Breaking News

तैवान की सेना चीन का सामना नहीं कर सकेगी – चीन के सरकारी मुखपत्र का इशारा

बीजिंग – ‘तैवान ऐसे युद्ध के लिए चीन को चुनौती दे रहा है, जो युद्ध वह कभी भी जीत नहीं सकता। क्योंकि, चीन की सेना ने तैवान में प्रवेश करने के बाद उनकी ताकत के सामने तैवान के सैनिक ज्यादा समय तक लड़ नहीं पाएंगे’, ऐसा इशारा चीन के सरकारी मुखपत्र ने दिया। तैवान के विदेशमंत्री नें दो दिन पहले ही यह ऐलान किया था कि, तैवान आखिरी दिन तक चीन से युद्ध करेगा। इस पर चीन का सरकारी मुखपत्र यह धमकी देता हुआ दिख रहा है।

चीन ने बीते कुछ दिनों से तैवान के मुद्दे पर आक्रामक भूमिका अपनाकर अमरीका और अन्य देशों को धमकाना शुरू किया है। चीन के विमान वाहक ‘लिओनिंग’ युद्धपोत ने चार दिन पहले ही अपने विध्वंसकों के बेड़े के साथ तैवान की खाड़ी में गश्‍त लगाई थी। इस दौरान चीन के लड़ाकू विमानों ने भी तैवान की हवाई सीमा के करीब उड़ान भरी थी। तैवान की समुद्री और हवाई सीमा को चुनौती देने के बाद चीन ने, ऐसी कार्रवाई आगे भी जारी रहेगी, यह ऐलान किया था।

चीन के युद्धपोत की इस गश्‍त के बाद तैवान के विदेशमंत्री जोसेफ वू ने चीन से तीखे सवाल किए थे। तैवान पर कब्ज़ा करने के लिए चीन जल्द ही हमला कर सकता है, इसका हमें अहसास है। तैवान पर चीन का हमला होने की संभावना खतरनाक स्तर पर पहुँची है, यह बात अमरिकी अफसरों के बयान से सामने आ रही है। ऐसा होता है तो चीन के हमलों का सामना करने के लिए तैवान तैयार है। तैवान की सुरक्षा के लिए आखिरी दिन तक लड़ना पड़ा तब भी हम लड़ेंगे’, ऐसा ऐलान विदेशमंत्री वू ने किया था।

इस पर चीन की प्रतिक्रिया प्राप्त हुई है। ‘चीन की नौसेना ने तैवान की सीमा के करीब किया युद्धाभ्यास मात्र इशारा नहीं है, बल्कि चीन के सामर्थ्य का प्रदर्शन है। साथ ही आनेवाले दिनों में तैवान को चीन में शामिल करने का व्यावहारिक नज़रिये से किया गया प्रपंच था। इस वजह से चीन की सेना जब भी तैवान में कदम रखेगी, तब तैवान की सेना उसका सामना नहीं कर सकेगी’, ऐसा चीन के मुखपत्र ने धमकाया है। साथ ही चीन के हमले के खिलाफ तैवान ने किए युद्धाभ्यास पर भी इस मुखपत्र ने आलोचना की है।

English  मराठी

इस समाचार के प्रति अपने विचार एवं अभिप्राय व्यक्त करने के लिए नीचे क्लिक करें:

https://twitter.com/WW3Info
https://www.facebook.com/WW3Info