Breaking News

परमाणु हथियारों की तकनीक अवैध मार्ग से प्राप्त करने के लिए पाकिस्तान की कोशिश – जर्मनी का आरोप

बर्लिन – पिछले कुछ वर्षों में पाकिस्तान अवैध मार्ग से परमाणु हथियार प्राप्त करने की कडी कोशिश कर रहा है, यह आरोप जर्मनी ने किया है| परमाणु तकनीक के साथ ही जैविक एवं रासायनिक हथियार प्राप्त करने की कोशिश भी पाकिस्तान कर रहा है, यह बात जर्मन सरकार ने अपने दावे में कही है| जर्मनी की सांसद ने पुछे सवाल पर जवाब देते समय यह जानकारी रखी गई|

nuclear technology, procure, German intelligence agency, nuclear weapons, nuclear program, Germany, Pakistan, Left Partyजर्मनी की अंतर्गत गुप्तचर यंत्रणा ‘बीएफव्ही’ ने पिछले वर्ष परमाणु तकनीक के प्रसार संबंधी एक रपट तैयार की थी| इस रपट में पाकिस्तान से परमाणु हथियारों के निर्माण के लिए जरूरी सामान जर्मनी एवं अन्य पश्‍चिमी देशों से प्राप्त करने की हो रही कोशिश पर ध्यान आकर्षित किया गया था| जर्मन गुप्तचर यंत्रणा ने इस मुद्दे पर गंभीर चिंता व्यक्त करके यह कोशिश रोकने की जरूरत होने की सूचना भी की थी|

इसी रपट में, परमाणु हथियारों के प्रसार पर पाबंदी लगाने के लिए किए गया समझौते पर पाकिस्तान ने हस्ताक्षर नही किए है, यह एहसास भी कराया गया था| पाकिस्तान की सेना भारत के विरोध में व्यापक स्तर पर परमाणु कार्यक्रम पर काम कर रहा है, यह बात भी इस रपट में रेखांकित की गई थी| पाकिस्तान के पास फिलहाल १३० से १४० परमाणु हथियार है और वर्ष २०२५ तक इन हथियारों की संख्या २५० तक बढाने की महत्वाकांक्षा पाकिस्तान ने रखी है, यह इशारा भी जर्मनी की अंतर्गत गुप्तचर यंत्रणा ‘बीएफव्ही’ ने दिया था|

कुछ दिन पहले जर्मन संसद में ‘लेफ्ट पार्टी’ के सदस्य ने जर्मन सरकार को परमाणु हथियारों की तकनीक समेत रासायनिक एवं जैविक हथियारों की प्राप्ती के लिए अन्य देश कौनसी कोशिशें कर रहे है, इस मुद्दे पर जानकारी देने की मांग की थी| इसपर जवाब देते समय जर्मन सरकार ने पाकिस्तान ने इन हथियारों की प्राप्ती के लिए जरूरी कोशिशें तेज करने की बात स्पष्ट की थी| जर्मनी में कुछ सांसद पाकिस्तान से परमाणु हथियारों के लिए हो रही गतिविधियों पर कडी नाराजगी व्यक्त कर रहे है और यह देश विश्‍वासार्ह भागीदार ना होने का आरोप भी कर रहे है|

इसी बीच जर्मनी की संसदीय समिती के सदस्यों ने पाकिस्तान को प्रदान हो रही हथियारों की सहायता बंद करने की मांग भी की है|

English   मराठी

इस समाचार के प्रति अपने विचार एवं अभिप्राय व्यक्त करने के लिए नीचे क्लिक करें:

https://twitter.com/WW3Info
https://www.facebook.com/WW3Info