Breaking News

‘नैशनल सिक्युरिटी एजन्सी’ ने बनाए ‘हैकिंग टूल’ के जरिए अमरिका के ‘बाल्टिमोर’ शहर पर सायबर हमला – तीन हफ्तों तक प्रशासकीय यंत्रणा बंधक

बाल्टिमोर/वॉशिंगटन – अमरिका की मेरिलैंड प्रांत में ‘बाल्टिमोर’ शहर पर किए गए सायबर हमले में शहर की प्रशासकीय यंत्रणा करीबन तीन सप्ताह तक ठप्प की गई थी, यह चौकानेवाली जानकारी उजागर हुई है। सायबर हमला करनेवाले हैकर्स ने करीबन एक लाख डॉलर्स के ‘बिटकॉईन्स’ फिरौती की मांग की है और स्थानिय यंत्रणाओं ने फिरौती देने से इन्कार किया है। ‘बाल्टिमोर’ पर हुए इस हमले के लिए अमरिका के ही ‘नैशनल सिक्युरिटी एजन्सी’ ने विकसित किया ‘इटर्नल ब्ल्यू’ नाम का ‘हैकिंग टूल’ इस्तेमाल किया गया है, यह चौकानेवाली जानकारी भी सामने आ रही है।

‘बाल्टिमोर’, सायबर हमला, इटर्नल ब्ल्यू, hacking tool, बिटकॉईन्स, कंप्युटर नेटवर्क बंद , अमरिका, shadow brokersमई ७ के दिन बाल्टिमोर शहर की प्रशासकीय यंत्रणा पर बडा सायबर हमला किया गया। इस हमले से शहर प्रशासन के सभी कंप्युटर नेटवर्क बंद हुए है। शहर के लाखो लोगों को दी जा रही प्रशासन की ‘ऑनलाइन’ सेवा पूरी तरह से बंद है। इसमें पानी, स्वास्थ, संपत्ति जैसे कई विभागों के सेवा का समावेश है। पूरा नेटवर्क बंद होने पर एक संदेशे के जरिए फिरौती के तौर पर एक लाख डॉलर्स के बिटकॉईन जान करने की धमकी प्रशासन को दी गई है।

लेकिन, हैकर्स ने दी इस धमकी के आगे झुकने से प्रशासन ने इन्कार किया है। इस वजह से शहर में प्रशासन का कारोबार बंद पडा है और लाखों नागरिकों को इससे तकलिफ उठानी पड रही है। शहर के ‘आईटी’ विभाग ने नागरिकों को स्वतंत्र विकल्प उपलब्ध कराने के लिए कोशिश शुरू है, फिर भी इसमें पूरी सफलता प्राप्त नही हुई है। इस वजह से स्थानिय जनता में असंतोष बढ रहा है और जनप्रतिनिधि भी कडी नाराजगी व्यक्त कर रहे है।

शहर प्रशासन को बंधक बनाने वाले इस सायबर हमले के लिए अमरिका की गुप्तचर यंत्रणा के तौर पर पहचानी जा रही ‘नैशनल सिक्युरिटी एजन्सी’ ने तैयार किया ‘इटर्नल ब्ल्यू’ यह ‘हैकिंग टूल’ इस्तेमाल होने की बात उजागर हुई है। अमरिका के शीर्ष द न्यूयॉर्क टाईम्स ने इस संबंधी समाचार दिया है और इसमें पिछले वर्ष टेक्सास में हुए एक सायबर हमले का भी जिक्र किया गया है। टेक्सास प्रांत में ‘सैन एंटोनिओ’ शहर के प्रशासन पर भी इसी प्रकार सायबर हमला किया गया था।

नैशनल सिक्युरिटी एजन्सी का ‘इटर्नल ब्ल्यू’ यह हैकिंग टूल शुरूआती समय में मायक्रोसॉफ्ट कंपनी के ‘विंडोज’ इस ‘ऑपरेटिंग सिस्टिम’ में बनी कमी का लाभ उठाने के लिए इस्तेमाल किया गया था। लेकिन, वर्ष २०१७ में ‘शैडो ब्रोकर्स’ नाम के हैकर्स गुट ने ‘इटर्नल ब्ल्यू’ इंटरनेट पर उपलब्ध कराया था। इसके बाद दुनिया भर में हुए ‘रैन्समवेअर’ प्रकार के सायबर हमलों में भी इसका बडी मात्रा में इस्तेमाल हुआ है और बाल्टिमोर यह इसका ताजा नमूना है।

English     मराठी

 

इस समाचार के प्रति अपने विचार एवं अभिप्राय व्यक्त करने के लिए नीचे क्लिक करें:

https://twitter.com/WW3Info
https://www.facebook.com/WW3Info