Breaking News

चीन के विरोध में युद्ध शुरू करने पर फिलिपिन्स अमरिका का साथ देगा – फिलिपिन्स के राष्ट्राध्यक्ष रॉड्रिगो दुअर्ते

मनिला – ‘‘साउथ चाइना सी’ में अमरिकी लडाकू विमानों की तैनाती हो, अमरिकी युद्धपोत इस क्षेत्र में तैनात करें| चीन के विरोध में युद्ध का ऐलान करें| इस समुद्री संघर्ष में अमरिका ने पहली गोली दागी तो फिलिपिन्स चीन के विरोध में अमरिका का साथ देगा’’, यह वादा फिलिपिन्स के राष्ट्राध्यक्ष रॉड्रिगो दुअर्ते ने किया है| इस समुद्री क्षेत्र में चीन और फिलिपिन्स के बीच बना विवाद और बिगड रहा है और इस पृष्ठभूमि पर आक्रामकता के लिए जाने जा रहे राष्ट्राध्यक्ष दुअर्ते ने किए इस वक्तव्य को काफी बडी अहमियत प्राप्त हुई है|

फिलिपिन्स के राष्ट्राध्यक्ष, निवेदन, रॉड्रिगो दुअर्ते, साउथ चाइना सी, आरोप, WW3, अमरिका, चीन, पाग असा

पीछले कुछ सप्ताहों से ‘साउथ चाइना सी’ में बना विवाद फिर से उभर रहा है| कुछ दिन पहले चीन ने फिलिपिन्स के समुद्री क्षेत्र में ‘पाग असा’ द्विपों के निकट अपने विध्वंसक भिजवाए थे| साथ ही चीन ने वहां के समुद्र क्षेत्र में अपनी सीक्रट नौसेना तैनात की थी| चीन की इस आक्रामक रवैये के विरोध में राष्ट्राध्यक्ष दुअर्ते कडी भूमिका अपना नही रहे है, यह आलोचना फिलिपिन्स में हुई थी| राष्ट्राध्यक्ष दुअर्ते चीन के साथ बना सियासी एवं व्यापारी सहयोग बचाने के लिए देश की सुरक्षा के लिए खतरा बना रहे है, यह आरोप फिलिपिन्स के कुछ नेताओं ने किया था|

दो दिन पहले इस आलोचना को जवाब देते समय राष्ट्राध्यक्ष दुअर्ते ने अमरिका के सामने चीन पर हमला करें, यह निवेदन रखा था| ‘‘फिलिपिन्स कभी भी चीन के विरोध में युद्ध जीत नही सकता| फिलिपिन्स ने अपने समुद्री क्षेत्र के अधिकारों के लिए चीन के विरोध में युद्ध किया तो फिलिपिन्स को काफी बडा नुकसान उठाना होगा| फिलिपिन्स के पलावान प्रांत में चीन का पहला हमला होगा| इस वजह से मै मेरे सैनिकों को मृत्यु के दरवाजे में धकेल नही सकता’’, यह सीधा बयान करके राष्ट्राध्यक्ष दुअर्ते ने अमरिका के सामने अपनी भूमिका स्पष्ट की|

‘‘लेकिन, यदि अमरिका ने ‘साउथ चाइना सी’ के क्षेत्र में विमान और युद्धपोत भिजवाकर चीन के विरोध में युद्ध का ऐलान किया तो फिलिपिन्स अमरिका के पक्ष में इस युद्ध में शामिल होगा’’, यह ऐलान राष्ट्राध्यक्ष दुअर्ते ने किया है| इसके साथ ही राष्ट्राध्यक्ष दुअर्ते ने अमरिका और फिलिपिन्स में हुए ऐतिहासिक समझौते की याद भी करवाई है|

English मराठी

इस समाचार के प्रति अपने विचार एवं अभिप्राय व्यक्त करने के लिए नीचे क्लिक करें:

https://twitter.com/WW3Info
https://www.facebook.com/WW3Info