‘डीआर काँगो’ में आतंकवादियों ने करवाये भयंकर हत्याकांड में ६० लोगों की मौत

DR Congo

किन्शासा – अफ्रीका के ‘डीआर काँगो’ में आतंकवादियों ने करवाई भीषण हत्याकांड में ६० लोगों की मौत हुई है। युगांडा की सीमा के पास होने वाले इतुरी प्रांत के दो गांव में हत्याकांड होने की जानकारी स्थानिक सूत्रों ने दी। ‘आयएस’ से जुड़े ‘एडीएफ’ आतंकवादी संगठन में पिछले 10 दिनों में करवाया यह दूसरा हत्याकांड है। इससे पहले बेनी शहर के पास करवाए हत्याकांड में 33 लोगों की जान गई थी।

‘डीआर काँगो’

संयुक्त राष्ट्र संगठन ने सोमवार को जारी किए निवेदन में से हत्याकांड की जानकारी सामने आई है। रविवार रात को ‘एडीएफ’ के आतंकवादियों ने ‘शाबी’ और ‘बोगा’ एक गांव में एक के बाद एक ऐसे हमले किये हैं। शाबी में करवाए हत्याकांड में कम से कम २४ लोगों की मौत हुई है। वहीं, बोगा में विस्थापितों की छावनी में किए इन हमले में ३६ लोगों की जान गई बताई जाती है। दोनों गाँवों के घरों को आग लगाई गई होकर, कईयों का अपहरण किया होने के बात भी संयुक्त राष्ट्र संगठन ने स्पष्ट की।

‘डीआर काँगो’

स्थानीय सूत्रों ने दी जानकारी के अनुसार, पूर्वीय काँगो में पिछले चार सालों में हुआ यह सबसे भीषण हत्याकांड है। पिछले दो सालों में ‘एडीएफ’ इस आतंकवादी संगठन ने तथा अन्य विद्रोही गुटों ने ‘डीआर काँगो’ को बड़े पैमाने पर लक्ष्य करने की शुरुआत की है। इस साल के पहले पाँच महीनों में ही ‘डीआर काँगो’ में हमलों की तकरीबन ८० घटनाएँ घटित हुईं होकर, उनमें लगभग ६०० लोगों की जानें गईं हैं।

‘एडीएफ’ तथा अन्य गुटों के खिलाफ स्थानीय लष्कर और युगांडा ने व्यापक मुहिम भी चलाई थी। लेकिन के बाद आतंकवादी संगठन फिर से आक्रमक हुआ होकर सुरक्षा यंत्रणा हमले रोकने में असफल साबित होने की बात दिख रही है। कुछ दिन पहले इतुरी और किवु प्रांतों में ‘मार्शल लॉ’ भी लागू किया गया था। लेकिन उसके बाद भी बड़े हमले होने की बात सामने आई है। पिछले १० दिनों में हुए दो बड़े हत्याकांड के बाद ‘डीआर काँगो’ तथा युगांडा फिर से संयुक्त मुहिम हाथ में लेंगे, ऐसे संकेत भी दिए जा रहे हैं।

अफ्रीका में सर्वाधिक खनिज संपत्ती होने वाले देशों में ‘डीआर काँगो’ का समावेश होता है। नौं करोड़ से भी अधिक आबादी होनेवाले इस देश में कोबाल्ट, हीरे, तांबा तथा ‘कोल्टन’ की बड़ी खदानें हैं। एक रिपोर्ट के अनुसार, इस देश में लगभग २४ ट्रिलियन डॉलर्स इतनी प्रचंड खनिजसंपत्ती है।

English      मराठी

इस समाचार के प्रति अपने विचार एवं अभिप्राय व्यक्त करने के लिए नीचे क्लिक करें:

https://twitter.com/WW3Info
https://www.facebook.com/WW3Info