हमास के नेताओं को लक्ष्य करने के लिए इस्राइल ने किए गाज़ा पर हवाई हमले

  • गाज़ा से इस्राइल पर हुए तीन हज़ार रॉकेट हमले
  • इस्राइल ने ठुकराई युद्धविराम की संभावना

जेरूसलम – ‘हमास के रॉकेट हमलों की वजह से इस्राइल की जनता बंकर्स में रात गुजार रही है, ऐसे में हम हमास के नेताओं को भी शांति से जीने नहीं देंगे’, ऐसा इशारा इस्राइल के रक्षामंत्री बेनी गांत्ज़ ने दो दिन पहले ही दिया था। गाज़ापट्टी में स्थित हमास का प्रमुख याह्या सिन्वर का घर ध्वस्त करके इस्राइल ने अपना इशारा सच्चाई में उतारा है। सिन्वर इस हमले में बाल-बाल बचा होने की बात कही जा रही है। हमास के अन्य नेताओं को टार्गेट करने के लिए भी इस्राइल ने कार्रवाई शुरू की है। रविवार का दिन शुरू होने से पहले इस्राइल के हवाई हमलों में 30 लोगों के मारे जाने का आरोप हमास से संबंधित स्वास्थ्य यंत्रणा कर रही है।

गाज़ा पर हवाई हमले

बीते दो दशकों के दौरान इस्राइल पर इतनी बड़ी संख्या में रॉकेट हमले नहीं हुए हैं, ऐसा इस्राइली सेना ने कहा है। वर्ष 2019 में इस्लामिक जिहाद संगठन ने तीन दिनों के संघर्ष के दौरान इस्राइल पर 570 रॉकेट हमले किए थे। इससे पहले, वर्ष 2006 में लेबनान में स्थित हिज़बुल्लाह ने 19 दिनों के संघर्ष के दौरान लगभग 4,500 रॉकेट्स की बौछार की थी। लेकिन, मौजूदा संघर्ष में मात्र छह दिनों के दौरान हमास और इस्लामिक जिहाद ने गाज़ापट्टी से इस्राइल पर तीन हज़ार रॉकेट हमले किए हैं।

साथ ही हमास ने सीधे जेरूसलम और अतिसंवेदनशील ठिकानों की दिशा में रॉकेट्स दागे थे। इस वजह से पहले की तुलना में इस्राइल पर हो रहे इन रॉकेट हमलों की तीव्रता बढ़कर खतरनाक स्तर पर जा पहुँचने के मुद्दे पर इस्राइली सेना ने ध्यान आकर्षित किया है। इनमें से लगभग 600 रॉकेट्स गाज़ापट्टी में ही गिरे हैं और इससे पैलेस्टिनी नागरिकों के ही जान का नुकसान हुआ है। लेकिन, हमास इसकी परवाह नहीं कर रहा है, इससे हमास की मनोवृत्ति पर ध्यान देना होगा, यह बात इस्राइल के राजनीतिक अफसर कह रहे हैं।

बीते चौबीस घंटों के दौरान हमास ने इस्राइल पर 130 रॉकेट हमले किए। गाज़ा से हो रहे इन रॉकेट हमलों के मुद्दे पर इस्राइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेत्यान्याहू ने गुस्सा व्यक्त किया है। ‘इस्राइली जनता पर सैंकड़ों रॉकेट हमले करनेवाले हमास के नेता केवल गाज़ापट्टी में ही नहीं, बल्कि विश्‍व के किसी भी कोने में सुरक्षित नहीं रहेंगे’, ऐसी सख्त चेतावनी प्रधानमंत्री नेत्यान्याहू ने दी है। इसके बाद इस्राइल ने गाज़ा स्थित हमास के राजनीतिक एवं अल-कासम ब्रिगेड़ के वरिष्ठ नेताओं से कमांडर पद के अफसरों को लक्ष्य करना शुरू किया हैं।

शनिवार की कार्रवाई के दौरान इस्राइल ने हमास के दो नेताओं के घर ध्वस्त किए। इनमें हमास का प्रमुख याह्या सिन्वर और उसका भाई मुहम्मद सिन्वर के घरों का समावेश है। याह्या के घर में हथियारों का भंड़ार छुपाया गया था, यह आरोप भी इस्राइली सेना लगा रही है। मुहम्मद सिन्वर हमास के लॉजिस्टिक विभाग का प्रमुख था। इसके अलावा इस्राइल ने गाज़ा में बनाए गए भूमिगत सड़कों के और एक नेटवर्क पर मिसाइल हमले करने का दावा किया है।

इस कार्रवाई से पहले इस्राइल के प्रधानमंत्री नेत्यान्याहू और अमरीका के राष्ट्राध्यक्ष ज्यो बायडेन की फोन पर बातचीत हुई। गाज़ा में आतंकी संगठनों पर जारी कार्रवाई आगे भी जारी रहेगी। लेकिन, इसमें निर्दोष पैलेस्टिनी जनता को जान का नुकसान ना पहुँचे, यह ध्यान रखा जाएगा, यह वादा इस्राइल के प्रधानमंत्री ने किया।

इसी बीच रविवार के दिन इस्राइल ने गाज़ा में किए हवाई हमलों में हमास 30 लोगों के मारे जाने का आरोप लगा रहा है। बीते छह दिनों के संघर्ष के दौरान 181 पैलेस्टिनी मारे गए हैं और इनमें 52 बच्चों का भी समावेश होने का आरोप हमास से संबंधित स्वास्थ्य यंत्रणा लगा रही है। इसी बीच हमारी कार्रवाई में मारे जानेवालों में 110 से अधिक हमास के आतंकी होने का बयान इस्राइल कर रहा हैं। इसके साथ ही शनिवार के दिन ध्वस्त की गई गाज़ा स्थित ‘अल-जाला’ इमारत में अंतरराष्ट्रीय माध्यमों के दफ्तरों के साथ ही हमास का ठिकाना भी था, ऐसा आरोप इस्राइल ने लगाया है। अपने इस आरोपों की पुष्टि करनेवाले सबूत भी इस्राइल ने अमरीका के विशेषदूत हैडी अम्र को प्रदान किए हैं।

English  मराठी

इस समाचार के प्रति अपने विचार एवं अभिप्राय व्यक्त करने के लिए नीचे क्लिक करें:

https://twitter.com/WW3Info
https://www.facebook.com/WW3Info