Breaking News

सीरिया स्थित हिज़बुल्लाह के अड्डों पर इस्रायल के जोरदार हवाई हमलें

दमास्कस – इस्रायल के लड़ाकू विमानों ने सीरिया की राजधानी दमास्कस समेत कुनित्रा प्रांत में हवाई हमलें करने का दावा सीरियन माध्यमों ने किया है। इन हवाई हमलों में आठ लोगों के मारे जाने का बयान सीरिया में स्थित मानव अधिकार संगठन ने किया है। इसके साथ ही, इस्रायली विमानों ने वहाँ पर हिज़बुल्लाह के ठिकानों को लक्ष्य किये होने की जानकारी सामने आ रही है। सीरिया में हमलें करके भाग जानेवाले इस्रायल का अन्त करीब होने की धमकी ईरान ने दो दिन पहले ही दी थी। इसी कारण सीरिया में नया हमला करके इस्रायल ने यह दर्शाया है कि हम ईरान की धमकियों की परवाह नहीं करते हैं।

हिज़बुल्लाह

सीरिया का मुखपत्र ‘सना’ और ‘अल अखबारिया’ इन समाचार चैनलों ने, इस्रायल ने किए इन हमलों की जानकारी प्रकाशित की है। मंगलवार देर रात करीबन १२ बजे इस्रायली लड़ाकू विमानों ने, राजधानी दमास्कस के दक्षिणी इलाकों के साथ ही, गोलान की सीमा के करीबी कुनित्रा प्रांत में हमलें किए। सीरियन सेना की हवाई सुरक्षा यंत्रणा ने इस्रायल के ये हमलें नाकाम किये हैं, यह दावा सीरियन माध्यमों ने किया। साथ ही, इन हमलों में जान का नुकसान ना हुआ होकर, मामूली आर्थिक नुकसान होने की बात कही गई है।

लेकिन, ब्रिटेन स्थित ‘सीरियन मानव अधिकार संगठन’ ने साझा की हुई जानकारी के अनुसार, सीरिया में स्थित ईरानी सेना और हिज़बुल्लाह के नियंत्रण में होनेवाले हथियारों के भंड़ारों को लक्ष्य किया गया। ‘जेबल मेन हाईटस्‌’ नामक लष्करी अड्डे पर हुए हमले में हिज़बुल्लाह के आठ आतंकी मारे गए हैं, यह जानकारी इस मानव अधिकार संगठन ने साझा की है। एक इस्रायली समाचार पत्र ने भी, सीरिया में स्थित हिज़बुल्लाह के अड्डों पर हमलें होने की जानकारी प्रदान की है। इस्रायल की सेना ने इसपर अभी बयान जारी नहीं किया है।

पिछले सप्ताह से, सीरिया में मौजूद ईरान से जुड़े गुटों पर हुआ यह दूसरा हमला है। बीते बुधवार के दिन सीरिया के गोलान पहाड़ियों के क्षेत्र में बने ईरान के कुदस्‌ फोर्सेस के अड्डे पर इस्रायली सेना ने हमला किया था। इस हमले में कुदस्‌ फोर्सेस के कम से कम ११ सैनिक ढ़ेर होने की जानकारी सामने आयी थी। इस्रायली सेना ने ही इस हमलें की जानकारी सार्वजनिक की थी। साथ ही सैटेलाईट से प्राप्त किए, इस हमले से पहले के एवं बाद के फोटो जारी करके, ईरान के अड्डे पर स्थित, ज़मीन से हवा में हमला करनेवालें मिसाइलों का भंड़ार नष्ट किया गया है, यह ऐलान इस्रायली सेना ने किया था।

हिज़बुल्लाह

इसपर आगबबूला हुए ईरान ने इस्रायल को धमकाया था। ‘सीरिया में हमलें करके भाग जानेवाले इस्रायल का समय खत्म हो रहा है। इसके आगे सीरिया में होनेवाले हमलों पर प्रत्युत्तर दिया जायेगा’, यह धमकी भी ईरान के विदेश मंत्रालय ने दी थी। ईरान की इस धमकी का मुद्दा इस्रायल ने संयुक्त राष्ट्रसंघ की सुरक्षा परिषद में उपस्थित किया है।

इस्रायल की गोलान पहाड़ियों की सीमा से करीबी इलाकों में ईरानी सेना की गतिविधियाँ एवं संबंधित ठिकानों पर विस्फोटक लगाकर हमला करने की ईरान की साज़िश, सन १९७४ के समझौते का उल्लंघन है, इस बात की याद संयुक्त राष्ट्रसंघ में इस्रायली राजदूत गिलाड एरड़न ने दिलाई। इस्रायली सीमा के करीब बनी ईरान के सैनिकों की मौजूदगी, यहाँ के स्थानीय लोगों के साथ ही राष्ट्रसंघ के शांतिसैनिकों की सुरक्षा के लिए भी खतरनाक है। इसी कारण, सीरिया में मौजूद ईरान के सैनिक और ईरान से जुड़े गुटों को खदेड़कर निकाल बाहर करें, यह माँग एरड़न ने राष्ट्रसंघ को दिए खत में रखी है।

सीरिया में बनी अस्थिरता का लाभ उठाकर ईरान ने सीरिया में अपने सैनिकों की तैनाती की है। साथ ही, ईरान के साथ वफादार होनेवाले आतंकी संगठन हिज़बुल्लाह के सदस्य भी, सीरिया की अस्साद हुकूमत के पक्ष में लड़ रहे हैं। सीरिया में हुई ईरान की यह तैनाती इस्रायल की सुरक्षा के लिए खतरा होने की बात कहकर इस्रायल ने, सीरिया में बने ईरान के लष्करी ठिकानें और हिज़बुल्लाह के आतंकियों पर तीव्र हमलें करना शुरू किया था। इन हमलों की खबरों पर, अधिकृत स्तर पर बयान ना करने की नीति इस्रायल ने अपनाई है।

ईरान ने सीरिया में हो रहें हमलों पर इस्रायल को धमकाने के कुछ दिन बाद ही नया हवाई हमला करके इस्रायल ने यह दर्शाया है कि हम ईरान की धमकियों की परवाह नहीं करते।

English    मराठी

इस समाचार के प्रति अपने विचार एवं अभिप्राय व्यक्त करने के लिए नीचे क्लिक करें:

https://twitter.com/WW3Info
https://www.facebook.com/WW3Info