Breaking News

रशिया द्वारा युक्रेन सीमा पर ‘एस-४००’ क्षेपणास्त्रों समेत चार हज़ार जवान तैनात – युरोपियन वॉर अथवा विश्वयुद्ध भड़कने की रशियन विश्‍लेषक की चेतावनी

मॉस्को/किव्ह – रशिया ने युक्रेन की सीमा के नज़दीक ‘एस-४००’ क्षेपणास्त्र यंत्रणा समेत टैंक्स, हेलिकॉप्टर्स और चार हज़ार जवान तैनात किए हैं। इस तैनाती के साथ ही, अगर नाटो ने युक्रेन में अतिरिक्त तैनाती की, तो रशिया को मजबूरन कदम उठाने पड़ेंगे, ऐसी कड़ी चेतावनी रशिया के प्रवक्ता दिमित्रि पेस्कोव्ह ने दी। रशिया-युक्रेन सीमा पर बिगड़ते हालातों के कारण ‘युरोपियन वॉर’ अथवा विश्वयुद्ध भी भड़क सकता है, ऐसा रशिया के लष्करी विश्‍लेषकों ने जताया है।

पिछले महीने में रशिया-युक्रेन सीमा पर डोन्बास में हुई एक मुठभेड़ में युक्रेन के चार जवानों की मृत्यु हुई, ऐसा दावा युक्रेन द्वारा किया गया था। यह दावा करते समय ही, युक्रेन सीमा पर रशिया द्वारा बड़े पैमाने पर लष्कर इकट्ठा किया जा रहा है, ऐसा आरोप युक्रेन ने किया था। उसके बाद अमरीका और नाटो ने भी रशिया की गतिविधियों पर चिंता ज़ाहिर की थी। अमरीका की युरोपियन कमांड ने, रशिया की बढ़ती गतिविधियों की पृष्ठभूमि पर, ‘हायेस्ट ऍलर्ट’ भी जारी किया था।

उसके बाद अब रशिया द्वारा जारी लष्कर की गतिविधियों की जानकारी सामने आने की शुरुआत हुई है। रशिया ने युक्रेन सीमा के नज़दीक चार हज़ार जवान तैनात किए हैं । उसके बाद अब ‘एस-४००’ यह प्रगत क्षेपणास्त्र यंत्रणा, हेलिकॉप्टर्स, टैंक्स और हथियारबंद गाड़ियाँ भी सीमा पर भेजीं जा रहीं हैं। इन गतिविधियों के फोटोग्राफ तथा वीडियो माध्यमों में जारी हुए हैं। यह तैनाती युद्धाभ्यास के लिए होने का दावा रशिया द्वारा किया गया होकर, किसी को भी धमकाने का उद्देश्य नहीं है, ऐसा रशिया द्वारा स्पष्ट किया गया।

लेकिन उसी समय, यदि नाटो ने युक्रेन में सेना तैनात की, तो उसके विरोध में मजबूरन रशिया को कदम उठाने पड़ेंगे, ऐसी चेतावनी रशियन प्रवक्ता दिमित्रि पेस्कोव्ह ने दी। इसी बीच, रशिया के अग्रसर लष्करी विश्लेषक पावेल फेल्गेनहॉअर ने यह जताया है कि रशिया द्वारा युक्रेन सीमा पर की जा रहीं गतिविधियों के कारण ‘युरोपियन वॉर’ अथवा विश्वयुद्ध भड़क सकता है। ‘रशिया-युक्रेन सीमा पर इन दिनों प्रचंड तनाव की स्थिति है। आगे क्या होगा यह कोई भी बता नहीं सकता। पश्चिमी देशों में इस बारे में बहुत ही असमंजसता की स्थिति होकर, क्या करना है इसके बारे में वे अनजान हैं’, ऐसा फेल्गेनहॉअर ने आगे कहा।

रशिया द्वारा जारी गतिविधियों की पृष्ठभूमि पर, अमरीका तथा युरोपीय नेताओं ने युक्रेन के राष्ट्राध्यक्ष समेत वरिष्ठ नेताओं के साथ चर्चा की होने की खबर सामने आई है। अमरीका के राष्ट्राध्यक्ष ज्यो बायडेन ने युक्रेन के राष्ट्राध्यक्ष वोलोदिमिर झेलेन्स्की के साथ फोन पर चर्चा की होने की जानकारी सूत्रों ने दी। इस चर्चा में, राष्ट्राध्यक्ष बायडेन ने, युक्रेन की सार्वभौमिकता और अखंडता के लिए अमरीका पूर्ण समर्थन देगी, ऐसा आश्वासन दिया बताया जाता है। बायडेन के फोन से पहले अमरीका के रक्षा मंत्री लॉईड ऑस्टिन तथा विदेश मंत्री अँथनी ब्लिंकन ने भी युक्रेन के नेताओं के साथ चर्चा की होने के बात सामने आई है।

जर्मनी तथा फ्रान्स इन अग्रसर युरोपीय देशों ने संयुक्त निवेदन जारी किया होकर, रशियन लष्कर की गतिविधियों पर नज़र होने की बात कही है। रशिया-युक्रेन सीमा पर बने तनाव पर चिंता ज़ाहिर कर, अपना युक्रेन को पूर्ण समर्थन है, ऐसा भी संयुक्त निवेदन में बताया गया है।

English  मराठी

इस समाचार के प्रति अपने विचार एवं अभिप्राय व्यक्त करने के लिए नीचे क्लिक करें:

https://twitter.com/WW3Info
https://www.facebook.com/WW3Info