त करने के लिए नीचे क्लिक करें:

https://twitter.com/WW3Info
https://www.facebook.com/WW3Info