Breaking News

ईरान के सायबर हमले का जवाब देते समय इस्रायल नियमों की परवाह नहीं करेगा – इस्रायली न्यूज़ चॅनल का दावा

जेरुसलेम – अपने नागरी प्रकल्पों पर ईरान ने किये सायबर हमलों पर इस्रायल ने ग़ुस्सा ज़ाहिर किया है। ये हमले करके ईरान ने मर्यादा लाँघी होकर, अब इसका जवाब देते समय इस्रायल भी नियमों की परवाह नहीं करेगा, ऐसी चेतावनी इस्रायली नेता ने दी। इस पृष्ठभूमि पर, एक नेता की प्रतिक्रिया इस्रायली न्यूज़चॅनल ने प्रकाशित होकर, इस नेता ने यह चेतावनी दी, ऐसा इस न्यूज़चॅनल ने कहा है।

पिछले महीने में इस्रायल के जल और स्युएज प्रकल्प पर सायबर हमले की कोशिश हुई थी। इस्रायल की जलआपूर्ति करनेवाली यंत्रणा की ‘कमांड व कंट्रोल सिस्टिम्स’ पर लगातार दो दिन सायबरहमले की कोशिश की गयी। ईरानी हॅकर्स ने इसके लिए अमरिकी सर्व्हर्स का इस्तेमाल किया स्पष्ट हुआ था। इस्रायली यंत्रणाओं ने इसकी गंभीर दखल लेकर ये सायबर हमलें नाक़ाम कर दिये थे। लेकिन इस्रायल की सरकार ने इसपर बड़ी प्रतिक्रिया नहीं दी थी।

लेकिन इस्रायली न्यूज़चॅनल ने दी जानकारी के अनुसार, ईरान ने सायबर हमलों की पृष्ठभूमि पर इस्रायली नेताओं की उच्चस्तरीय बैठक संपन्न हुई। इसमें सहभागी हुए इस्रायली अधिकारियों से गोपनीयता की शपथ और फॉर्म भरकर लिया गया। इस कारण इस बैठक का विवरण सामने नहीं आ सका। लेकिन इस बैठक में सहभागी हुए एक नेता ने इस्रायली न्यूज़चॅनल से बात करते हुए, ईरान ने सायबर हमलें कर ‘रेड लाईन’ लाँघी है, ऐसा कहा है।

‘सार्वजनिक प्रकल्पों पर सायबर हमले करने तक ईरान की मजाल होगी, ऐसा नहीं लग रहा था। लेकिन ये हमलें कर ईरान ने युद्ध के संकेत ठुकराये हैं। ईरान के इन हमलों का जवाब दिया जायेगा’, ऐसी प्रतिक्रिया इस्रायली नेता ने दी, ऐसा इस न्यूज़चॅनल ने बताया। यह जवाब देते समय इस्रायल किसी भी नियम की परवाह नहीं करेगा, ऐसा दावा इस नेता ने किया है।

इसी बीच, कुछ साल पहले इस्रायल ने ‘स्टक्सनेट’ इस मालवेअर की सहायता से ईरान के परमाणु-कार्यक्रम को ही लक्ष्य किया था। स्टक्सनेट का इस्तेमाल करके ईरान के परमाणुप्रकल्प के कुछ हज़ार सेंट्रिफ्युजेस नाक़ाम कर दिये थे। इस सायबरहमले के कारण ईरान का परमाणुकार्यक्रम कई वर्षों से पिछड़ गया था। इस पृष्ठभूमि पर इस्रायली नेता ने, ईरान के सायबर हमले का जवाब देने के लिए दी हुई यह चेतावनी ईरान के लिए भयंकर परिणामों के संकेत देनेवाली साबित होती है।

मराठी    English

इस समाचार के प्रति अपने विचार एवं अभिप्राय व्यक्त करने के लिए नीचे क्लिक करें:

https://twitter.com/WW3Info
https://www.facebook.com/WW3Info