Breaking News

ऑस्ट्रिया की सुरक्षा यंत्रणाओं की कट्टरपंथियों के विरोध में बड़ी कार्रवाई – मुस्लिम ब्रदरहूड एवं हमास से संबंधित ३० संदिग्ध हिरासत में

वियना – ऑस्ट्रिया में हुए आतंकी हमले को एक हफ्ता पूरा हो रहा है, तभी सुरक्षा यंत्रणाओं ने कट्टरपंथियों के विरोध में बड़ी कार्रवाई शुरू की है। सोमवार के दिन ऑस्ट्रियन यंत्रणाओं ने मुस्लिम ब्रदरहूड और हमास से संबधित ठिकानों पर छापे मारे और ३० से भी अधिक संदिग्धों को हिरासत में लिया है। इस दौरान करोड़ों युरो की नगद और कागज़ात भी बरामद किए गए हैं। इस पृष्ठभूमि पर, युरोपियन कौन्सिल के प्रमुख चार्ल्स मिशेल और फ्रान्स के वरिष्ठ मंत्री क्लेमेंट ब्युन ने ऑस्ट्रिया की यात्रा करके, आतंकवाद के विरोध में जारी संघर्ष के मुद्दे पर चर्चा करने की जानकारी सूत्रों ने साझा की है।
ऑस्ट्रिया में पिछले सप्ताह में हुए आतंकी हमले में, एक आतंकी के साथ पाँच लोग मारे गए थे और १७ घायल हुए थे। यह हमला आतंकी ‘आयएस’ संगठन से संबंधित आतंकियों ने किया होने की बात सामने आयी है। ऑस्ट्रिया में हुए इस हमले से पहले, फ्रान्स में एक महीने के अंतराल में तीन आतंकी हमलें हुए थे। एक के बाद हुए इन हमलों पर युरोप में तीव्र प्रतिक्रिया उठ रही थी। फ्रान्स और ऑस्ट्रिया इन दोनों देशों ने चरमपंथियो एवं आतंकी गुटों के विरोध में व्यापक कार्रवाई के संकेत दिए थे। सोमवार के दिन ऑस्ट्रियन यंत्रणाओं ने की हुई कार्रवाई भी इसी का हिस्सा बनता है।
ऑस्ट्रियन पुलिस और आतंकवाद विरोधी दल ने चलाई ‘लक्झर’ नामक मुहिम के तहत, चार प्रांतों में ६० से अधिक ठिकानों पर छापे मारे। इन प्रांतों में वियना, लोअर ऑस्ट्रिया, स्टायरिया एवं कैरिंथिआ का समावेश है। ९०० से भी अधिक पुलिस अधिकारी और सैनिक इस मुहिम में शामिल हुए थे। चरमपंथियों की जड़ें उखाड़कर फेंकना ही इस मुहिम का उद्देश्‍य था, यह जानकारी ऑस्ट्रिया के सुरक्षा मंत्री कार्ल नेहैमर ने साझा की। इस दौरान ७० से भी अधिक संदिग्धों की पूछताछ हुई और इनमें से ३० को हिरासत में लिया गया है। मुस्लिम ब्रदरहूड और हमास से संबंधित एवं उनका समर्थन करनेवाले गुटों की भी जाँच हो रही है, यह जानकारी ऑस्ट्रियन यंत्रणाओं ने साझा की। आतंकी गुट स्थापित करना, आतंकवाद को आर्थिक सहायता प्रदान करना और पैसों की धांदली करने के अपराधिक मामलें, ऐसे आरोप इन संदिग्धों के खिलाफ रखे गए है, यह बात भी ऑस्ट्रियन अफ़सरों ने स्पष्ट की।

इस कार्रवाई में लक्ष्य किए गए संगठनों में से ‘हमास’ को युरोपिय महासंघ ने ‘आतंकी गुट’ घोषित किया है। वहीं, ‘मुस्लिम ब्रदरहूड’ यह ‘चरमपंथी संगठन’ के तौर पर पहचानी जाती है। इस कारण, ऑस्ट्रिया ने की हुई कार्रवाई ग़ौरतलब साबित होती है। ऑस्ट्रिया की यह कार्रवाई जारी थी, तभी युरोपियन कौन्सिल के प्रमुख चार्ल्स मिशेल और फ्रान्स के युरोपियन अफेअर्स मिनिस्टर क्लेमेंट ब्युन ने ऑस्ट्रिया की यात्रा की। इस मुलाक़ात के दौरान ऑस्ट्रियन चान्सलर सेबैस्टिअन कर्ज़ के साथ आतंकवाद विरोधी संघर्ष के मुद्दे पर बातचीत होने की जानकारी ऑस्ट्रियल माध्यमों ने साझा की। इस दौरान चान्सलर कर्ज़ ने, युरोप में चरमपंथियों के विरोध में एक साथ और व्यापक मुहिम शुरू करना आवश्‍यक होने की माँग रखी, ऐसा बताया जा रहा है।

इसी बीच, फ्रान्स और ग्रीस ने आतंकवाद के विरोध में जारी संघर्ष के मुद्दे पर स्पेशल टास्क फोर्स का निर्माण किया है, यह जानकारी ग्रीक माध्यमों ने प्रदान की है। यह टास्क फोर्स संदिग्ध आतंकियों से संबंधित जानकारी का आदान-प्रदान करना, उनपर नज़र रखना एवं अन्य मुद्दों का समन्वय करने का काम करेगा, ऐसा दावा किया गया है। कुछ दिन पहले एक ग्रीक पत्रकार ने, ‘आयएस’ के ६०० आतंकी ग्रीस में हैं, यह सनसनीखेज़ दावा एक इंटरव्यू के दौरान किया था।

English    मराठी

इस समाचार के प्रति अपने विचार एवं अभिप्राय व्यक्त करने के लिए नीचे क्लिक करें:

https://twitter.com/WW3Info
https://www.facebook.com/WW3Info