‘इदलिब’ में सीरियन सेना ने तुर्की की सुरक्षा चौकी को घिरा

बैरूत – इदलिब प्रांत में बडी लष्करी मुहीम में व्यस्त सीरियन सेना ने ‘अलसुरमन’ में बनी तुर्की की सुरक्षा चौकी को घेर रखा है| सीरियन सेना ‘अलसुरमन’ पर नियंत्रण प्राप्त करने के लिए तुर्की के सैनिकों पर हमलें किए, यह दावा हो रहा है| इसी बीच इदलिब में हो रहे संघर्ष के मुद्दे पर रशिया और तुर्की के बीच भी मतभेद होने की खबरें सामने आ रही है|

पिछले वर्ष किए गए युद्धविराम तोडकर सीरियन सेना ने उत्तरी इदलिब प्रांत में अबतक की सबसे बडी लष्करी मुहीम की शुरूआत की है| इस मुहीम के अंतर्गत सीरिया एवं रशिया ने इदलिब में अहम जगहों पर हवाई हमलें किए है और अधिकांश क्षेत्र पर कब्जा करने का दावा किया है| सोमवार के दिन सीरियन सेना ने इदलिब के आग्नेय की ओर अलसुमरन और जरजानाझ इन शहरों की दिशा में अपना रुख मोडा है| इनमें से जरजानाझ शहर पर सीरियन सेना ने कब्जा किया| तभी ‘अलसुमरन’ शहर में सीरियन सेना ने बडी मात्रा में तैनाती की है|

‘अलसुमरन’ शहर में तुर्की ने सुरक्षा चौकी बनाई है| पिछले वर्ष रशिया और तुर्की के बीच हुए समझौते के अनुसार इदलिब प्रांत में १२ जगहों पर तुर्की के सैनिक एवं तुर्की से जुडे बागी तैनात है| इदलिब में अपने हितसंबंधों की सुरक्षा के लिए यह तैनाती होने का दावा तुर्की कर रहा है| पर, इदलिब के ईंधन पर कब्जा करने के लिए तुर्की ने इस प्रांत में डेरा जमाया होने का आरोप सीरिया की अस्साद हुकूमत कर रही है| इसी के लिए तुर्की ने इदलिब में अस्सादविरोधी बागियों की तैनाती की है, यह दावा सीरियन सेना कर रही है| ऐसी स्थिति में इदलिब में मुहीम कर रही सीरियन सेना ने ‘अलसुमरन’ में तुर्की की सुरक्षा चौकी को घेरकर इशारा दिया दिखाई दे रहा है|

सीरियन सेना ने तुर्की के सैनिकों के विरोध में पहले भी इस तरह की कार्रवाईयां की थी| इस वर्ष अगस्त महीने में भी सीरियन सेना ने ‘मोरेक’ शहर में बनाई तुर्की की सुरक्षा चौकी को घेर रखा था| सीरियन सेना की कार्रवाई से मोरेक में तुर्की के सैनिकों का कमांड सेंटर एवं तुर्की से जुडे सीरियन बागियों से बना संपर्क टुट चुका था| आगे तुर्की ने रशिया से समझौता करके मोरेक का कब्जा सीरियन सेना के हाथ देकर अपने सैनिकों की रिहाई की थी|

पर, अलसुमरन के मुद्दे पर सीरिया एवं रशिया अभी तुर्की के साथ समझौता करने के लिए तैयार ना होने के संकेत प्राप्त हो रहे है| इदलिब से तुर्की को भगाने के मुद्दे पर सीरियन हुकूमत और कुर्दों के बीच सहमति बनी है| तभी, पिछले दो दिनों से हो रही रशिया और तुर्की की बातचीत भी असफल साबित होने की खबरें प्रसिद्ध हो रही है| सीरिया एवं लीबिया के संघर्ष को लेकर रशिया और तुर्की के बीच गंभीर मतभेद बने है| इसका असर अगले दिनों में सामने आने की संभावना है| इसकी शुरूआत सीरिया के इदलिब से हुई है, यह संकेत भी स्पष्ट तौर पर प्राप्त हो रहे है|

English मराठी

इस समाचार के प्रति अपने विचार एवं अभिप्राय व्यक्त करने के लिए नीचे क्लिक करें:

https://twitter.com/WW3Info
https://www.facebook.com/WW3Info