Breaking News

अमेरीका के राष्ट्राध्यक्ष ने रशिया से सहयोग का समर्थन किया

हेल्सिन्की – रशिया के राष्ट्राध्यक्ष व्लादिमिर पुतिन के साथ हुई चर्चा सफल हुई है, ऐसी घोषणा अमेरीका के राष्ट्राध्यक्ष डोनाल्ड ट्रम्प ने की| इस चर्चा में सीरिया, युक्रेन, चीन और व्यापारी जंग समेत एटमी हथियार का भांडार ऐसे अहम मुद्दे शामिल थे, ऐसी जानकारी राष्ट्राध्यक्ष ट्रम्प ने दी| एहम बात यह है की, वर्ष २०१६ में अमेरीका में हुए चुनाव में रशिया ने हस्तक्षेप नहीं किया ऐसा खुलासा राष्ट्राध्यक्ष ट्रम्प ने दिया है| इस पर अमेरीका से कड़ी प्रतिक्रिया आ रही है| लेकिन ट्रम्प ने इसकी पर्वा ना करते हुए सबसे जादा एटमी हथियारों रखनेवाले अमेरीका और रशियाने भविष्य के सहकार्य की और ध्यान केंद्रीत करना चाहीए, ऐसा आवाहन किया है|

अमेरीका के राष्ट्राध्यक्ष

राष्ट्राध्यक्ष ट्रम्प आणि राष्ट्रध्यक्ष पुुतिन के बीच फिनलंड के हेल्सिन्की में बातचित हुई| इस बातचित में अहम विषय शामील थें| लेकिन इन विषयों से भी जादा, राष्ट्राध्यक्ष ट्रम्प ने वर्ष २०१६ के चुनावों में रशिया के हस्तक्षेप के संदर्भ दिए हुए बयान अधिकतर चर्चा में है| अमेरीका के खुफिया एजन्सी ने वर्ष २०१६ साल के चुनाव में रशियाने हस्तक्षेप किया है, ऐसे दावे किए थे| साथही इस संदर्भ में पुख्ता सबुत मिले थें ऐसा अमेरीका के कुछ अधिकारियों का कहना है| लेकिन हेल्सिन्की में बोलते समय राष्ट्राध्यक्ष ट्रम्प ने, रशिया के राष्ट्राध्यक्ष ने चर्चा के समय इन इल्जामों नकारा, ऐसी जानकारी दी| साथ ही उनकी बातों पर मुझे भरोसा है, ऐसा ट्रम्प ने कहा|

‘राष्ट्राध्यक्ष पद के चुनाव के लिए हम ने बडे पैमाने पर प्रसार मुहीम हाथ ली थी और इस मुहीम को सफलता मिली, इसलिए मैं हिलरी क्लिंटन को पराजित करते हुए राष्ट्राध्यक्ष पद पर चुन कर आया’, ऐसा कहते हुए ट्रम्प ने अपनी जीत के पिछे रशियन राष्ट्राध्यक्ष पुतिन का हाथ होने के इल्जामों को सिरे से खारिज किया| उनके इस बयान के बाद अमेरीका से कडी आलोचना हो रही है| ट्रम्प को शुरुवात से निशाना बनाने ने वाले चैनल्स इस बात से उन पर तुट पडी है और हेल्सिन्की का प्रदर्शन शर्मसार करनेवाला है, ऐसी आलोचना अमेरीकी मिडिया कर रही है| लेकिन इस आलोचना की पर्वा ना करते हुए ट्रम्प अमेरीका और रशिया के बीच उत्तम सहयोग प्रस्थापित करने की आवश्यकता पर जोर दिया|

सबसे जादा एटमी हथियार अमेरीका और रशिया के पास है| इसलिए इन दोनों देशों के बीच सहयोग बेहद जरुरी है, ऐसा कहते हुए दोनों देशों ने इससे पहले क्या हुआ इस पर सोचने में अपनी ताकद गवाने के बजाए भविष्य में सहयोग की और ध्यान देना चाहीए, ऐसी अपेक्षा अमेरीका के राष्ट्राध्यक्ष ने जताई| साथ ही २०१६ साल के चुनाव में रशियाने दखलअंदाजी की थी, दोनों देशों के संबंध इन इल्जामों के कटघरे में कैद नही किए जा सकते, ऐसा ट्रम्प ने कहा| दौरान, इसी समय दोनों नेताओं ने कई स्तरों पर सहयोग की नीति अपनाई है और इस में आतंकवाद भी शामिल है| इस्लामधर्मिय चरमपंथियों का प्रभाव रोकने के लिए अमेरीका और रशिया के बीच संवाद बढाने पर राष्ट्राध्यक्ष डोनाल्ड ट्रम्प व राष्ट्राध्यक्ष व्लादिमिर पुतिन का एकमत हुआ है|

English मराठी

या बातमीबाबत आपले विचार आणि अभिप्राय व्यक्त करण्यासाठी खाली क्लिक करा:

https://twitter.com/WW3Info
https://www.facebook.com/WW3Info