Breaking News

संयुक्त राष्ट्रसंघ के शरणार्थियों से संबंधी प्रस्ताव के विरोध में बेल्जियम में तीव्र प्रदर्शन

ब्रुसेल्स – संयुक्त राष्ट्रसंघ में शरणार्थियों के लिए तैयार किए विशेष प्रस्ताव की प्रक्रिया पूर्ण होने पर भी उसके विरोध में असंतोष अभी भी कम नहीं हुआ है। यूरोपीय महासंघ का मुख्यालय होने वाले बेल्जियम में रविवार को संयुक्त राष्ट्रसंघ के प्रस्ताव के विरोध में आक्रमक प्रदर्शन किए गए थे। बेल्जियम के प्रधानमंत्री ने इस प्रस्ताव पर हस्ताक्षर करने का निर्णय किया है। प्रधानमंत्री के इस फैसले के बाद देश का सबसे बड़ा पक्ष बने ‘एन-व्हीए’ ने सरकार का समर्थन भी निकाला हैं।

रविवार को बेल्जियम की राजधानी होने वाले ब्रुसेल्स में लगभग साढ़े पांच हजार से अधिक प्रदर्शनकारियों ने संयुक्त राष्ट्र संघ के प्रस्ताव के खिलाफ जोरदार नारेबाजी की है। इस दौरान रक्षा यंत्रणा ने की कार्रवाई में ‘आंसू-गैस’ तथा लाठीचार्ज का प्रयोग करना पडा। रक्षा यंत्रणा ने सैकड़ों प्रदर्शनकारियों को गिरफ्त में लिया है और इस दौरान कुछ पुलिस जख्मी हुए है, यह भी बताया जाता है। इन प्रदर्शनों के कारण बेल्जियम में माहौल बिगड गया है और आने वाले समय में ये प्रदर्शन अधिक तीव्र होने के संकेत दिए गए हैं।

संयुक्त राष्ट्र संघ ने शरणार्थियों के लिए तैयार किए प्रस्ताव पर १९३ सदस्य देशों में से केवल १६४ देशों ने ही हस्ताक्षर किए है। प्रस्ताव का विरोध करने वाले देशों में अमरिका और इस्रायल के साथ १० यूरोपीय देशों का समावेश है। एक ओर महासंघ शरणार्थियों की समस्या का हल निकालने का प्रयत्न कर रही है, तभी सदस्य देशों से इस करार को हो रहा विरोध महासंघ के लिए बहुत बड़ा झटका साबित हुआ है। बेल्जियम महासंघ का प्रमुख देश होकर ब्रुसेल्स में महासंघ का मुख्यालय भी है। इस कारण बेल्जियम में शुरू इन प्रदर्शनों को बहुत बड़ा राजनैतिक महत्त्व मिला है।

पिछले सप्ताह में महासंघ के प्रमुख सदस्य देशों ने ऑस्ट्रेलिया द्वारा आयोजित किए गए शरणार्थियों के प्रश्न से संबंधित बैठक पर बहिष्कार किया था। यह सामने आ रहा था तभी ऑस्ट्रेलिया का संयुक्त राष्ट्र संघ के प्रस्ताव को नामंजूरी देना उसके पीछे का प्रमुख कारण साबित होता है। उसी के साथ-साथ बेल्जियम में हुए तीव्र प्रदर्शन, शरणार्थियों की समस्या के कारण महासंघ में हुए मतभेद अधिक तीव्र होते दिखाई दे रहे है।

 English    मराठी

इस समाचार के प्रति अपने विचार एवं अभिप्राय व्यक्त करने के लिए नीचे क्लिक करें:

https://twitter.com/WW3Info
https://www.facebook.com/WW3Info