Breaking News

ईरान को परमाणु अस्त्र से सज्जित ना होने देने पर इस्रायल कायम – इस्रायल के प्रधानमंत्री की अमरीका के उप-राष्ट्राध्यक्षा को चेतावनी

वॉशिंग्टन/जेरूसलम – इस्रायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतान्याहू ने अमरीका की उप-राष्ट्राध्यक्षा कमला हैरिस के साथ फोन पर बातचीत की। दोनों देशों ने इस बातचीत को लेकर अलग अलग जानकारी साझा की है। ईरान के परमाणु कार्यक्रम को लेकर अमरीका इस्रायल के साथ सहयोग कर रही है, ऐसा उप-राष्ट्राध्यक्षा कमला हैरिस के दफ्तर ने स्पष्ट किया है। वहीं, इस बातचीत को लेकर इस्रायल ने जारी किए हुए बयान में ऐसा कहा गया है कि इस चर्चा के दौरान प्रधानमंत्री नेत्यान्याहू ने इस्रायल किसी भी स्थिति में ईरान को परमाणु अस्त्र से सज्जित होने ना देने की चेतावनी दी।

‘इंटरनैशनल क्रिमिनल कोर्ट’ (आयसीसी) ने दो दिन पहले ही इस्रायल के खिलाफ युद्ध अपराधिक मामले की जाँच करने का ऐलान किया है। ‘आयसीसी’ का यह ऐलान राजनीतिक उद्देश्‍य से प्रेरित है, यह बयान करके इस्रायल ने गुस्सा जताया था। इस पृष्ठभूमि पर, अमरीका की उप-राष्ट्राध्यक्षा कमला हैरिस ने इस्रायल के प्रधानमंत्री नेतान्याहू को फोन करने की जानकारी अमरीका ने सार्वजनिक की है। इस दौरान ईरान का परमाणु कार्यक्रम, इस्रायल में कोरोना वैक्सीन का टीकाकरण और आयसीसी के ऐलान पर चर्चा हुई। लेकिन, इस चर्चा के बारे में हैरिस के दफ्तर ने और इस्रायली सरकार ने जारी कीं जानकारियों में बड़ा फर्क दिख रहा है।

ईरान के परमाणु मुद्दे पर अमरीका और इस्रायल का जारी सहयोग आगे भी कायम रहेगा। साथ ही, इस क्षेत्र में ईरान की हो रहीं खतरनाक गतिविधियों पर भी बातचीत होने की बात उप-राष्ट्राध्यक्षा हैरिस के दफ्तर ने कही है। लेकिन, प्रधानमंत्री नेतान्याहू ने इस चर्चा के दौरान, ईरान के विषय पर काफी सख्त भूमिका अपनाने की जानकारी इस्रायली सरकार ने स्पष्ट की। ‘इस्रायल के विनाश के लिए ही ईरान परमाणु अस्त्र विकसित कर रहा है। इस कारण, चाहे कुछ भी हो, ईरान को परमाणु अस्त्र से सज्जित होने का अवसर इस्रायल प्राप्त करने नहीं देगा। इसके लिए इस्रायल प्रतिबद्ध है’, ऐसी फटकार प्रधानमंत्री नेतान्याहू ने लगाई होने की जानकारी इस्रायल ने प्रदान की है।

इससे पहले फ़रवरी महीने में अमरीका के राष्ट्राध्यक्ष ज्यो बायडेन ने इस्रायल के प्रधानमंत्री के साथ फोन पर बातचीत की थी। राष्ट्राध्यक्ष पद की शपथ ग्रहण करने के तीन हफ्ते बाद अमरिकी राष्ट्राध्यक्ष बायडेन ने इस्रायल के प्रधानमंत्री को फोन किया था। साथ ही अमरीका ने ईरान के साथ वर्ष २०१५ में किए परमाणु समझौते को दोबारा पुनर्जीवित ना करें, इस इस्रायल ने किए आवाहन पर भी बायडेन प्रशासन ने रिस्पान्स दिया नहीं है। इसके अलावा कुछ दिन पहले अमरिकी विदेशमंत्री एंथनी ब्लिंकन ने घोषित की विदेश नीति की प्राथमिकताओं में इस्रायल का ज़िक्र नहीं था। इस वजह से अमरीका का बायडेन प्रशासन, किसी समय अमरीका का मित्रदेश रहें इस्रायल को झटका देने की भूमिका अपना रहा है, यह दावा अन्तर्राष्ट्रीय माध्यमों ने किया था।

इसी बीच, कुछ घंटे पहले इस्रायल ने यह चेतावनी दी थी कि ईरान के परमाणु कार्यक्रमों पर हमलें करने के प्लैन को अपडेट किया जा रहा है। इसके साथ ही ईरान के खतरे के विरोध में, अरब देशों के साथ विशेष रक्षा सहयोग मुमकिन होने का ऐलान भी इस्रायल ने किया था। इसके बाद अमरीका की उप-राष्ट्राध्यक्षा हैरिस ने इस्रायल के प्रधानमंत्री को फोन किया होगा, ऐसा दिख रहा है।

मराठी

इस समाचार के प्रति अपने विचार एवं अभिप्राय व्यक्त करने के लिए नीचे क्लिक करें:

https://twitter.com/WW3Info
https://www.facebook.com/WW3Info