Breaking News

राष्ट्राध्यक्ष ट्रम्प की ब्रिटेन यात्रा के दौरान ही अमरिका ने दी नाटो से बाहर होने की चेतावनी

ब्रुसेल्स – ‘यूरोपिय देशों की स्वतंत्र सेना का गठन करने जर्मनी और फ्रान्स ने शुरू की हुई गतिविधियों के विरोध में अमरिका ने कडी चेतावनी दी है। यूरोपिय देश स्वतंत्र सेना का गठन करने का प्लैन छोड दे, नही तो अमरिका नाटो से बाहर निकलेगी’, ऐसा अमरिका ने धमकाया है। अमरिका के रक्षा मंत्रालय ‘पेंटॅगॉन’ ने यूरोपिय महासंघ को दी हुई यह चेतावनी स्पेन के एक समाचार पत्र ने प्रसिद्ध किए समाचार के जरिए सामने लाई है। अमरिका के राष्ट्राध्यक्ष डोनाल्ड ट्रम्प की ब्रिटेन यात्रा शुरू है और इसी बीच यह समाचार प्रसिद्ध हुआ है।

अमरिका, नाटो से बाहर होने की चेतावनी, राष्ट्राध्यक्ष ट्रम्प, नाटो, अरबों डॉलर्स खर्च करने की तैयारी, ब्रुसेल्स, रशियालंदन स्थित अभ्यासगुट ‘इंटरनैशनल इन्स्टिट्युट फॉर स्ट्रॅटेजिक स्टडीज्’ (आईआईएसएस) ने हाल ही में प्रसिद्ध की हुई जानकारी के नुसार नाटो की ओर पीठ करके यूरोपिय देश अपनी स्वतंत्र सेना खडी करने के लिए अरबों डॉलर्स खर्च करने की तैयारी में है। नौसेना के लिए ११० अरब डॉलर्स और सेना के लिए ३५७ अरब डॉलर्स खर्चने का प्लैन जर्मनी और फ्रान्स ने रखा है, ऐसा इस अभ्यासगुट का कहना है। लेकिन, यूरोपिय देशों ने नाटो में रहकर इस लष्करी संगठन के खर्च का जिम्मा ले, यह अमरिकी राष्ट्राध्यक्ष डोनाल्ड ट्रम्प की मांग है।

अमरिका, नाटो से बाहर होने की चेतावनी, राष्ट्राध्यक्ष ट्रम्प, नाटो, अरबों डॉलर्स खर्च करने की तैयारी, ब्रुसेल्स, रशियाइसके पहले नाटो की बैठक में राष्ट्राध्यक्ष ट्रम्प ने नाटो जिम्मा संभालने से इन्कार कर रहे यूरोपिय देशों को फटकार लगाई थी। यूरोपिय देश अपना जिम्मा नही उठाते है तो अमरिका इस लष्करी संगठन से पीछे हटेगी, यह चेतावनी राष्ट्राध्यक्ष ट्रम्प ने दिया था। रविवार की रात ‘अल पायस’ इस स्पॅनिश समाचार पत्र ने प्रसिद्ध की हुई जानकारी में भी इसी मुद्दे पर अमरिका ने यूरोपिय महासंघ को फटकार लगाने की बात कही गई है। अमरिका के विदेश मंत्रालय में यूरोपिय देशों के लिए नियुक्त सहसचिव मायकल मर्फी इन्होंने यूरोपिय महासंघ को आखरी चेतावनी दी है।

यूरोपिय महासंघ अपने निर्णय में बदलाव नही करता है और अमरिका के डिफेन्स कॉन्ट्रॅक्टर समेत व्यवहार करने के लिए तैयार नही होता है तो अमरिका नाटो से पीछे हटेगी। अमरिका ने नाटो से बाहर होना यानी यूरोपिय देशों की सुरक्षा के लिए किए समझौते से अमरिका की वापसी साबित होती है। ऐसा होता है तो, रशिया के हमलों से यूरोपिय देशों की रक्षा करना अमरिका का जिम्मा नही रहेगा’, यह चेतावनी मर्फी इन्होंेन दी है।

पिछले महीने में मर्फी ने यूरोपिय महासंघ के अधिकारियों समेत हुई बैठक में यह चेतावनी दी थी। वही उससे पहले पेंटॅगॉन ने यूरोपिय महासंघ की विदेश नीति की प्रमुख फ्रेडरिका मोघेरिनी इन्हें भी इसी मुद्दे पर चेतावनी दी थी। इस दौरान यूरोपियन महासंघ के संयुक्त सेना का निर्माण करने की तैयारी जर्मनी और फ्रान्स ने शुरू की है। लेकिन, यूरोप के सभी देश इस निर्णय से सहमत नही है। ‘नाटो’ के भूतपूर्व प्रमुख अँड्रेस रासमुसेन इन्होंने यूरोपियन देशों को सच्चाई का अहसास कराया था। यूरोपियन सेना, यह नाम होनेवाली कागजी शेर के नही, बल्कि सामर्थ्यवान नाटो के साथ डटकर खडे रहे, यह निवेदन रासमुसेन इन्होंने किया था।

English   मराठी

इस समाचार के प्रति अपने विचार एवं अभिप्राय व्यक्त करने के लिए नीचे क्लिक करें:

https://twitter.com/WW3Info
https://www.facebook.com/WW3Info