Breaking News

ईरान को जवाब देने के लिए अमरिका के ‘बी-५२ बॉम्बर्स’ तैयार

वॉशिंग्टन – कासेम सुलेमानी की हुई हत्या का इन्तिकाम लेने के लिए ईरान दो दिनों में अमरिका पर हमलें करने की कडी संभावना अमरिका के वरिष्ठ लष्करी अधिकारियों ने जताई है| इन हमलों को जवाब देने की तैयारी भी अमरिका ने रखी है और ईरान को इसके गंभीर परिणामों का एहसास भी अमरिका करा रही है| ईरान के मिसाइलों के दायरे के बाहर होने वाले हिंद महासागर क्षेत्र में स्थित ‘दिएगो गार्सिया’ हवाई अड्डे पर अमरिका ने अपने ‘बी-५२ बॉम्बर्स’ विमान तैयार रखे है| जरूरत होने पर यह विमान ईरान को काफी आसानी से लक्ष्य कर सकते है| साथ ही अमरिका ने उताह में अफने ‘एफ-३५ए’ इन अतिप्रगत लडाकू विमानों का ‘एलिफंट वॉक’ करवा कर शक्तिप्रदर्शन भी किया है|

अमरिका को ईरान ‘जैसे को तैसा’ जवाब देने की तैयारी में होने का दावा अमरिकी सेना अधिकारी कर रहे है| ‘लेफ्टनंट जनरल कासेम सलेमानी की हत्या के बदले में खाडी क्षेत्र में तैनात अमरिकी लेफ्टनंट जनरल या जनरल पद के वरिष्ठ सेना अधिकारी को ईरान लक्ष्य कर सकता है| अगले ४८ घंटों में ईरान यह हमलें कर सकता है’, यह जानकारी एक अमरिकी अफसर ने नाम घोषित ना करने की शर्थ पर साझा की| संयुक्त अरब अमिरात (यूएई), कतार, इराक, कुवैत में तैनात अमरिकी अफसर ईरान के निशाने पर होने की बात वर्णित अफसर ने कही है|

वही, ईरान ने पर्शियन खाडी में गश्तीपोतों की तैनाती बढाई है| यह गश्तीपोत काफी तेजी के साथ आगे बढकर खाडी क्षेत्र में मौजूद अमरिकी हितसंबंधों पर हमलें कर सकते है, यह संभावना भी जताई जा रही है| कुवैत में स्थित अमरिका के सबसे बडे लष्करी अड्डे एवं बाहरिन के समुद्री क्षेत्र में तैनात अमरिका के ‘फिफ्थ फ्लीट’ की युद्धपोतों को ईरान की यह युद्धपोत लक्ष्य कर सकती है, यह दावा भी हो रहा है|

इसके अलावा इराक, अफगानिस्तान, कुवैत, कतार, बाहरिन, सौदी अरब, यूएई, जॉर्डन और तुर्की इन देशों में अमरिका के करीबन ६६ हजार सैनिक  तैनात है| ईरान के मिसाइल खाडी क्षेत्र में अमरिकी लष्करी अड्डों को भी लक्ष्य कर सकते है, यह अंदाजा ब्रिटिश माध्यमों ने जताया है| इस पृष्ठभूमि पर अमरिका ने ईरान के मिसाइलों के दायरे से दूर हिंद महासागर के ‘दिएगो गार्सिया’ द्विप पर बने अड्डे पर अपने ‘बी-५२ बॉम्बर्स’ तैनात रखे होने का दावा हो रहा है|

अमरिका के नामांकित समाचार चैनल के सात की बातचीत के दौरान पेंटॅगॉन के अफसर ने इस तैनाती के बारे में कहा| ईरान ने अपने मिसाइलों का बडा भंडार पहाडी क्षेत्र एवं टनलों में रखा है| बंकर बस्टर्स बॉम्ब से सज्जित यह ‘बी-५२ बॉम्बर्स’ विमान ईरान के यह मिसाइल भंडार नष्ट करने की क्षमता रखते है| इस वजह से ‘दिएगो गार्सिया’ अड्डे पर हुई ‘बी-५२ बॉम्बर्स’ विमानों की तैनाती काफी अहम होने का दावा अंतरराष्ट्रीय स्तर के विश्‍लेषक कर रहे है|

खाडी क्षेत्र में गतिविधिया तेज हो रही थी तभी अमरिका ने उताह प्रांत में अतिप्रगत लडाकू ‘एफ-३५ए’ विमानों का एलिफंट वॉक करवाकर शक्तिपदर्शन किया| प्रति घंटा १,९३० किलोमीटर गति से उडान भरनेवाले अमरिका के ‘एफ-३५ए’ विमान महज कुछ ही मिनिटों में अमरिका से ईरान तक की दूरी काट सकते है|

अमरिकी वायुसेना ने अपने सामर्थ्य का प्रदर्शन करने के लिए इस तरह के अभ्यास का आयोजन किया था| इस अभ्यास के दौरान वायुसेना के तीन स्क्वाड्रन के लडाकू विमान एक तय ‘फॉर्मेशन’ में लगातार उडान भरते है| हाथी के झुंड की गति से जंगल दहल उठता है, उसी प्रकार से इन अतिप्रगत लडाकू विमानों के उडान भरने से पुरा आसमंत दहल उठता है, यह दावा अमरिकी वायुसेना करती है|

English    मराठी

इस समाचार के प्रति अपने विचार एवं अभिप्राय व्यक्त करने के लिए नीचे क्लिक करें:

https://twitter.com/WW3Info
https://www.facebook.com/WW3Info