फिलिपाईन्स ने चीन का ‘फिशिंग बैन’ ठुकराया

मनिला – ‘साउथ चायना सी’ में लष्करी सामर्थ्य के बल पर आक्रामकता दिखा रहे चीन को फिलिपाईन्स ने एक और झटका दिया है। चीन द्वारा सालाना मछली पकड़ने पर लगाई जा रही रोक फिलिपाईन्स ने खुलेआम ठुकराई है। चीन ने मछली पकड़ने पर लगाई रोक फिलिपाईन्स के मछुआरों पर लागू नहीं होती, ऐसा इशारा फिलिपाईन्स के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार ने दिया है। साथ ही फिलिपाईन्स की ‘टास्क फोर्स’ ने भी स्वतंत्र निवेदन जारी करके फिलिपिनी मछुआरों को अपने समुद्री क्षेत्र में बेझिझक मछली पकड़ना जारी रखने को कहा है। इस वजह से ‘साउथ चायना सी’ मुद्दे पर फिलिपाईन्स और चीन में तनाव काफी बढ़ता हुआ दिख रहा है।

मात्र २४ घंटे पहले, फिलिपाईन्स ने चीन द्वारा साउथ चायना सी में नौसेना के युद्धाभ्यास की कड़ी आलोचना की थी। फिलिपाईन्स के विदेश एवं रक्षा मंत्रालय ने स्वतंत्र निवेदन जारी करके चीन की आक्रामकता की आलोचना की थी। फिलिपाईन्स के विदेशमंत्री ने सोशल मीडिया पर अपना गुस्सा व्यक्त करके ‘चलते बनो’ ऐसा बयान किया था। इस पर चीन ने जोरदार प्रत्युत्तर भी दिया था। फिलिपिनी मंत्री शिष्टाचार का होश रखें, यह सलाह भी चीन ने दी थी।

लेकिन, इसके बाद दोनों देशों का विवाद चरम स्तर पर पहुँचने के संकेत प्राप्त हुए हैं। चीन ने १ मई से अगस्त के दौरान ‘फिशिंग बैन’ का ऐलान किया है। ‘साउथ चायना सी’ में लगाई गई इस रोक के निर्णय में फिलिपाईन्स के समुद्री क्षेत्र के हिस्से वाले ‘वेस्ट फिलिपाईन्स सी’ का भी समावेश है। इस वजह से फिलिपाईन्स ने इस रोक का कड़ा विरोध किया है। इससे पहले केवल नाराज़गी व्यक्त करनेवाले फिलिपाईन्स ने इस बार अधिक आक्रामकता दिखाकर अपने मछुआरों को ‘वेस्ट फिलिपाईन्स सी’ में जाकर बेझिझक मछली पकड़ने के आदेश दिए हैं। इसी मुद्दे पर देश के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार के निवेदन की वजह से चीन को बड़ा झटका लगा हुआ दिख रहा है।

बीते हफ्ते में फिलिपाईन्स के तटरक्षक बल एवं टास्क फोर्स ने चीनी जहाज़ों की घुसपैठ की कोशिश भी नाकाम की थी। इसके बाद जारी किए गए निवेदन में फिलिपाईन्स ने चीन के ‘नेवल मिलिशिया’ की निगरानी करना जारी रखने का इशारा भी दिया था। फिर भी फिलिपाईन्स के समुद्री क्षेत्र में चीन लगातार घुसपैठ करने की कोशिश करने में जुटा होने की बात सामने आयी है।

English  मराठी

इस समाचार के प्रति अपने विचार एवं अभिप्राय व्यक्त करने के लिए नीचे क्लिक करें:

https://twitter.com/WW3Info
https://www.facebook.com/WW3Info