Breaking News

ईरान ने मिसाइल दागने के बाद अमरिकी बॉम्बर्स ने लगाई इस्रायल-पर्शियन खाड़ी में गश्‍त

बैरूत – अमरीका के दो ‘बी-५२ बॉम्बर’ विमानों ने इस्रायल की सीमा से पर्शियन खाड़ी में गश्‍त लगाई है। अमरिकी बॉम्बर्स ने लगाई यह गश्‍त इस्रायल समेत सौदी अरब, यूएई, बहरिन जैसे अपने मित्रदेशों को आश्‍वस्त करने के लिए होने का दावा किया जा रहा है। ईरान ने दो दिन पहले ही हिंद महासागर क्षेत्र में लंबी दूरी के मिसाइल दागे थे। इस क्षेत्र में तैनात अमरीका की विमान वाहक युद्धपोत को और खाड़ी क्षेत्र में अमरीका के मित्रदेशों को धमकाने के लिए ईरान ने इस कार्रवाई को अंजाम दिया, ऐसा कहा जा रहा है। इसके बाद अमरीका के बॉम्बर विमानों ने यह गश्‍त लगाकर ईरान को प्रत्युत्तर दिया है।

अमरिकी बॉम्बर्स, गश्‍त, बी-५२, विमान, युद्धसराव, ईरान, अमरीका, युएसएस निमित्झ, TWW, Third World War

बीते डेढ़ महीने में अमरीका ने पर्शियन खाड़ी में कम से कम छह ‘बी-५२ बॉम्बर’ विमानों की तैनाती की है। इनमें से दो बॉम्बर विमानों ने रविवार को इस क्षेत्र में अपनी ‘प्रेज़ेन्स पैट्रोल’ पूरी की। संबंधित क्षेत्र के मित्रदेशों को आश्‍वस्त करने के लिए एवं अपने हितसंबंधों के लिए खतरे वाले इशारे देने के लिए ‘प्रेज़ेन्स पैट्रोल’ किया जाता है। अमरिकी बॉम्बर विमानों की यह गश्‍त इसी प्रकार की है। इस्रायली अखबार ने अमरीका के इन बॉम्बर्स की गश्‍त की खबर प्रसिद्ध की। इसके बाद अमरिकी सेना ने ‘प्रेज़ेन्स पैट्रोल’ की जानकारी साझा की।

‘काफी कम समय में तैनाती के लिए तैयार होनेवाले और सामरिक नज़रिये से बड़ी अहमियत रखनेवाले यह ‘बॉम्बर्स’ इस क्षेत्र में अमरीका की सुरक्षा की भूमिका में बड़ा अहम हिस्सा संभालते हैं’, यह जानकारी अमरीका की ‘सेंटकॉम’ के प्रमुख जनरल फ्रैंक मैकेंजी ने साझा की। बीते कुछ सप्ताहों में अमरिकी बॉम्बर्स ने इस क्षेत्र में पूरी की हुई यह पांचवी गश्‍त होन का दावा खाड़ी क्षेत्र के माध्यम कर रहे हैं। तभी, ‘बी-५२ बॉम्बर’ विमानों ने इस क्षेत्र में लगाई यह हुई दूसरी गश्‍त होने की बात अमरिकी सेना ने कही है।

अमरिकी बॉम्बर्स, गश्‍त, बी-५२, विमान, युद्धसराव, ईरान, अमरीका, युएसएस निमित्झ, TWW, Third World War

बीते सप्ताह में ईरान ने अपने युद्धाभ्यास के दौरान लंबी दूरी के दो मिसइल हिंद महासागर क्षेत्र में दागे थे। इनमें से एक मिसाइल व्यापारी जहाज़ से मात्र २० मील दूरी पर गिरी। दूसरी मिसाइल ‘यूएसएस निमित्ज़’ इस विमान वाहक परमाणु युद्धपोत से १०० मील दूरी पर गिरी। अमरिकी युद्धपोत और यह मिसाइल गिरने के बीच काफी दूरी थी। लेकिन, इस कार्रवाई के माध्यम से ईरान ने अमरीका के युद्धपोतों को और खाड़ी क्षेत्र में अमरिकी मित्रदेशों को इशारा दिया है, ऐसा दावा ईरानी वृत्तसंस्था ने किया था। इसके बाद अमरीका ने इस्रायल से पर्शियन खाड़ी तक अपने ‘बॉम्बर्स’ की गश्‍त पूरी करके इस क्षेत्र के अपने मित्रदेशों को आश्‍वस्त किया है, यह दावा किया जा रहा हैं।

इसी बीच, कम से कम २० परमाणु अस्त्र, क्रूज़ एवं अन्य मिसाइलों के साथ उड़ान भरने की क्षमता हरएक ‘बी-५२ बॉम्बर’ रखता है। सब-सोनिक गति से उड़ान भरनेवाले इन विमानों के साथ अमरीका ने पर्शियन खाड़ी क्षेत्र में अपने परमाणु पनडुब्बी और विध्वंसक भी तैनात किए हैं।

English  मराठी

इस समाचार के प्रति अपने विचार एवं अभिप्राय व्यक्त करने के लिए नीचे क्लिक करें:

https://twitter.com/WW3Info
https://www.facebook.com/WW3Info