Breaking News

परमाणु वैज्ञानिक की हत्या को निर्णायक प्रत्युत्तर मिलेगा – ईरान के परमाणुऊर्जा संगठन के प्रवक्ता

तेहरान – परमाणु वैज्ञानिक की हत्या के लिए इस्रायल ही ज़िम्मेदार होने का आरोप ईरान ने अधिकृत स्तर पर किया है। मोहसिन फखरीझादेह के हत्या के लिए इस्तेमाल किये शस्त्रास्त्र इस्रायली बनावट के थे। इस हत्या के लिए जिम्मेदार होने वालों का जल्द ही बदला लिया जाएगा। उन्हें सटीक एवं निर्णायक प्रत्युत्तर मिलेगा, ऐसी धमकी ईरान के लष्करी अधिकारी दे रहे हैं। वहीं, इस लष्करी प्रत्युत्तर के साथ ही परमाणु परियोजना में युरेनियम का निर्माण दोगुना बढ़ाने की प्रक्षोभक घोषणा ईरान के पमाणुऊर्जा संगठन के प्रवक्ता बेहरोज कमालवंदी ने की है।

अणुऊर्जा, परमाणु वैज्ञानिक

पिछले शुक्रवार को राजधानी तेहरान के नजदीक फखरीझादेह की कार पर हमला करके उनकी हत्या इस्रायल ने ही कराई, ऐसा आरोप ईरान के नेता और सुरक्षा यंत्रणाओं ने किया है। कुछ महीने पहले, नातांझ परमाणु प्लांट पर किए हमले में सहभागी होने वाले और फखरीझादेह की हत्या करानेवाले एक ही हैं, ऐसा ईरान के परमाणु ऊर्जा संगठन के प्रमुख कमालवंदी ने ईरानी अखबार से बातचीत करते समय बताया।

अणुऊर्जा, परमाणु वैज्ञानिक

फखरीझादेह की जहाँ हत्या हुई, उस स्थान से बरामद किए शस्त्रास्त्रों पर इस्रायली बनावट के बोधचिन्ह थे, ऐसी जानकारी ईरानी सुरक्षा अधिकारी ने न्यूज़ चैनल से बातचीत करते हुए दी। ईरान की एक वेबसाइट ने तो, फखरीझादेह की हत्या इस्रायली अत्याधुनिक शस्त्रों ने ही, लेकिन सेटेलाइट से नियंत्रित करके कराई होने का आरोप किया है।

फखरीझादेह की हत्या पर ईरान के राजनीतिक तथा लष्करी क्षेत्र से जहाल प्रतिक्रियाएँ आ रहीं हैं। परमाणु वैज्ञानिक की हत्या कराने वालों को दुगुना प्रत्युत्तर देना पड़ेगा। हमलावरों पर निर्णायक हमले करना आवश्यक है ही; लेकिन उसके साथ ही परमाणु प्लांट में युरेनियम का निर्माण दुगुना करके हम इस हत्या का जवाब देंगे, ऐसी घोषणा कमालवंदी ने की।

अणुऊर्जा, परमाणु वैज्ञानिक

ईरान की संसद में भी कुछ आपात्कालीन प्रस्ताव पारित किये गए। इनमें ईरान के न्युक्लिअर प्लांट में संवर्धित युरेनियम की प्रतिमाह मर्यादा को दुगुना बढ़ाने के प्रस्ताव का समावेश था। नातांझ परमाणु प्लांट में परमाणुकार्यक्रम की गति बढ़ाकर, आन्तर्राष्ट्रीय परमाणुऊर्जा आयोग के निरीक्षकों को इसके बाद ईरान में प्रवेश नहीं दिया जायें, ऐसी माँग की गयी।

ईरान की संसद में अमरीका तथा इस्रायल के विनाश के नारे भी लगाये गये। ईरान के रक्षामंत्री जनरल अमिर हातामी ने भी यह ऐलान किया है कि फखरीझादेह के हत्या होने के बाद भी ईरान के परमाणुकार्यक्रम की गति कम नहीं होगी।

इसी बीच, ईरान ने परमाणु समझौते की मर्यादा का उल्लंघन करके १२ गुना अधिक संवर्धित युरेनियम का संग्रहण किया होने की चिंता परमाणुऊर्जा आयोग ने गत महीने में व्यक्त की थी। ऐसी परिस्थिति में, फखरीझादेह की हत्या के बाद ईरान से उमड़नेवालीं प्रतिक्रियाएँ अधिक चिंताजनक साबित हो रहीं हैं।

English      मराठी

इस समाचार के प्रति अपने विचार एवं अभिप्राय व्यक्त करने के लिए नीचे क्लिक करें:

https://twitter.com/WW3Info
https://www.facebook.com/WW3Info