Breaking News

ईरान के साथ परमाणु समझौता करने से पहले अमरीका करेगी इस्रायल और अरब देशों से बातचीत – अमरीका के नए विदेशमंत्री ब्लिंकन

वॉशिंग्टन – ‘अमरीका की माँगें ईरान स्वीकारता है तो अमरीका भी ईरान के साथ परमाणु समझौता करने के लिए तैयार है। लेकिन, इससे पहले अमरीका इस विषय पर इस्रायल और अरब मित्रदेशों से बातचीत करेगी’, ऐसा ऐलान अमरीका के नए विदेशमंत्री एंथनी ब्लिंकन ने किया है। इसके साथ ही इस्रायल की सुरक्षा अमरीका के लिए बड़े सम्मान की बात है, यह भी ब्लिंकन ने अमरिकी सिनेट की ‘फॉरेन रिलेशन्स कमिटी’ के सामने स्पष्ट किया।

अमरीका के नए राष्ट्राध्यक्ष ज्यो बायडेन की विदेश नीति में सबसे अहम मुद्दा समझे जा रहे ईरान के परमाणु समझौते की ओर पूरे विश्‍व की नज़रें टिकी हैं। ईरान के साथ नए से परमाणु समझौता करने का ऐलान बायडेन ने पहले किया था। लेकिन, बीते दस दिनों में ईरान ने अपने परमाणु केंद्र में जारी गतिविधियां तीव्र करने के बाद बायडेन ने इस पर बयान करना टाल दिया था। लेकिन, बायडेन ने विदेशमंत्री के तौर पर नियुक्त किए हुए एंथनी ब्लिंकन ने मंगलवार के दिन अमरिकी सिनेट की ‘फॉरेन रिलेशन्स कमिटी’ के सामने बोलते समय बायडेन प्रशासन की ईरान से संबंधित भूमिका घोषित की।

बायडेन प्रशासन के साथ परमाणु समझौता करने के लिए उत्सुक ईरान पहले अमरीका की माँगें स्वीकार करे। अमरीका की शर्तों पर ईरान परमाणु समझौता करेगा तभी कदम आगे बढाना संभव होगा, यह बात ब्लिंकन ने स्पष्ट की। इसके साथ ही ‘यह परमाणु समझौता करने के लिए अमरीका को इस्रायल और अरब मित्रदेशों के सहयोग की आवश्‍यकता है। उनके साथ चर्चा के बाद ही ईरान के साथ परमाणु समझौता किया जाएगा’, यह बयान ब्लिंकन ने किया है। इस समझौते में खाड़ी क्षेत्र में अस्थिरता निर्माण करनेवाली ईरान की गतिविधियां और मिसाईलों का भी ज़िक्र होगा, यह बात भी ब्लिंकन ने दोहराई है।

इसके साथ ही बायडेन का प्रशासन ईरान को परमाणु हथियारों से सज्जित होने नहीं देगा, यह दावा भी ब्लिंकन ने किया है। इसके अलावा इस्रायल और पैलेस्टिन के मुद्दे पर भी अमरीका के नए विदेशमंत्री ने अपनी भूमिका स्पष्ट की है। इस्रायल, यूएई और बहरिन के बीच हुए अब्राहम समझौते का ब्लिंकन ने स्वागत किया। यह समझौता इस्रायल को अधिक सुरक्षित करेगा, यह विश्‍वास भी उन्होंने व्यक्त किया है। इसके साथ ही इस्रायल के जेरूसलम में अमरीका का दूतावास आगे भी कायम रहेगा, यह बात भी ब्लिंकन ने स्पष्ट की।

ईरान के राष्ट्राध्यक्ष हसन रोहानी ने डोनाल्ड ट्रम्प अमरीका के जुलमी राष्ट्राध्यक्ष थे, यह आरोप किया था। बायडेन अमरीका के योग्य राष्ट्राध्यक्ष हैं और ईरान को उनसे बड़ी उम्मीद है, यह बयान रोहानी ने किया। साथ ही वर्ष २०१५ में ओबामा प्रशासन ने किए परमाणु समझौते की बायडेन पुनरावृत्ती करें, यह आवाहन भी ईरान के राष्ट्राध्यक्ष ने किया। ईरान ने परमाणु समझौते को लेकर अपनी ज़िम्मेदारी निभाई है और इसके आगे का निर्णय बायडेन प्रशासन को करना है, इन शब्दों में राष्ट्राध्यक्ष रोहानी ने अमरीका परमाणु समझौते के लिए प्रतिबद्ध होने की बात ड़टकर कही।

इसी बीच, अमरीका के नए राष्ट्राध्यक्ष बायडेन द्वारा ईरान के मुद्दे पर कोई भी निर्णय करने से पहले हमें विश्‍वस्त करना होगा, यह माँग इस्रायल और सौदी अरब ने की थी।

English  मराठी

इस समाचार के प्रति अपने विचार एवं अभिप्राय व्यक्त करने के लिए नीचे क्लिक करें:

https://twitter.com/WW3Info
https://www.facebook.com/WW3Info