अफ़गानिस्तान के संघर्ष में १९६ की मौत

काबुल – अफ़गानिस्तान के हेल्मंड प्रांत में आतंकियों ने किए बम विस्फोट से नौं लोग मारे गए। इस हमले से कुछ घंटे पहले ही अफ़गान सेना ने हेल्मंड के साथ देश के १६ प्रांतों में कार्रवाई करके १७६ तालिबानी आतंकियों को मार गिराया था। इसके अलावा अल कायदा के कमांड़र के भी मारे जाने की जानकारी अफ़गान रक्षा मंत्रालय ने प्रदान की है। इसी बीच दोहा में जारी बातचीत नाकाम होने के बाद अफ़गानिस्तान में तालिबान के हमले बढ़ेंगे, ऐसा इशारा अफ़गानिस्तान में मौजूद अमरिकी कमांड़र स्कॉट मिलर ने दिया है।

अफ़गान सरकार और तालिबान ने बीते हफ्ते तीन दिनों के युद्धविराम का ऐलान किया था। इस दौरान अफ़गानिस्तान में किसी भी तरह का हमला नहीं हुआ। तालिबान यह युद्धविराम ऐसे ही जारी रखे, यह माँग अफ़गान सरकार ने की थी। लेकिन, तालिबान ने अफ़गानिस्तान की गनी सरकार की यह माँग ठुकराई है। इसके बाद अफ़गान सेना ने तालिबान एवं तालिबान से जुड़े आतंकी संगठनों पर कार्रवाई की तीव्रता बढ़ाई है।

अफ़गानिस्तान के रक्षा मंत्रालय ने साझा की हुई जानकारी के अनुसार बीते चौबीस घंटों के दौरान सेना ने नांगरहार, मैदान वरदाक, गज़नी, लोगार, खोस्त, ज़ाबुल, कंधार, बदघीस, फराह, हेरात, बल्ख, कोंदूज़, हेल्मंड, बखाखशान, बघलान और राजधानी काबुल में तालिबान विरोधी कार्रवाई को अंजाम दिया। इस दौरान १७६ तालिबानी आतंकियों को मार गिराया गया और इस कार्रवाई के दौरान ११२ तालिबानी घायल हुए हैं। इससे पहले मंगलवार के दिन अफ़गान सेना की कार्रवाई में २५१ तालिबानी मारे गए थे और १९३ के घायल होने का ऐलान किया गया था। इस वजह से बीते दो दिनों में अफ़गान सेना ने ४२५ से अधिक तालिबानियों को मार गिराने की जानकारी सामने आ रही है।

अफ़गान रक्षा मंत्रालय ने अब तक के दावों का तालिबान ने खंड़न नहीं किया है। इस वजह से अफ़गान सेना की कार्रवाई से तालिबान का बड़ा नुकसान होता दिख रहा है। इसके बावजूद तालिबान के अफ़गान जनता और सेना पर हमले जारी हैं। गुरूवार के दिन हेल्मंड प्रांत के लश्‍कर गह क्षेत्र में आतंकियों ने एक गाड़ी पर किए बम हमले से नौं लोग मारे गए। इनमें महिलाओं और बच्चों का भी समावेश होने की जानकारी सामने आ रही है।

इस हमले का ज़िम्मा अभी किसी भी संगठन ने स्वीकारा नहीं है। लेकिन, अफ़गान सुरक्षा यंत्रणा तालिबान पर आशंका व्यक्त कर रही है। इसके अलावा अफ़गान सेना ने गुरूवार दोपहर के समय हेल्मंड प्रांत में कार्रवाई करके ११ आतंकियों को ढ़ेर किया। इनमें अल कायदा का वरिष्ठ कमांडर एवं उसके चार साथियों के भी मारे जाने की जानकारी अफ़गान रक्षा मंत्रालय ने प्रदान की।

तालिबान अब अफ़गान सरकार से हो रही बातचीत से पीछे हटी है। कतार में चर्चा में शामिल होंगे, लेकिन राष्ट्राध्यक्ष गनी के साथ गठबंधन की सरकार स्थापित नहीं करेंगे, यह भूमिका तालिबान ने अपनाई है। साथ ही तालिबान ने अफ़गान सेना, पुलिस, सरकारी कर्मचारी और महिलाओं पर हमले बढ़ाए होने का दावा स्थानीय माध्यम कर रहे हैं। अफ़गानिस्तान में मौजूद अमरिकी कमांड के प्रमुख जनरल स्कॉट मिलर ने भी यह चिंता जताई है कि, अगले दिनों में तालिबान के हमलों में बढ़ोतरी हो सकती है।

इसी बीच अफ़गानिस्तान की शांति और स्थिरता के लिए पाकिस्तान ने नारेबाज़ी करने के बजाय कृति करके दिखानी होगी, ऐसी फटकार अफ़गानिस्तान के विदेशमंत्री मोहम्मद हनीफ अत्मार ने लगाई है। पाकिस्तान के शिष्टमंड़ल ने कुछ दिन पहले ही अफ़गानिस्तान का दौरा किया था। उनके इस दौरे पर अफ़गान विदेशमंत्री अत्मार ने यह बयान किया है।

मराठी

इस समाचार के प्रति अपने विचार एवं अभिप्राय व्यक्त करने के लिए नीचे क्लिक करें:

https://twitter.com/WW3Info
https://www.facebook.com/WW3Info