Breaking News

सीरिया में इदलिब की कार्रवाई को लेकर रशिया द्वारा अमेरीका को कडी चेतावनी

मॉस्को – ‘सीरिया के इदलिब में आतंकी मतलब शरीर पर लगा हुआ फोडा है। उसे नष्ट करना जरूरी है। इसलिए इदलिब की कार्रवाई शुरू रहते समय कोई भी रुकावट पैदा ना करे’, ऐसी कडी चेतावनी रशिया के विदेश मंत्री सर्जेई लॅव्हरोव्ह ने दी। रशियन विदेश मंत्री ने ये चेतावनी देते हुए किसी भी देश का नाम नहीं लिया फिर भी इदलिब की कार्रवाई को विरोध करने वाले अमेरीका और यूरोपीय दोस्त राष्ट्रों को रशियन विदेश मंत्री ने धमकाया ऐदा दिखाई देता है। दौरान, रशियन युद्धपोतों का काफिला भूमध्य सागर में दाखिल हो चुका है, वहीं सीरियन सेना ने इदलिब को घेराव डाला है। अगले २४ घंटों में यहा घनघोर संघर्ष छिडेगा, ऐसे संकेत रशिया से दिए जा रहे है।

इदलिब, कार्रवाई, सर्जेई लॅव्हरोव्ह, USS Ross, युद्धपोत, आतंकी, संघर्ष, ww3, रशिया, नाटो

रशिया का आरोप है कि, सीरिया में रासायनिक हमलों का नाट्य खडा करने के लिए अमेरीका और दोस्त राष्ट्रों ने साजिश रची है। सीरिया के अस्साद हुकूमत पर इस हमले का इल्जाम रख कर सैनिकी कार्रवाई करने के लिए अमेरीका और दोस्त राष्ट्रों की युद्धपोत और सेना तैयार बैठी है। पश्‍चिमी दोस्त राष्ट्रों की करीब ७० सैनिकी मोटारे सीरिया पर हमले के लिए तैयार होने का इल्जाम रशिया के विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता मारीया झाखारोव्हा ने रखा। इसमें भूमध्य सागर में तैनात अमेरीका की ‘युएसएस रॉस’ और सहायक युद्धपोत शामिल है, जिनकी करीब ३८० प्रक्षेपास्त्र सीरिया की ओर रूख करे हुए है, ऐसा दावा झाखारोव्हा ने किया।

रशिया के ये आरोप अमेरीका के रक्षा मुख्यालय ‘पेंटॅगॉन’ ने खारीज किए। वहीं रशिया के विदेश मंत्री लॅव्हरोव्ह ने अमेरीका और दोस्त राष्ट्रों को चेतावनी दी। सीरिया के उत्तरी इदलिब में आतंकीयों के खिलाफ कार्रवाई की पूरी तैयार हो चुकी है, ऐसा लॅव्हरोव्ह ने घोषित किया। ‘इदलिब ये सिरिया में आतंकियों का आखिरी बेस है। ये आतंकी पिछले वर्ष यहॉं पर लागू किए गए संघर्ष विराम का फायदा उठाने की तैयारी में है। इदलिब की जनता को मानवी ढाल बनाते हुए आतंकी भागने की कोशिश में है। ये आतंकी फोडे जैसे है जिन्हें खत्म करना ये अपनी नैतिक जिम्मेदारी है’, ऐसा लॅव्हरोव्ह ने कहा।

लॅव्हरोव्ह ने कहा कि, विद्रोहियों की उत्तेजना की ओर पश्‍चिमी देश ध्यान ना दे। सीरिया के समुद्री तट पर रशिया की १३ युद्धपोत और २ पनडुब्बीयों का काफिला दाखिल होने के बाद रशिया के विदेश मंत्री ने ये घोषणा करते हुए पश्‍चिमी देशों को चेतावनी दी, ऐसा दावा यूरोप के विशेषज्ञ और मिडिया कर रहे है। वहीं भूमध्य सागर में दाखिल हुई और कॅलिबर प्रक्षेपास्त्रों से लैस रशियन युद्धपोत से सीरिया की स्थिती नहीं बिघडेगी, ऐसी आलोचना ‘नाटो’ की प्रवक्ता ‘ओआना लुंगेसू’ ने की।

English मराठी

इस समाचार के प्रति अपने विचार एवं अभिप्राय व्यक्त करने के लिए नीचे क्लिक करें:

https://twitter.com/WW3Info
https://www.facebook.com/WW3Info