Breaking News

लष्करी सामर्थ्य बढाने के लिये चीन कर रहा है अमरिकी उपग्रहों का इस्तेमाल – अमरिकी समाचार पत्र का चौकानेवाला दावा

वॉशिंगटन – ‘साउथ चाइना सी’ में बनाए कृत्रिम द्विपों पर की सेना की तैनाती, झिंजियांग प्रांत में उघुरवंशियों पर रखी जा रही नजर एवं चीन में सुरक्षा यंत्रणाओं की गतिविधियां करने के लिए चीन अमरिकी सैटलाइट का ही इस्तेमाल कर रहा है| बडी अमरिकी कंपनीयों ने अंतरिक्ष में छोडे उपग्रहों की सहायता से चीन अपने लष्करी सामर्थ्य में बढोतरी कर रहा है, यह चौकानेवाली जानकारी अमरिका के एक प्रमुख समाचार पत्र ने दी है| चीन का रक्षा मंत्रालय और गुप्तचर यंत्रणा अमरिकी उपग्रह और उनसे जुडी कंपनीयों का इस्तेमाल कर रहे है, यह दावा इस समाचार पत्र ने किया है|

धरती से करीबन २२ हजार किलोमीटर दूरी पर मंडरा रहे अमरिका के कम से कम नौ सैटलाइट का इस्तेमाल चीन सरकार कर रही है| अमरिकी कानून के तहेत इन सैटलाइट पर अन्य कोई भी देश हक जता नही सकता या इन सैटलाइट का इस्तेमाल अन्य किसी भी विकल्प के तहेत कर नही सकता| इतना ही नही बल्कि नीजि कंपनीयों ने प्रक्षेपित किए इन सैटलाइट की बिक्री अन्य देश को या संगठन को हो नही सकती| लेकिन, इन सैटलाइटों का नियंत्रण करनेवाली कंपनीयों के शेअर खरीक करके और उसके बाद इन सैटलाइट की ‘बैंडविडथ्’ का इस्तेमाल करके चीन ने अमरिकी कानून से राह निकाली है, यह चौकानेवाली जानकारी अमरिकी समाचार पत्र ने प्रसिद्ध की है|

पिछले कुछ वर्षों में चीन ने इसी तरह उपग्रह प्रक्षेपित करनेवाली अमरिका की नीजि कंपनीयों के शेअर बडी तादाद में खरीद किए है| चीन सरकार से सीधे जुडी या संबंध रखनेवाली कंपनीयों ने अमरिकी कंपनीयों के शेअर बडी संख्या में खरीद करने का दावा किया जा रहा है| अमरिकी रक्षा क्षेत्र में शीर्ष स्थान पर रहनेवाली ‘बोईंग’ एवं ‘मैक्सर टेक्नोलॉजिस्’ इन कंपनीयों ने छोडे सैटलाइटों की वजह से चीन की रक्षा क्षेत्र को बडी सहायता प्राप्त हो रही है, ऐसा संबंधी अमरिकी समाचार पत्र ने कहा है| यह सैटलाइट छोडनेवाली इन और अमरिका में मौजूद अन्य नीजि कंपनीयों ने नागरी इस्तेमाल के लिए अपने उपग्रहों के शेअर चीन की कंपनीयों को बेचे है|

इनमें लॉस एंजिलिस की ‘ग्लोबल आईपी’ इस स्टार्ट अप कंपनी ने करीबन ७५ प्रतिशत कर एक विदेशी कंपनी को बेच दिए थे| लेकिन, यह कंपनी चीन की होने की जानकारी हमे नही थी, ऐसा इस कंपनी के अधिकारी ने स्पष्ट किया है, यह जानकारी भी वर्णित समाचार में दी गई है| ‘ग्लोबल आईपी’ की तरह अन्य नीजि अमरिकी कंपनीयों ने भी प्रक्षेपित किए उपग्रहों की सहायता से चीन अपने रक्षा सामर्थ्य में बढोतरी कर रहा है, यह जानकारी कुछ अधिकारी एवं विश्‍लेषकों ने देने का इस समाचार पत्र ने प्रसिद्ध किया है| इस काम के लिए उपग्रहों की ‘बैंडविडथ्’ काफी होने का दावा अमरिकी समाचार पत्र ने किया है|

इन उपग्रहों की बैंडविडथ् की सहायता से चीन ने ‘साउथ चाइना सी’ में बनाए द्विपों पर तैनात अपने सैनिकों के साथ संपर्क स्थापित किया है| साथ ही कम्युनिस्ट हुकूमत का प्रचार करने के लिए भी अमरिकी उपग्रहों का ही उपयोग किया गया है| इतना ही नही, बल्कि झिंजियांग प्रांत में उघुरवंशी और चीन के अल्पसंख्यांक या जिनपिंग इनकी हुकूमत के विरोध में प्रदर्शन करनेवालों पर कार्रवाई करने के लिए भी अमरिकी उपग्रहों का इस्तेमाल हो रहा है, ऐसा इस अमरिकी समाचार पत्र ने कहा है|

चीन से अमरिकी उपग्रहों के हो रहे इस्तेमाल की ट्रम्प प्रशासन ने गंभीरता से संज्ञान लिया है| उघूर या अल्पसंख्यांकों के विरोध में चीन कर रहे अमानवी कार्रवाई के लिए अमरिकी उपग्रहों का इस्तेमाल ना हो, इस लिए अमरिकी कंपनीयां उपग्रहों की सुरक्षा के लिए तेजीसे कदम बढाए, यह निवेदन अमरिकी विदेश मंत्रालय ने किया है| साथ ही ऐसी स्थिति में अमरिका की सुरक्षा और अंतरिक्ष में मौजूद अमरिकी उपग्रहों की सुरक्षा खतरे में आने की बात इस समाचार पत्र ने कही है|

गौरतलब है की, कुछ ही दिन पहले अमरिकी रक्षादल प्रमुख जनरल जेम्स जनफोर्ड इन्होंने यह आरोप जडा था की, ‘अमरिकी सर्च इंजन ‘गुगल’ अमरिका के बजाए चीन की सेना की सहायता कर रहा है|’ जनरल डनफोर्ड इन्होंने चीन को लष्करी जानकारी उपलब्ध करा रहे अमरिकी कंपनीयों के कान भी खींचे थे|

English मराठी

इस समाचार के प्रति अपने विचार एवं अभिप्राय व्यक्त करने के लिए नीचे क्लिक करें:

https://twitter.com/WW3Info
https://www.facebook.com/WW3Info